642 वह संकल्प जो मोआब की संतानों के पास होना चाहिए

1

मोआब की संतानों से नहीं कोई अधिक पिछड़ा और भ्रष्ट।

वो परमेश्वर को स्वीकारते नहीं।

इसलिए केवल जब इन पर पाई जा सके विजय,

केवल जब ये कर सकें प्रेम परमेश्वर को,

केवल जब वो कर सकें उसकी स्तुति,

तभी होगी वो गवाही विजय की, विजय की।

अंत में तू कहेगा, "हम हैं शापित, हम हैं संतान मोअब की।

इसे तो हम बदल, बदल सकते नहीं,

क्योंकि ये थी आज्ञा परमेश्वर की, परमेश्वर की।

लेकिन हमारा जीना और ज्ञान बदल सकता है,

परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए हम हैं संकल्पित,

परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए हम हैं संकल्पित।"

2

ये सच है कि तुम लोग पतरस नहीं,

लेकिन जी सकते हो तुम पतरस की छवि,

अय्यूब और पतरस के समान दे सकते हो गवाही।

यही है सबसे बड़ी गवाही।

अंत में तू कहेगा, "हम तो इस्राएली नहीं।

हम हैं त्यागी गईं संतानें मोअब की।

हम परमेश्वर के आशीषों के योग्य नहीं।"

अंत में तू कहेगा, "हम हैं शापित, हम हैं संतान मोअब की।

इसे तो हम बदल सकते नहीं,

क्योंकि ये थी आज्ञा परमेश्वर की, परमेश्वर की।

लेकिन हमारा जीना और ज्ञान बदल सकता है,

परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए हम हैं संकल्पित,

परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए हम हैं संकल्पित।"

3

"हम पतरस नहीं, हममें उसकी योग्यता नहीं।

हम अय्यूब नहीं, हममें पौलुस का संकल्प नहीं।

परमेश्वर को जितना समर्पण किया पौलुस ने,

पौलुस ने उतना हम कर सकते नहीं, कर सकते नहीं।

लेकिन फिर भी आज हमें उठाया है परमेश्वर ने, परमेश्वर ने।

तो हमें संतुष्ट करना है परमेश्वर को, परमेश्वर को, और हैं हम तैयार भी।

हम योग्य नहीं, लेकिन संकल्पित हैं हम फिर भी,

और हैं हम तैयार, और हैं हम तैयार।"

अंत में तू कहेगा, "हम हैं शापित, हम हैं संतान मोअब की।

इसे तो हम बदल, बदल सकते नहीं,

क्योंकि ये थी आज्ञा परमेश्वर की, परमेश्वर की।

लेकिन हमारा जीना और ज्ञान बदल सकता है,

परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए हम हैं संकल्पित,

परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए हम हैं संकल्पित।"

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'विजय के कार्य की आंतरिक सच्चाई (2)' से रूपांतरित

पिछला: 641 परमेश्वर द्वारा मोआब के वंशजों का उत्कर्ष

अगला: 643 मोआब के वंशजों पर परमेश्वर के कार्य का अर्थ

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें