268 परमेश्वर के कार्य को समर्पित होने को मैं हूँ तैयार

1

हे परमेश्वर! करूँ प्रार्थना, तू मुझमें अपना कार्य कर,

मेरा न्याय कर, मुझे शुद्ध कर, मुझे बदल,

ताकि पालन करूँ और हर चीज़ में तेरी इच्छा जानूँ।

तेरे द्वारा मेरे उद्धार में है, तेरा महान प्रेम और इच्छा तेरी।

भले मैं विद्रोही हूँ और मुझमें भ्रष्टता है,

मेरी प्रकृति है हालाँकि विश्वासघाती,

आज समझता हूँ मैं इंसान को बचाने की इच्छा तेरी।

करूँगा सहयोग, मैं सहयोग तुझे।

2

हे परमेश्वर! दे और ऐसे हालात,

परीक्षण और दुख-दर्द मुझे,

ताकि होऊँ जब पीड़ा में तो हाथ तेरा मैं थाम सकूँ,

विपत्तियों में घिरा होऊँ तो, तेरे कर्मों को देख सकूँ।

करूँ प्रार्थना तुझसे, दे मुझे वो जिसकी कमी मुझमें,

ताकि समझूँ मैं इच्छा तेरी, चाहे कितने भी कष्ट सहूँ।

न विद्रोह करूँ न करूँ शिकायत, करूँगा मैं संतुष्ट तुझे।

मानूँगा मैं आज्ञा तेरी पूरी तरह, पूरी तरह।

3

हालाँकि तू लेता है इम्तहान बहुत, मैं जानूँ यह है तेरा प्रेम मेरे लिए।

हालाँकि तू करे मेरी शुद्धि बहुत, मैं जानूँ यह है तेरा प्रेम मेरे लिए।

करूँ प्रार्थना तुझसे, दे मुझे वो जिसकी कमी मुझमें,

ताकि समझूँ मैं इच्छा तेरी, चाहे कितने भी कष्ट सहूँ।

न विद्रोह करूँ न करूँ शिकायत, करूँगा मैं संतुष्ट तुझे।

मानूँगा मैं आज्ञा तेरी पूरी तरह, पूरी तरह।

पिछला: 267 परमेश्वर का न्याय, मेरे परमेश्वर-प्रेमी हृदय को और भी शुद्ध बनाता है

अगला: 269 अपने क्रूसीकरण के समय पतरस की प्रार्थना

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें