737 मनुष्य के पास परमेश्वर का भय मानने वाला हृदय होना चाहिए

ईश-सार में है प्रेम, वो हर इंसान

के प्रति दया दिखाए।

लेकिन लोग भूल गए कि उसके सार में गरिमा भी है।

ईश्वर के प्रेम का ये मतलब नहीं

इंसान उसका अपमान करे तो उसकी भावनाएँ न भड़कें

उसकी दया का ये मतलब नहीं कि लोगों के प्रति

उसके व्यवहार का कोई सिद्धांत नहीं।


1

ईश्वर जीवित है, असल है।

इसलिए हमें हमेशा उसकी वाणी सुननी चाहिए,

उसके रवैये को ध्यान से देखना चाहिए।

इंसानी कल्पनाओं से उसे परिभाषित मत करो,

उस पर इंसानी सोच मत थोपो,

उसे लोगों से इंसानी व्यवहार करने पर मजबूर मत करो।


ऐसी हरकतों से ईश्वर क्रोधित हो जाएगा,

उसकी गरिमा को चुनौती देना, उसका क्रोध बुलाना है।

जान लो ये मामला बड़ा गंभीर है।

तुम सबसे ईश्वर आग्रह करे कि तुम अपने कार्यों और

अपनी बातों को लेकर सचेत रहो।


ईश्वर के प्रति अपने व्यवहार में

जितने सतर्क होगे, उतना ही अच्छा होगा।

जब ईश्वर का रवैया समझ न आए,

तो बिना सोचे न कुछ बोलो, न करो।

बस यूँ ही कोई ठप्पा न लगाओ।

अचानक किसी निष्कर्ष पर न पहुँचो।

तुम्हें इंतजार करना और खोजना सीखना चाहिए,

जो दिखाए तुम ईश्वर का भय मानते, बुराई से दूर रहते।


2

अगर ये चीज़ें हासिल कर सको तुम,

अगर तुम्हारा रवैया ऐसा हो,

तो ईश्वर तुम्हें दोष नहीं देगा

तुम्हारी मूर्खता और अज्ञानता के लिए

या जो भी होता है उसकी वजह न समझने के लिए।


चूँकि तुम ईश्वर का अपमान करने से डरते हो,

उसकी इच्छा का आदर करते हो,

ईश्वर तुम्हें याद रखेगा,

राह दिखाएगा और प्रबुद्ध करेगा।

तुम्हारी अज्ञानता सहेगा

और समझेगा कि तुम्हें अभी भी बढ़ना है।


पर अगर तुम ईश्वर पर श्रद्धा नहीं रखते,

उसकी आलोचना करते,

उसके विचारों को मन से परिभाषित करते,

तो वो तुम्हें निंदित और दंडित करेगा,

या तुम्हारे नतीजे को लेकर कुछ कहेगा।


3

ईश्वर इस पर जोर दे:

ईश्वर से जो भी आए उसके प्रति सचेत रहो,

अपनी कथनी-करनी का ध्यान रखो।

बोलने से पहले ये सोचो:

क्या मेरे काम से ईश्वर क्रोधित होगा?

क्या ईश्वर के लिए मुझमें श्रद्धा है?


सबसे सरल चीजों में भी इन सवालों के जवाब खोजो,

इनके बारे में ध्यान से सोचो।

अगर इन सिद्धांतों का हमेशा अभ्यास करोगे,

खासकर तब जब कोई बात समझ न आए,

तो ईश्वर राह दिखाएगा, अनुसरण का मार्ग देगा।


—वचन, खंड 2, परमेश्वर को जानने के बारे में, परमेश्वर का स्वभाव और उसका कार्य जो परिणाम हासिल करेगा, उसे कैसे जानें से रूपांतरित

पिछला: 736 परमेश्वर का भय मानने से ही बुराई दूर रह सकती है

अगला: 738 परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए तुम्हें उसके मानक को समझना चाहिए

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सत्य वास्तविकताएं जिनमें परमेश्वर के विश्वासियों को जरूर प्रवेश करना चाहिए मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें