37 ब्रह्माण्ड में परमेश्वर के कार्य की लय

I

धरती के लोग ईश्वर को स्वीकार करेंगे,

फरिश्तों की तरह आज्ञाकारी,

न कोई इच्छा होगी विद्रोह की,

यह है ईश्वर का कार्य जहान भर में।


II

सदियों से ईश्वर है लोगों के साथ, हर कोई इससे अनभिज्ञ रहा,

कोई भी ईश्वर को न जान सका,

अब ईश्वर का वचन बताए सब को वो है यहीं।

वो बुलाता है मानव को अपने समक्ष,

जिससे सब को प्राप्त ईश्वर से कुछ हो सके।

फिर भी मानव है दूरी बनाये हुए,

अचरज नहीं कि कोई ईश्वर को जानता नहीं।


III

जब परमेश्वर के क़दम ब्रह्माण्ड में पड़ेंगे,

मनुष्य गहराई से चिंतन करेगा।

वे सब आयेंगे परमेश्वर के पास,

और झुक के, घुटनों के बल करेंगे ईश्वर की आराधना।

यही दिन परमेश्वर की महिमा का है, उसकी वापसी और प्रस्थान का है।

यही दिन परमेश्वर की महिमा का है, उसकी वापसी और प्रस्थान का है!


IV

परमेश्वर ने लोगों के बीच अपने काम

और अंतिम योजना की शुरुआत की है।

जो कोई भी इस पे करे न ग़ौर, कठोर सज़ा उनको भुगतनी होगी।

ऐसा नहीं है कि ईश्वर का दिल है कठोर,

बल्कि यह उसकी योजना का एक क़दम है,

जिसके अनुसार ही सबको चलना चाहिए,

यह है सत्य जो कोई भी न बदल सके।

धरती के लोग ईश्वर को स्वीकार करेंगे,

फरिश्तों की तरह आज्ञाकारी,

न कोई इच्छा होगी विद्रोह की,

यह है ईश्वर का कार्य जहान भर में।


V

जब औपचारिक रूप से ईश्वर कार्य करता है शुरू,

सभी लोग ईश्वर के पीछे चलते हैं।

संसार व्यस्त होता है परमेश्वर के साथ,

होती उल्लासित धरा, लोग प्रेरित होते हैं।

घबरा जाता है बड़ा लाल अजगर भी,

करे ईश्वर के कार्य विरुद्ध इच्छा के अपनी,

अपनी इच्छा से चलने में वो असमर्थ,

परमेश्वर के नियंत्रण में ही वो चले।


VI

ईश्वर की सब योजनाओं का अजगर ही विषमता है,

वही ईश्वर का शत्रु और सेवक भी है।

पूरा करने को अंतिम चरण कार्य का,

ईश्वर देहधारण करता है उसके घराने में,

जिससे अजगर ईश्वर की उचित सेवा करे,

उस पर विजय पाके परमेश्वर की योजना का अंत हो।

स्वर्गदूत भी युद्ध में होते हैं परमेश्वर के साथ,

जीतने को दिल ईश्वर का अंतिम चरण में,

जीतने को दिल ईश्वर का अंतिम चरण में।

यही दिन परमेश्वर की महिमा का है, उसकी वापसी और प्रस्थान का है।

यही दिन परमेश्वर की महिमा का है, उसकी वापसी और प्रस्थान का है!


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 88 अंत के दिनों में देहधारी परमेश्वर मुख्यत: वचन का कार्य करता है

अगला: 101 परमेश्वर के प्रबंधन कार्य का उद्देश्य

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें