430 परमेश्वर के समक्ष शांत रहने का अभ्यास

1

जब तू लोगों से बोलता या घूमता है, तू कहे, मेरा दिल है ईश्वर के पास।

मैं नहीं हूँ केंद्रित बाहरी चीज़ों पे। तब तू शांत है ईश्वर के समक्ष।

ऐसी चीज़ों के संपर्क में मत आ जो तेरे दिल को खींचे बाहर की ओर।

ऐसे लोगों के सम्पर्क में मत रह जो तेरे दिल को करते हैं परमेश्वर से दूर।

गर तू पीछा करता है ईश्वर के सिवा, किसी और का,

तू कभी पूर्ण नहीं हो पाएगा।

जो आज सुन सकते हैं उसके वचनों को लेकिन उसके समक्ष शांत नहीं रहते,

वे लोग सत्य से प्रेम नहीं करते। वे लोग ईश्वर से प्रेम नहीं करते।

गर तू ख़ुद को अर्पित नहीं करता अभी,

फिर तू कब अर्पित करेगा अपना सबकुछ?

छोड़ दे जो ध्यान भंग करता है तेरा परमेश्वर के समक्ष जाने से,

या दूर रह उस से। यही अच्छा तेरे जीवन के लिए।

पवित्र आत्मा महान कार्य करता है, ख़ुद ईश्वर बनाता है लोगों को पूर्ण।

तू नहीं रह सकता गर शांत ईश्वर के समक्ष

तू सामने नहीं आया ईश्वर के सिंहासन के, सिंहासन की ओर।

2

शांत करना दिल ईश्वर के समक्ष एक सार्थक बलिदान है।

जो सचमुच अपना दिल अर्पित करते हैं ईश्वर द्वारा पूर्ण किये जाएँगे।

अबाधित, चाहे छंटाई या हो निपटना, चाहे असफलता मिले या निराशा,

तेरा दिल होना चाहिए हमेशा ही, हमेशा शांत रहे ईश्वर के समक्ष।

छोड़ दे जो ध्यान भंग करता है तेरा परमेश्वर के समक्ष जाने से,

या दूर रह उस से। यही अच्छा तेरे जीवन के लिए।

पवित्र आत्मा महान कार्य करता है, ख़ुद ईश्वर बनाता है लोगों को पूर्ण।

तू नहीं रह सकता गर शांत ईश्वर के समक्ष

तू सामने नहीं आया ईश्वर के सिंहासन के, सिंहासन की ओर।

3

चाहे लोगों का व्यवहार कैसा भी हो, शांत रखना अपना दिल ईश्वर के समक्ष।

चाहे जैसी परिस्थिति का सामना हो, मुश्किल हो या पीड़ा,

चाहे सामना हो इम्तिहानों का, शांत रखना अपना दिल ईश्वर के समक्ष।

यही तरीका है, सिद्ध किए जाने का। यही तरीका है, सिद्ध किए जाने का।

छोड़ दे जो ध्यान भंग करता है तेरा परमेश्वर के समक्ष जाने से,

या दूर रह उस से। यही अच्छा तेरे जीवन के लिए।

पवित्र आत्मा महान कार्य करता है, ख़ुद ईश्वर बनाता है लोगों को पूर्ण।

तू नहीं रह सकता गर शांत ईश्वर के समक्ष

तू सामने नहीं आया ईश्वर के सिंहासन के, सिंहासन की ओर।

तू सामने नहीं आया ईश्वर के सिंहासन के।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के समक्ष अपने हृदय को शांत रखने के बारे में' से रूपांतरित

पिछला: 429 अपने हृदय को परमेश्वर के आगे शांत करने के तरीके

अगला: 431 परमेश्वर के समक्ष अपने हृदय को शांत रखने के फ़ायदे

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें