149 देहधारण के मायने

I

देहधारण के मायने हैं परमेश्वर के आत्मा का देह बनना।

इसके मायने हैं स्वयं परमेश्वर का देह बनना।

देह में उसका कार्य है आत्मा का कार्य

होता है देह के ज़रिये पूरा और व्यक्त जो।

देहधारी परमेश्वर की सेवकाई को,

परमेश्वर के देह के अलावा, पूरा कर नहीं सकता कोई।

परमेश्वर का देहधारण यानी सामान्य मानवता ही

व्यक्त कर सकती है दिव्य कार्य को।

मायने परमेश्वर के देहधारण के हैं कि

करता है एक मामूली-सा, सामान्य इंसान कार्य परमेश्वर का,

कि मानवता में परमेश्वर दिव्य कार्य करता है

और परास्त करता है शैतान को।

II

कार्य करने की ख़ातिर देह में आकर,

दिखाता है वो शैतान को, देहधारी है अब परमेश्वर।

अब सामान्य, मामूली इंसान है परमेश्वर,

फिर भी वो विजयी होकर विश्व पर शासन कर सकता है।

दिखाता है वो शैतान को, देहधारी है अब परमेश्वर।

फिर भी वो परास्त कर सकता है शैतान को,

छुटकारा दिला सकता है वो इंसान को,

जीत सकता है वो इंसान को।

मायने परमेश्वर के देहधारण के हैं कि

करता है एक मामूली-सा, सामान्य इंसान कार्य परमेश्वर का,

कि मानवता में परमेश्वर दिव्य कार्य करता है

और परास्त करता है शैतान को।

III

शैतान का लक्ष्य है इंसान को, भ्रष्ट करना,

जबकि परमेश्वर का लक्ष्य है बचाना इंसान को।

शैतान इंसान को खाई में फँसाता है,

जबकि परमेश्वर इंसान को इस से बचाता है।

शैतान हर इंसान से अपनी आराधना करवाता है,

जबकि परमेश्वर इंसान को अपने प्रभुत्व में लाता है।

क्योंकि वो प्रभु है हर सृजन का।

हाँ, वो प्रभु है हर सृजन का।

मायने परमेश्वर के देहधारण के हैं कि

करता है एक मामूली-सा, सामान्य इंसान कार्य परमेश्वर का,

कि मानवता में परमेश्वर दिव्य कार्य करता है

और परास्त करता है शैतान को।

IV

ये सारा काम होता है परमेश्वर के दो बार देहधारण से, देहधारण से।

उसका देह सार रूप में मानवता और दिव्यता का मेल है,

दिव्यता का मेल है,

उसमें सामान्य मानवता है।

मायने परमेश्वर के देहधारण के हैं कि

करता है एक मामूली-सा, सामान्य इंसान कार्य परमेश्वर का,

कि मानवता में परमेश्वर दिव्य कार्य करता है

और परास्त करता है शैतान को।

"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 146 अन्यजाति के देशों में परमेश्वर का नाम फैलेगा

अगला: 150 मसीह का सारतत्व है परमेश्वर

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें