708 स्वभाव में परिवर्तन की प्रक्रिया

1 स्वभाव में रूपांतरण, व्यवहार में परिवर्तन नहीं होता, न ही यह झूठा बाह्य परिवर्तन होता है, यह एक अस्थायी जोशीला परिवर्तन भी नहीं होता; बल्कि यह स्वभाव का एक सच्चा रूपांतरण है जो व्यवहार में बदलाव लाता है। व्यवहार में आया ऐसा परिवर्तन बाहरी कार्यों में परिवर्तन के समान नहीं होता। स्वभाव के रूपांतरण का अर्थ है कि तुमने सत्य को समझा और अनुभव किया है, और सत्य तुम्हारा जीवन बन गया है। अतीत में, तुमने इस मामले के सत्य को समझा तो था, लेकिन तुम इस पर अमल नहीं कर पाए थे; सत्य तुम्हारे लिए मात्र एक ऐसे सिद्धांत की तरह था जो टिकता ही नहीं था। अब चूँकि तुम्हारा स्वभाव रूपांतरित हो गया है, तुम न केवल सत्य को समझते हो, बल्कि तुम सत्य के अनुसार कार्य भी करते हो।

2 अब तुम उन चीज़ों से जिनके तुम पहले शौकीन थे; जो तुम पहले करना चाहते थे, साथ ही अपनी कल्पनाओं और धारणाओं से छुटकारा पाने में सक्षम हो। अब तुम उन चीज़ों को छोड़ देने में सक्षम हो जिन्हें तुम अतीत में नहीं छोड़ पाते थे। यह स्वभाव का रूपांतरण है और यह तुम्हारे स्वभाव के रूपांतरित होने की प्रक्रिया भी है। सुनने में यह बहुत सरल लगता है, लेकिन वास्तव में, जो व्यक्ति इस प्रक्रिया से गुजर रहा होता है, उसे बहुत-सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है, शरीर पर काबू पाना होता है और शरीर के उन पहलुओं का त्याग करना पड़ता है जो उसकी प्रकृति का अंग हैं। ऐसे व्यक्ति को व्यवहार, काट-छाँट, ताड़ना, न्याय, परीक्षणों से भी गुज़रना पड़ता है। इन सबका अनुभव करने के बाद ही कोई व्यक्ति अपनी प्रकृति को समझ सकता है। हालाँकि कुछ समझ होने का अर्थ यह नहीं है कि वह व्यक्ति तुरंत बदल सकता है; इस प्रक्रिया में उसे कठिनाइयाँ भी सहनी होंगी।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'स्वभाव बदलने के बारे में क्या जानना चाहिए' से रूपांतरित

पिछला: 707 स्वभाव में बदलाव वास्तविक जीवन से अलग नहीं हो सकता

अगला: 709 स्वभाव में बदलाव लाने के लिए सत्य का अनुसरण करो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें