399 परमेश्वर में आस्था की राह, है राह उससे प्यार करने की

परमेश्वर में आस्था की राह है राह उससे प्यार करने की।

यदि तुम ईश्वर में आस्था रखते हो, तुम्हें उसके प्रति प्रेम रखना चाहिए।

1

ईश्वर से प्रेम का अर्थ नहीं है केवल उसके प्रेम को चुकाना,

ना ही है करना प्रेम विवेक द्वारा उससे, बल्कि ईश्वर के प्रति है रखना शुद्ध प्रेम।

विवेक नहीं जगायेगा ईश्वर के लिए प्रेम।

जब तुम महसूस करो उसकी सुंदरता,

तुम्हारी रूह को छूएगा परमेश्वर, तुम्हारा विवेक अपना कार्य करेगा।

ईश्वर के लिए सच्चा प्यार आता है दिल की गहराई से।

ये वो प्यार है जिसका आधार मानव का ईश्वर का सच्चा ज्ञान है।

2

जब ईश्वर प्रेरित करे मानव के रूह को, जब उनके दिलों में ज्ञान की प्राप्ति हो,

तब ईश्वर को वे विवेक से प्यार कर सकते हैं अनुभव की प्राप्ति के बाद।

अपने विवेक से ईश्वर से प्रेम करना ग़लत नहीं है, पर है कम प्यार,

ये करता है ईश्वर के अनुग्रह के साथ इन्साफ़,

पर मानव के प्रवेश को प्रेरित नहीं करता।

ईश्वर के लिए सच्चा प्यार आता है दिल की गहराई से।

ये वो प्यार है जिसका आधार मानव का ईश्वर का सच्चा ज्ञान है।

3

जब लोगों को प्राप्त हो पवित्रात्मा का कार्य,

जब वे देखें और चखें ईश्वर का प्यार,

जब पास हो उनके परमेश्वर का ज्ञान,

तब उससे सच में प्यार किया जा सकता है।

जब वे देखें कि परमेश्वर है योग्य, मानव के प्यार के इतने क़ाबिल,

वो कितना प्यारा है ये देखकर, वे ईश्वर से सच में प्यार कर सकते हैं।

ईश्वर के लिए सच्चा प्यार आता है दिल की गहराई से।

ये वो प्यार है जिसका आधार मानव का ईश्वर का सच्चा ज्ञान है।

4

जो परमेश्वर को समझते नहीं, वे सिर्फ़ ईश्वर को अपनी धारणा और

पसंद के आधार पर प्रेम करते हैं; वो प्यार दिल से नहीं, वो झूठा है।

परमेश्वर को जो समझ जाए एक दफ़ा,

दर्शाता है कि उसका दिल है ईश्वर की ओर।

उसके दिल में जो प्यार है, वो सच्चा, स्वाभाविक है।

केवल ऐसा ही व्यक्ति है जिसके दिल में परमेश्वर है।

ईश्वर के लिए सच्चा प्यार आता है दिल की गहराई से।

ये वो प्यार है जिसका आधार मानव का ईश्वर का सच्चा ज्ञान है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के लिए सच्चा प्रेम स्वाभाविक है' से रूपांतरित

पिछला: 398 तुम्हें अपने विश्वास में ईश्वर से प्रेम करने का प्रयास करना चाहिए

अगला: 400 लक्ष्य जिसका अनुसरण करना चाहिये विश्वासियों को

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें