303 क्या तुम्हें है सच्चा भरोसा मसीह में?

1

तुम्हारे शब्द, कर्म, और लक्ष्य और निगाहें भी

दिखायें मसीह पर तुम्हारा अविश्वास, जिसे तुम थामे हो हर पल।

कभी भी दे सकते तुम धोखा उसे। शक बहता है तुम्हारी रगों में।

आस्था के पथ पर चलते हुए तुम डगमगाते, सब कुछ बेमन से करते।

परमेश्वर उन्हीं को करता पूर्ण जो करते सच्चा यकीन,

ना कि शक्की को, उन्हें तो बिलकुल नहीं, जो करते हैं अनिच्छा से अनुसरण,

वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं, वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं।

मसीह के वचनों में नहीं होता तुम्हें पूरा भरोसा

और नहीं ला पाते तुरंत उन्हें अपने अभ्यास में।

ये तुम्हारे भरोसे में कमी का एक कारण है,

दूसरा कारण है धारणाओं का होना।

2

रहते हो संशय में मसीह के कामों पर,

उसके वचन पड़ते मानो बहरे कानों पर,

रखते हो राय मसीह के कामों पर, फिर भी समझ नहीं पाते इसको,

अपनी धारणाओं को छोड़ने में करते संघर्ष

चाहे जितना भी समझाया जाए तुम्हें,

यही सारे तरीके तो अविश्वास के छाये रहते हैं दिलों में तुम्हारे।

परमेश्वर उन्हीं को करता पूर्ण जो करते सच्चा यकीन,

ना कि शक्की को, उन्हें तो बिलकुल नहीं, जो करते हैं अनिच्छा से अनुसरण,

वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं, वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं।

3

हालांकि करते हो अनुसरण मसीह के काम का

और नहीं हटते हो पीछे कभी भी,

लेकिन विद्रोह जो तुम्हारे दिलों में घुला कर देता है अपवित्र विश्वास तुम्हारा।

शायद तुम न सोच रहे हो ऐसा, अगर नहीं देख सकते मकसद अपना,

तो तुम भी पक्का उन्हीं में से हो, एक दिन हो जाएगा नाश जिनका।

परमेश्वर उन्हीं को करता पूर्ण जो करते सच्चा यकीन,

ना कि शक्की को, उन्हें तो बिलकुल नहीं, जो करते हैं अनिच्छा से अनुसरण,

वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं।

परमेश्वर उन्हीं को करता पूर्ण जो करते सच्चा यकीन,

ना कि शक्की को, उन्हें तो बिलकुल नहीं, जो करते हैं अनिच्छा से अनुसरण,

वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं, वह परमेश्वर है ऐसा यकीन करते नहीं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'क्या तुम परमेश्वर के एक सच्चे विश्वासी हो?' से रूपांतरित

पिछला: 302 लोग मसीह को एक साधारण मनुष्य मानते हैं

अगला: 304 मनुष्य के पुत्र का आना सभी लोगों को उजागर करता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें