सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

इंसान वो नहीं रहा जैसा परमेश्वर चाहता है

हज़ारों बरस लगे हैं इंसान को

वहाँ पहुँचने में जहाँ वो आज है।

बहुत पहले मगर पतन हो चुका है उस इंसान का,

मूल रूप से जैसा परमेश्वर ने उसे बनाया था।

I

परमेश्वर के अस्तित्व में भरोसा नहीं इंसान को,

न स्वागत करता वो उसके आगमन का।

बेमन से मानता है वो उसके अनुरोध को,

साझा नहीं करता उससे ज़िंदगी के ग़म और ख़ुशियों को सच में।

चूँकि अगम्य मानते हैं लोग परमेश्वर को,

मजबूरन मुस्कराते हैं देखकर उसे,

ख़ुशामदी रवैया अपनाते हैं उसके लिये,

क्योंकि लोग न परमेश्वर के काम को जानते हैं न उसकी इच्छा को।

मानवता नहीं वो जो चाहता है परमेश्वर।

"मानवता" शब्द का हकदार नहीं इंसान।

ऐसा नीच है इंसान जिसे बंदी बनाए हुए है शैतान,

चलती-फिरती लाश है वो जिसमें रहता है शैतान।

II

ईमानदारी से कहेगा परमेश्वर, वक्त आने पर,

आराधना करता है जो उसकी,

"उससे कम तकलीफ़ें उठाएगा वो

जितनी तकलीफ़ें उठानी पड़ेंगी तुम लोगों को।"

चूँकि अय्यूब या फ़रीसियों से आस्था कम है तुम्हारी,

इसलिये, जब आग का दिन आएगा,

भयानक होंगे कष्ट तुम्हारे उन फ़रीसियों, अगुवाओं से ज़्यादा,

विरोध किया था मूसा का जिन्होंने और,

तबाही के वक्त सदोम से भी ज़्यादा।

मानवता नहीं वो जो चाहता है परमेश्वर।

"मानवता" शब्द का हकदार नहीं इंसान।

ऐसा नीच है इंसान जिसे बंदी बनाए हुए है शैतान,

चलती-फिरती लाश है वो जिसमें रहता है शैतान।

मानवता नहीं वो जो चाहता है परमेश्वर।

"मानवता" शब्द का हकदार नहीं इंसान।

ऐसा नीच है इंसान जिसे बंदी बनाए हुए है शैतान,

चलती-फिरती लाश है वो जिसमें रहता है शैतान।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:विश्वास की वजह से ही तुमने पाया इतना कुछ

अगला:कौन परमेश्वर के अनुकूल है