431 परमेश्वर के समक्ष अपने हृदय को शांत रखने के फ़ायदे

1

ईश्वर के आगे आने, उसके वचनों को जीवन बनाने,

तुम्हें पहले शांत होना होगा उसके सामने।

जब शांत हो तुम, तभी करे वो तुम्हें प्रबुद्ध और समझाये।

जितना शांत होता कोई परमेश्वर के सामने,

उतनी ही प्रबुद्धता वो उससे पाए।

तो होनी चाहिए इंसान में श्रद्धा और भक्ति—पूर्णता का रास्ता है यही।

जब तुम सच में परमेश्वर के सामने शांत होगे

आज के उसके वचन तुम तभी समझोगे,

पवित्र आत्मा की प्रबुद्धता को ठीक से अमल में लाओगे,

परमेश्वर के इरादों को साफ़ समझोगे,

तुम्हारी सेवा में होगी एक स्पष्ट दिशा,

प्रेरणा और अगुआई को समझोगे, पवित्र आत्मा की,

और मार्गदर्शन में जियोगे, पवित्र आत्मा के।

परमेश्वर के सामने शांत रहने से मिलते हैं ये नतीजे।

2

आध्यात्मिक जीवन में प्रवेश का तरीका, है परमेश्वर के सामने शांत होना।

तुम्हारा आध्यात्मिक अभ्यास होगा प्रभावी, जब होगे उसके सामने शांत तुम।

जो न कर सके खुद को शांत तुम, तो पवित्र आत्मा का काम ना पा सकोगे तुम।

जब तुम सच में परमेश्वर के सामने शांत होगे

आज के उसके वचन तुम तभी समझोगे,

पवित्र आत्मा की प्रबुद्धता को ठीक से अमल में लाओगे,

परमेश्वर के इरादों को साफ़ समझोगे,

तुम्हारी सेवा में होगी एक स्पष्ट दिशा,

प्रेरणा और अगुआई को समझोगे, पवित्र आत्मा की,

और मार्गदर्शन में जियोगे, पवित्र आत्मा के।

परमेश्वर के सामने शांत रहने से मिलते हैं ये नतीजे।

3

जब लोग स्पष्ट नहीं होते, ईश वचन के बारे में,

होते बिन अभ्यास-मार्ग के, उसके इरादे नहीं समझते,

काम करने के सिद्धांत जब उनमें नहीं होते,

ये सब होता है क्योंकि शांत नहीं उनका दिल ईश्वर के आगे।

जब तुम सच में परमेश्वर के सामने शांत होगे

आज के उसके वचन तुम तभी समझोगे,

पवित्र आत्मा की प्रबुद्धता को ठीक से अमल में लाओगे,

परमेश्वर के इरादों को साफ़ समझोगे,

तुम्हारी सेवा में होगी एक स्पष्ट दिशा,

प्रेरणा और अगुआई को समझोगे, पवित्र आत्मा की,

और मार्गदर्शन में जियोगे, पवित्र आत्मा के।

परमेश्वर के सामने शांत रहने से मिलते हैं ये नतीजे।

शांत रहने का उद्देश्य है, गंभीर, व्यावहारिक बनना,

ईश-वचनों पर स्पष्ट होना, और अंत में, सत्य समझना और ईश्वर को जानना।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के समक्ष अपने हृदय को शांत रखने के बारे में' से रूपांतरित

पिछला: 430 परमेश्वर के समक्ष शांत रहने का अभ्यास

अगला: 432 जो लोग परमेश्वर के समक्ष अक्सर शांत रहते हैं वे धर्मपरायण होते हैं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें