787 क्या तुम सचमुच परमेश्वर को समझते हो?

1 क्या तुम यह कहने का साहस करते हो कि तुम परमेश्वर को जानते हो? क्या तुम्हारा उसके साथ व्यवहार हुआ है? क्या तुम उससे संबद्ध रहे हो? क्या तुम उसके स्वभाव को जानते हो? क्या तुम जानते हो उसे क्या पसंद है? क्या तुम उन कामों को जानते हो जिनसे उसके स्वभाव का अपमान होता है? क्या तुम्हें अपने अंदर के भ्रष्टाचार का ज्ञान है जिसे वह नापसंद करता है? क्या तुम उन लोगों को जानते हो जिनके ज़रिए वह अपने धार्मिक स्वभाव को प्रकट करता है? क्या तुम जानते हो तुम्हारी किन समस्याओं से उसे सबसे अधिक घृणा है? अगर तुम्हें ऐसे प्रश्नों का उत्तर नहीं पता, तो यह दर्शाता है कि तुम्हें सच में परमेश्वर की कोई समझ नहीं है।

2 तुम दावा करते हो कि तुमने उसे देखा है, फिर भी तुम उसके आनंद, गुस्से, दुःख और खुशी को नहीं जानते हो, उसके स्वभाव को नहीं जानते हो। न उसकी धार्मिकता को जानते हो, न ही उसकी दयालुता को, न ही तुम ये जानते हो कि वह किन चीज़ों को पसंद करता है और किनसे घृणा करता है। इसे परमेश्वर को जानना नहीं कहा जा सकता है। यदि तुम परमेश्वर को जानते हो, उसे समझते हो, उसकी कुछ इच्छाओं को समझने एवं ग्रहण करने में सक्षम हो, तो तुम सचमुच उस पर विश्वास कर सकते हो, सचमुच में उसके प्रति समर्पित हो सकते हो, सचमुच में उससे प्रेम कर सकते हो, और सचमुच में उसकी आराधना कर सकते हो।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'देहधारी परमेश्वर को कैसे जानें' से रूपांतरित

पिछला: 786 इंसान परमेश्वर को उसके वचनों के अनुभव से जानता है

अगला: 788 इंसान को परमेश्वर की इच्छा की कोई समझ नहीं है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें