322 परमेश्वर इंसान से क्या पाता है?

ईश्वर प्रेम, करुणा और अपनी योजना की वजह से इंसान को बचाए।

चूँकि गिर गया इंसान, ख़ुद ही बात करनी होगी ईश्वर को।

1

महान अनुग्रह है इंसान के लिये उद्धार पाना।

ईश-वाणी न हो, तो बर्बाद हो जाए इंसान।

ईश्वर को घृणा है इंसानी नस्ल से,

फिर भी वो तैयार है इंसान के उद्धार की कीमत चुकाने को।

इंसान ईश्वर से प्रेम का ढोंग करे, उससे जबरन अनुग्रह ले, विद्रोह करे,

(इंसान) ईश्वर को आहत करे, भयंकर दुख भी दे।

स्वार्थी इंसान और निस्स्वार्थ ईश्वर में यही बड़ा अंतर है!

हर ईश-वचन से इंसान सत्य पाए, उसमें बदलाव आए, वो जीवन की दिशा पाए।

बदले में इंसान ईश्वर को ज़रा-सी प्रशंसा दे, तुच्छ शब्दों से आभार जताए।

क्या ईश्वर इंसान से ऐसा प्रतिफल चाहे?

2

इंसान ईश्वर को शायद अपने जैसा ही समझे।

ईश्वर को बड़ा दुख हो जब वो आकर काम करे, और इंसान उसे नकारे।

इंसान को बचाने के लिए ईश्वर अपमान सहे।

वो इंसान को बचाने के लिए सब-कुछ करे, चाहे कि वो उसे स्वीकारे।

इसके लिए ईश्वर ने चुकाई जो कीमत, उसे समझ सकें ज़मीर वाले।

इंसान ने ईश-वचन, कार्य और उसका उद्धार पाया है।

मगर कभी किसी ने पूछा नहीं:

ईश्वर ने इंसान से क्या पाया? ईश्वर ने इंसान से क्या पाया?

हर ईश-वचन से इंसान सत्य पाए, उसमें बदलाव आए, वो जीवन की दिशा पाए।

बदले में इंसान ईश्वर को ज़रा-सी प्रशंसा दे, तुच्छ शब्दों से आभार जताए।

क्या ईश्वर इंसान से ऐसा प्रतिफल चाहे?

हर ईश-वचन से इंसान सत्य पाए, उसमें बदलाव आए, वो जीवन की दिशा पाए।

बदले में इंसान ईश्वर को ज़रा-सी प्रशंसा दे, तुच्छ शब्दों से आभार जताए।

क्या ईश्वर इंसान से ऐसा प्रतिफल चाहे?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'आरंभ में मसीह के कथन' की परिचय से रूपांतरित

पिछला: 321 परमेश्वर उन्हें कैसे माफ़ कर सकता है जो उसके वचनों को त्याग देते हैं?

अगला: 323 लोग परमेश्वर से परमेश्वर जैसा बर्ताव नहीं करते

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें