401 परमेश्वर में विश्वास का महत्व बहुत गहरा है

1 चाहे तुम लोगों ने कितने ही समय से परमेश्वर में विश्वास क्यों न किया हो, तुम लोगों ने अभी भी परमेश्वर में विश्वास के महत्व की सम्पूर्ण समझ को प्राप्त नहीं किया है। वास्तव में, परमेश्वर में विश्वास का महत्व इतना गहन है कि लोग इसकी थाह पा सकने में असमर्थ हैं। अंत में, लोगों के भीतर की चीज़ें जो शैतान की हैं और उनकी प्रकृति की चीज़ें अवश्य बदलनी चाहिए और सत्य की आवश्यकताओं के अनुरूप अवश्य बननी चाहिए; केवल इसी तरह कोई व्यक्ति वास्तव में उद्धार प्राप्त कर सकता है। यदि, जैसा कि जब तू धर्म के भीतर था तू किया करता था, तू कुछ सिद्धांतों के वचन झाड़ता या नारे लगाता है, और फिर थोड़े-बहुत अच्छे कर्म करता, थोड़ा और अच्छा व्यवहार करता है और कुछ पापों, कुछ स्पष्ट पापों को करने से दूर रहता है, तब भी इसका मतलब यह नहीं है कि तूने परमेश्वर पर विश्वास करने के सही मार्ग पर कदम रख दिया है।

2 क्या नियमों का पालन कर पाना यह बताता है कि तू सही राह पर चल रहा है? यदि तेरी प्रकृति के भीतर की चीज़ें नहीं बदली हैं, और अंत में तू अभी भी परमेश्वर का विरोध कर रहा है और अपमान कर रहा है, तो यह तेरी सबसे बड़ी समस्या है। यदि परमेश्वर में तेरे विश्वास में, तू इस समस्या का समाधान नहीं करता है, तो क्या तुझे बचाया हुआ माना जा सकता है? ऐसा कहने का मेरा क्या अर्थ है? मेरा अभिप्राय तुम सभी लोगों को तुम्हारे हृदयों में यह समझाना है कि परमेश्वर में विश्वास को परमेश्वर के वचनों से, परमेश्वर से या सत्य से पृथक नहीं किया जा सकता है। तुझे अपने मार्ग को अच्छी तरह से चुनना चाहिए, सत्य में प्रयास लगाना चाहिए, और परमेश्वर के वचनों में प्रयास लगाना चाहिए। केवल अध-पका ज्ञान, या थोड़ी-बहुत समझ प्राप्त मत कर और फिर यह मत सोच कि तेरा काम हो गया; यदि तू स्वयं को धोखा देता है, तो तू केवल अपने आप को ही चोट पहुँचाएगा।

3 लोगों को परमेश्वर के अपने विश्वास से भटकना नहीं चाहिये; अंत में, अगर उनके दिल में परमेश्वर का वास नहीं है, मात्र किताब को हाथ में थामे, पल भर के लिये उस पर सरसरी नज़र डालते हैं, मगर वे परमेश्वर के लिये अपने दिल में कोई जगह नहीं छोड़ते, तो वे नष्ट हो जाते हैं। इन शब्दों का क्या अभिप्राय है, "परमेश्वर में इंसान की आस्था को परमेश्वर के वचनों से अलग नहीं किया जा सकता"? क्या तुम लोग समझते हो? क्या इन वचनों से आगे दिए गए वचनों का कोई विरोधाभास है, "परमेश्वर में आस्था को परमेश्वर से अलग नहीं किया जा सकता"? अगर तुम्हारे दिल में परमेश्वर के वचन नहीं हैं, तो परमेश्वर तुम्हारे दिल में कैसे हो सकता है? अगर तुम परमेश्वर में आस्था रखते हो, मगर तुम्हारे दिल में न तो परमेश्वर का वास है, न उसके वचनों का और न ही तुम्हारे हृदय में उसका मार्गदर्शन है, तो समझो तुम पूरी तरह से नष्ट हो गये। अगर तुम परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुसार एक छोटी सी चीज़ भी नहीं कर सकते, तो सिद्धांत की किसी बड़ी समस्या का सामना होने पर तुम परमेश्वर की अपेक्षाओं को पूरा कर पाने में और भी अधिक असमर्थ होगे। इसका मतलब है कि तुम गवाही नहीं दे सकोगे और यह एक समस्या है; इससे साबित होता है कि तुम्हारे पास कुछ भी नहीं है।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'सर्वाधिक जोख़िम उन्हें है जिन्होंने पवित्र आत्मा का कार्य गँवा दिया है' से रूपांतरित

पिछला: 400 लक्ष्य जिसका अनुसरण करना चाहिये विश्वासियों को

अगला: 402 जिसके पास है सच्चा विश्वास, उसे मिलता है परमेश्वर का आशीष

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें