सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया का ऐप

परमेश्वर की आवाज़ सुनें और प्रभु यीशु की वापसी का स्वागत करें!

सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

जीत के काम के मायने

I

है आख़िरी चरण जीत का, इंसान को बचाने के लिये,

उसके अंत को ज़ाहिर करने के लिये,

न्याय के ज़रिये उसके पतन का खुलासा करने के लिये।

इस तरह पश्चाताप करने और ऊपर उठने में मदद के लिये,

जीवन और इंसानी ज़िंदगी की सही राह पर चलने के लिये।

है आख़िरी चरण की जीत,

बेसुध लोगों के दिलों को जगाने के लिये,

न्याय के ज़रिये उनके विद्रोहीपन को दिखाने के लिये।

अगर नहीं कर पाते पश्चाताप, भ्रष्टता को दर-किनार अब भी,

और नहीं कर पाते हैं इंसानी ज़िंदगी की सही राह का अनुसरण अब भी,

तो बन जाएँगे वो लोग ऐसे, बचाया न जा सकेगा जिन्हें,

शैतान निगल जाएगा जिन्हें।

जीत के मायने हैं

इंसान को बचाना, और उसे उसका अंत दिखाना,

अच्छा हो, बुरा हो, बचाया गया हो या अभिशप्त हो,

व्यक्त होता है सबकुछ जीत के काम से।

II

अंत के दिन होते हैं जब जीत के ज़रिये,

वर्गीकरण किया जाता है उनके स्वभाव के अनुसार चीज़ों का।

इंसान को जीतना और उसके पापों का न्याय करना,

काम है ये अंत के दिनों का।

पूरी कायनात में ये वर्गीकृत करता है इंसान को।

पूरी दुनिया के लोगों को जीत के काम से गुज़रना होगा,

न्याय-पीठ के सामने आना होगा।

जीत के मायने हैं

इंसान को बचाना, और उसे उसका अंत दिखाना,

अच्छा हो, बुरा हो, बचाया गया हो या अभिशप्त हो,

व्यक्त होता है सबकुछ जीत के काम से।

III

सृजित जीवों का उनके स्वभाव के अनुसार वर्गीकरण होगा।

न्याय-पीठ के सामने उनका न्याय होगा।

न्याय से कोई चीज़, कोई इंसान बच नहीं सकता।

स्वभाव के अनुसार इस वर्गीकरण से कोई चीज़,

कोई इंसान बच नहीं सकता।

सभी छाँटे जाएँगे चूँकि अंत निकट है हर चीज़ का।

तमाम स्वर्ग, धरती तमाम, अपने परिणाम पर पहुँचेंगे।

जीत के मायने हैं

इंसान को बचाना, और उसे उसका अंत दिखाना,

अच्छा हो, बुरा हो, बचाया गया हो या अभिशप्त हो,

व्यक्त होता है सबकुछ जीत के काम से।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला:क्या तुम परमेश्वर के वर्तमान कार्य का अनुसरण करते हो

अगला:अंत तक अनुसरण करने के लिये आत्मा के कार्य का पालन करो