612 ईश्वर की सेवा करने वाला बनने के लिए क्या चाहिए

1

अगर तुम ईश-वचन खाने-पीने में परिणाम पाना चाहो,

तो त्यागो धर्म से जुड़ी सभी धारणाओं को।

ईश्वर की सेवा करने के लिए ज़रूरी है ये करना,

और हर पल ईश-वचनों का पालन करना।

अगर तुम ये नहीं जानते, तो सेवा करते हुए बाधा डालोगे।

ऐसा रहा, तो गिरा दिये जाओगे, उठ न पाओगे ।

बाइबल से और पहले से अलग है अब ईश्वर का ये काम;

अगर तुमने पालन न किया, तो कभी भी गिर पड़ोगे।

ईश्वर की सेवा करने वाला बनने के लिए ज़रूरी है

कि तुम अनुसरण कर सको ईश्वर के दिल का,

ईश्वर के उपयोग के लायक हो,

त्याग सको धर्म से जुड़ी सभी धारणाओं को।

ईश्वर की सेवा के लिए यही चाहिए।

2

ईश-इच्छा के अनुरूप सेवा करने को, अपनी सोच को सुधारो।

जो कहा जाएगा, न होगा वो पहले कहे गए जैसा।

गर आज्ञापालन का इरादा नहीं है तुममें,

तो आगे की राह पर नहीं चल पाओगे।

ईश्वर की सेवा करने वाला बनने के लिए ज़रूरी है

कि तुम अनुसरण कर सको ईश्वर के दिल का,

ईश्वर के उपयोग के लायक हो,

त्याग सको धर्म से जुड़ी सभी धारणाओं को।

ईश्वर की सेवा के लिए यही चाहिए।

ईश्वर के काम करने का कोई तरीका जो जड़ें जमा ले तुममें,

जो तुम उसे कभी न छोड़ो, तो वो धारणा बन जाएगा।

अगर ईश्वर का स्वरूप जड़ें जमा ले तुममें, तो सत्य पा लोगे तुम।

जो बन जाएँ जीवन तुम्हारा ईश-वचन और सत्य,

तो तुममें ईश्वर की धारणाएँ न रहेंगी।

ईश्वर का सच्चा ज्ञान होने पर, तुम सिद्धांत पर टिके न रहोगे।

ईश्वर की सेवा करने वाला बनने के लिए ज़रूरी है

कि तुम अनुसरण कर सको ईश्वर के दिल का,

ईश्वर के उपयोग के लायक हो,

त्याग सको धर्म से जुड़ी सभी धारणाओं को।

ईश्वर की सेवा के लिए यही चाहिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'जो परमेश्वर के आज के कार्य को जानते हैं केवल वे ही परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 611 परमेश्वर की सेवा करने के लिए तुम्हें उसे अपना हृदय अर्पित करना चाहिए

अगला: 613 कलीसिया की अगुआई के लिए किसकी आवश्यकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें