760 शुद्ध प्रेम बिना दोष के

1

प्रेम एक शुद्ध भावना है, शुद्ध बिना किसी भी दोष के।

अपने हृदय का प्रयोग करो, प्रेम के लिए,

अनुभूति के लिए और परवाह करने के लिए।

प्रेम नियत नहीं करता, शर्तें, बाधाएँ या दूरी।

अपने हृदय का प्रयोग करो, प्रेम के लिए,

अनुभूति के लिए और परवाह करने के लिए।

यदि तुम प्रेम करते हो, तो धोखा नहीं देते हो,

शिकायत नहीं करते, ना मुँह फेरते हो,

बदले में कुछ पाने की, चाह नहीं रखते हो।

यदि तुम प्रेम करते हो, तो बलिदान करोगे,

मुश्किलों को स्वीकार करोगे और परमेश्वर के साथ एक हो जाओगे,

परमेश्वर के साथ एक हो जाओगे।

प्रेम में दूरी नहीं है और अशुद्ध कुछ भी नहीं।

अपने हृदय का प्रयोग करो, प्रेम के लिए,

अनुभूति के लिए और परवाह करने के लिए।

2

तुम त्याग दोगे अपना यौवन, परिजन और भविष्य जो दिखायी देता,

त्याग दोगे अपना विवाह, परमेश्वर के लिए सब कुछ दे दोगे।

वरना तुम्हारा प्रेम, प्रेम नहीं है, बल्कि धोखा है, परमेश्वर का विश्वासघात है।

प्रेम में नहीं है संदेह, चालाकी या धोखा।

अपने हृदय का प्रयोग करो, प्रेम के लिए,

अनुभूति के लिए और परवाह करने के लिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'बहुत बुलाए जाते हैं, पर कुछ ही चुने जाते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 759 परमेश्वर का सच्चा प्रेम पाने की खोज करनी चाहिए तुम्हें

अगला: 761 क्या तुममें परमेश्वर के लिए सच्चा प्रेम है?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें