79 न्याय का कार्य स्वयं परमेश्वर द्वारा ही किया जाना चाहिए

1

न्याय इंसान को जीतने के लिए सत्य का उपयोग है,

तो बेशक इंसान के बीच काम करने

परमेश्वर देहधारी छवि में प्रकट होगा।

यानी मसीह अंत के दिनों में सत्य द्वारा

पूरी दुनिया के लोगों को सिखाएगा और उन्हें सारे सत्य बताएगा।

यह है परमेश्वर का न्याय कार्य।

कई लोग ईश्वर के दूसरे देहधारण से बेचैन हैं।

उन्हें यकीन न हो कि ईश्वर न्याय-कार्य करने देह बनेगा,

लेकिन ईश्वर को तुम्हें बताना होगा कि उसका काम

इंसान की अपेक्षा से कहीं आगे है,

और इसे स्वीकारना उसके लिए मुश्किल है।

क्योंकि इंसान तो हैं जैसे धरती के कीड़े, जबकि परमेश्वर सर्वोच्च है।

परमेश्वर ही पूरी कायनात में समाया है।

इंसान का दिमाग है गंदा पानी, पलें जिसमें कीड़े,

जबकि परमेश्वर की सोच से निर्देशित काम का हर चरण

उसकी बुद्धि का परिणाम है।

न्याय का कार्य है बस ईश्वर का;

इसे बस ईश्वर द्वारा किया जाना चाहिए।

उसकी जगह इंसान इसे न कर सके।

2

इंसान ईश्वर से लड़ना चाहे, साफ है कि कौन हारेगा।

ईश्वर तुम्हें सलाह देता, मत समझो खुद को सोने से कीमती।

जब कुछ लोग ईश-न्याय मान सकते तो तुम क्यों नहीं?

तुम खुद को औरों से कितना ऊपर समझते?

जब दूसरे झुक सकते सत्य के सामने, तो तुम भी क्यों नहीं?

ईश-कार्य रोका जा सकता नहीं।

तुम्हारे थोड़े-से "योगदान" की वजह से वो अपना न्याय-कार्य न दोहराएगा,

और तुम डूब जाओगे पछतावे में कीमती मौका गँवाने के लिए।

न्याय का कार्य है बस ईश्वर का;

इसे बस ईश्वर द्वारा किया जाना चाहिए।

उसकी जगह इंसान इसे न कर सके।

3

ईश-वचनों पर अगर तुम्हें विश्वास नहीं तो

स्वर्ग का महान श्वेत सिंहासन तुम्हारा न्याय करेगा!

जान लो कि सभी इस्राएलियों ने नकारा था यीशु को,

फिर भी उसने छुटकारा दिलाया इंसान को

ये तथ्य फैल गया कायनात में, पहुँचा धरती के कोने-कोने में।

क्या ईश्वर ने इसे सच नहीं किया बहुत पहले?

अगर अब भी हो इंतज़ार में कि यीशु तुम्हें स्वर्ग ले जाए,

तो लकड़ी के निर्जीव टुकड़े हो तुम।

तुम हो झूठे विश्वासी, सत्य से की बेवफाई,

बस आशीष पाना चाहा, यीशु तुम्हें स्वीकारेगा नहीं।

वो तुम पर दया न करेगा, आग की झील में फेंकेगा जलने के लिए हज़ारों साल।

न्याय का कार्य है बस ईश्वर का;

इसे बस ईश्वर द्वारा किया जाना चाहिए।

उसकी जगह इंसान इसे न कर सके, ओ...न कर सके।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है' से रूपांतरित

पिछला: 78 मनुष्य के पुत्र की छवि को उसके न्याय और उसकी ताड़ना में देखना

अगला: 80 न्याय से बचने के परिणाम

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें