304 मैं केवल सत्य पाना चाहती हूँ और अब पतित नहीं होऊँगी

मैंने दुनिया के अंधेरे और बुराई को स्पष्ट रूप से देखा है,

और मैं अब इसके रुझानों का निरुद्देश्य अनुसरण करने के लिए तैयार नहीं हूँ।

अपने दिल में यह जान लेने के बावजूद कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही लोगों को बचा सकता है,

मैं सत्य को स्वीकार करने और उसका अनुसरण करने में असमर्थ क्यों हूँ?

मैं अपने गलत तरीकों से चिपकी रहकर अलग क्यों रहती हूँ?

क्या मैं सचमुच इतनी नीचे गिर गयी हूँ?

क्या मैं मूर्खता और अज्ञानता से नष्ट हो जाऊँगी?

मैंने आपदाओं को घटित होते देखा और अपने सपने से चौंक कर जाग गयी।

मैं इतनी नकारात्मक और गिरी हुई नहीं रहना चाहती।

मैं जोश के साथ उठूँगी;आज अपने पैरों पर खड़ी हो जाऊँगी,

कायर नहीं, बल्कि योद्धा बनूँगी।

मैं केवल सत्य हासिल करके मसीह के लिए लड़ना चाहती हूँ।

मैं परमेश्वर के लिए गवाही देने,उसका आज्ञापालन और आजीवन उसका अनुसरण करने के लिए तैयार हूँ।

पिछला: 303 मसीह का अनुसरण करना परमेश्वर द्वारा नियत है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें