298 शैतान के हाथों इंसान के दूषण के परिणाम का सत्य

1

बरसों से भरोसा करते लोग जिन विचारों पर

जीते चले आये हैं, दूषित कर दिया उनके दिलों को उन विचारों ने।

इंसान को उन विचारों ने, कपटी, कायर और नीच बना दिया है।

न इच्छाशक्ति है न संकल्प है इंसान में,

बस लालची, अहंकारी और हठीला बन गया है

ऊँचा खुद को उठा नहीं सकता इतना कमज़ोर है

अंधेरों के असर से, अंधेरों की शक्तियों से,

खुद को आज़ाद कर नहीं सकता इंसान।

2

गले हुए विचार हैं और जीवन उनके।

परमेश्वर में आस्था पर ख़्याल उसके

सचमुच बदसूरत हैं, सहे जा नहीं सकते।

बर्दाश्त के इतने बाहर हैं, सुने जा नहीं सकते।

न इच्छाशक्ति है न संकल्प है इंसान में,

बस लालची, अहंकारी और हठीला बन गया है,

ऊँचा खुद को उठा नहीं सकता, इतना कमज़ोर है

अंधेरों के असर से, अंधेरों की शक्तियों से,

खुद को आज़ाद कर नहीं सकता इंसान।

3

डरपोक है, नीच है, कमज़ोर है इंसान,

अँधेरों की शक्तियों से नफ़रत नहीं करता वो।

प्रेम नहीं है उसमें रोशनी और सत्य के लिये,

बल्कि अपनी पूरी ताकत से उन्हें दूर भगा देता है इंसान, इंसान।

न इच्छाशक्ति है न संकल्प है इंसान में,

बस लालची, अहंकारी और हठीला बन गया है,

ऊँचा खुद को उठा नहीं सकता, इतना कमज़ोर है

अंधेरों के असर से, अंधेरों की शक्तियों से,

खुद को आज़ाद कर नहीं सकता इंसान।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम विषमता होने के अनिच्छुक क्यों हो?' से रूपांतरित

पिछला: 297 इंसान वो नहीं रहा जैसा परमेश्वर चाहता है

अगला: 299 मनुष्य का स्वभाव अत्यंत दुष्ट हो गया है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें