679 परमेश्वर के लिए, इन्सान को पूर्ण करने का सर्वोत्तम उपाय शुद्धिकरण है

1

जितना बड़ा हो ईश्वर द्वारा शुद्धिकरण,

उतना ज़्यादा लोगों का दिल ईश्वर से प्यार करता है।

उनके दिलों का कष्ट उनके जीवन में फ़ायदा करता है।

वे ईश्वर के सामने शांति से रहेंगे और उसके क़रीब आ सकेंगे।

वे देख सकते हैं ईश्वर का महान प्यार और उसका सर्वोच्च उद्धार।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

2

पतरस गुज़रा शुद्धिकरण से। ये सौ-सौ बार हुआ।

अय्यूब गुज़रा कई परीक्षण से और तुम्हें भी शुद्ध होना चाहिए।

तुम्हें सैकड़ों परीक्षणों से गुज़रना होगा,

इस क़दम पर निर्भर होना होगा, ताकि तुम ईश्वर को संतुष्ट कर सको,

और ईश्वर तुम्हें पूर्ण करेगा।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

हाँ, ईश्वर से सच्चा प्यार।

3

एक निश्चित बिंदु तक शोधन के बाद,

तुम्हें दिखेंगी अपनी कमज़ोरियाँ और मुसीबतें।

तुम्हें दिखेंगी कमियाँ हैं कितनी तुम में,

और समस्याएँ जिन्हें तुम हरा नहीं सकते हो।

तुम अपनी अवज्ञा देखोगे।

परीक्षण सच्ची अवस्था दिखाएगा तुम्हारी।

परीक्षण तुम्हें पूर्ण बनने के लिए बेहतर क़ाबिल बनाएगा।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

4

कठिनाइयों के बिन यदि हों लोग,

तो उनमें ईश्वर के प्रति सच्चे प्यार की कमी होगी।

यदि वे भीतर से जाँचें न गए हों, यदि वे शोधन के न अधीन हों,

तो बाहरी दुनिया में उनके दिल सदा भटकते रहेंगे।

शुद्धिकरण है सर्वोत्तम ज़रिया मानव के लिए पूर्ण होने का।

केवल परीक्षण और शुद्धिकरण ईश्वर से लोगों को प्यार करवाता है।

हाँ, ईश्वर से सच्चा प्यार, ईश्वर से सच्चा प्यार।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल शुद्धिकरण का अनुभव करके ही मनुष्य सच्चे प्रेम से युक्त हो सकता है' से रूपांतरित

पिछला: 678 केवल कष्ट और शोधन के ज़रिये ही तुम ईश्वर द्वारा पूर्ण किए जा सकते हो

अगला: 680 शुद्धिकरण की पीड़ा के मध्य ही शुद्ध बनता है इंसान का प्रेम

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें