44 हम परमेश्वर के घर में इकट्ठा होते हैं

1

हम परमेश्वर के घर में इकट्ठा होने के लिए, पास और दूर के कई स्थानों से यात्रा करके आते हैं,

परमेश्वर के शब्दों को खाते-पीते और प्रत्येक दिन कलीसिया का जीवन जीते हैं।

हम परमेश्वर के वचनों का अभ्यास और अनुभव करते हैं; सत्य को समझना सचमुच एक आनंद होता है।

खालीपन, दर्द, उलझन—ये सब अतीत की बातें हैं।

परमेश्वर के वचन हमें आपस में जोड़ते हैं; हमारे दिलों में इन वचनों का आनंद लेना कितना मधुर होता है।

मसीह की चरवाही पाना हमारा सौभाग्य है; सत्य को समझ कर और परमेश्वर की स्तुति करके, हमारे दिल आज़ाद हो जाते हैं!

2

हम परमेश्वर के घर में इकट्ठा होते हैं, साथ मिलकर परमेश्वर के वचनों पर सहभागिता करते हैं।

सत्य को समझ कर, हमारे दिलों में रोशनी होती है, और सभी चीज़ों में अभ्यास का एक मार्ग मिलता है।

हम एक-दूसरे को मदद और सहारा देते हैं, और परमेश्वर के वचनों और सत्य को समर्पित होते हैं।

छल-कपट को त्याग कर, हम खुद को नेक होने के लिए प्रशिक्षित करते हैं।

परमेश्वर के वचन हमें आपस में जोड़ते हैं; हमारे दिल जुड़ते हैं, और हम बहुत करीब होकर एक-दूसरे से प्रेम करते हैं।

सद्भाव में एक साथ काम करते हुए, हम वफ़ादारी से अपना कर्तव्य पूरा करते हैं; हमारे दिल परमेश्वर से प्रेम और उसकी प्रशंसा करते हैं. हम कितने धन्य हैं!

3

हमारे पिछले दिनों को याद करके, हम खट्टा-मीठा महसूस करते हैं।

वे सब अविस्मरणीय यादें बन गए हैं।

हम परमेश्वर के वचनों के न्याय से गुज़रे हैं और हमने उसके अतिशय प्रेम का अनुभव किया है।

परीक्षण और परिशोधन का अनुभव करने के बाद, हमारे जीवन के स्वभाव में बदलाव आया है।

परमेश्वर की गवाही देने का मिशन लेकर, हम अपने विभिन्न रास्तों पर चलते हैं।

परमेश्वर के वचन निरंतर हमारी अगुवाई करते हैं; हम धरती पर उसके सुसमाचार को फैलाते हैं।

परमेश्वर के वचन हमें आपस में जोड़ते हैं; परमेश्वर से प्रेम करने का अर्थ है उसकी इच्छा के प्रति सचेत रहना।

कष्ट चाहे जितना भी हो, हम कभी न पीछे हटेंगे; हमेशा हम परमेश्वर से प्रेम करेंगे और उसकी गवाही देंगे। हम उसके लिए बिल्कुल अंत तक वफ़ादार रहेंगे!

परमेश्वर के वचन हमें आपस में जोड़ते हैं; हम राज्य का सुसमाचार फैलाते हैं और परमेश्वर की इच्छा का अनुसरण करते हैं।

हम तरसते हैं परमेश्वर की महिमा के उस दिन के लिए, जब हम फिर से इकट्ठा हो सकेंगे, परमेश्वर के साथ, फिर कभी न जुदा होंगे!

पिछला: 43 सिय्योन में परमेश्वर की वापसी का गुणगान करो

अगला: 45 कलीसिया में हम साथ एकत्र होते हैं

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें