64 परमेश्वर का सच्चा प्यार

1

हे सर्वशक्तिमान!

आज फिर मैं परमेश्वर के सामने खड़ा हूं।

दिल बहुत कुछ कहना चाहता है, जब देखता हूं उसका सुंदर मुखड़ा।

छोड़ आया हूं मैं पिछली ज़िंदगी आवारगी की।

उसके वचनों से मैं भर जाता हूं परमानंद से, मिलता है जो उसकी दया से।

कोमल वचन परमेश्वर के सींचते, पोषण मुझे देते और मुझको बड़ा करते।

उसके कठोर वचन ही मुझको हौसला देते, मुझे फिर से खड़ा करते।

हे परमेश्वर, तेरी आशीष के कारण, करें हम सब तेरा गायन।

हे परमेश्वर, करें तेरी स्तुति हम, क्योंकि तूने किया हमारा उत्थान।

हे सर्वशक्तिमान सच्चे परमेश्वर, तूने दिया है प्यार हमको!

हे सर्वशक्तिमान सच्चे परमेश्वर, हम भी सच्चा प्यार करते हैं तुझे!

हे सर्वशक्तिमान!

2

हे परमेश्वर, मैं हर दिन तेरे वचन का आनंद लेना चाहता हूं।

हे परमेश्वर, तू हर तरह से, रोशनी देता है हमको।

प्यार के जल से तू अपने प्रियजनों को सींचता है, पोसता है।

शैतान भटकाता है, उसके असर से, हमको तू दूर ले जाता है।

कोमल वचन परमेश्वर के सींचते, पोषण मुझे देते और मुझको बड़ा करते।

उसके कठोर वचन ही मुझको हौसला देते, मुझे फिर से खड़ा करते।

हे परमेश्वर, तेरी आशीष के कारण, करें हम सब तेरा गायन।

हे परमेश्वर, करें तेरी स्तुति हम, क्योंकि तूने किया हमारा उत्थान।

हे सर्वशक्तिमान सच्चे परमेश्वर, तूने दिया है प्यार हमको!

हे सर्वशक्तिमान सच्चे परमेश्वर, हम भी सच्चा प्यार करते हैं तुझे!

हे सर्वशक्तिमान!

3

आओ भाइयो! आओ बहनो! उठ खड़े हों और उसकी महिमा गायें!

ये जो पल साझा किये हैं, आओ संजो लें इन्हें हम।

देह के बंधन से आज़ाद हम,

प्यार दिखलाएं प्रभु के वास्ते, करके हम सच्चे करम,

पूरे दिल से, और पूरी जान से, आओ निभायें अपना फ़र्ज़ हम।

हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर, हम चाहते हैं तुझको!

हे सर्वशक्तिमान परमेश्वर, ना छोड़ेंगे कभी तुझको!

हे सर्वशक्तिमान!

हे सर्वशक्तिमान!

हे सर्वशक्तिमान!

पिछला: 63 हमें ईश्वर के सामने हमेशा शांत रहना चाहिए

अगला: 65 घेर लेता है मेरे दिल को परमेश्वर का प्रेम

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें