591 परमेश्वर के भवन में अपनी निष्ठा अर्पित करो

I

तलाश में रहती हैं अ‍पने शिकार की सदा,

हर तरह की दुष्ट आत्मायें धरती पर,

रहती हैं आरामगाह की खोज में –

इंसानों को निगल जाने की फ़िराक में।

पहले जैसा बर्ताव न करना,

किसी भी हालत में,

परमेश्वर के सामने कुछ करना

और उसकी पीठ पीछे कुछ और करना।

यही बर्ताव रखा अगर,

तो पा न सकोगे छुटकारा कभी।

क्या कितनी ही बार परमेश्वर ने कहे नहीं हैं

तुमसे ऐसे वचन?

परमेश्वर-जन!

रहोगे उसकी देखभाल और सुरक्षा में तुम।

आवारा या लापरवाह न बनो तुम!

परमेश्वर-जन!

उसके घर में अर्पित करो अपनी वफ़ादारी तुम।

हैवान की धूर्तता को अपनी वफ़ादारी से ही

नकार सकते हो तुम।


II

चूँकि इंसानी प्रकृति सुधरती नहीं है,

तुम लोगों की ख़ातिर ही इसे याद दिलाया है

परमेश्वर ने बार-बार।

सुनिश्चित करने नियति तुम्हारी,

ये सब कहता है परमेश्वर बार-बार।

चाहिये शैतान को बस –

गन्दी और दूषित जगह एक।

छुटकारे के अवसर जितने कम होंगे,

उतने ही ज़्यादा तुम लम्पट बनोगे,

संयम जितना कम होगा तुम्हारा,

मैली रूहें उतनी ही हमला करेंगी तुम पर।

फँस गये इन हालात में अगर एक बार तुम,

तो खोखली बात बन जायेगी वफ़ादारी तुम्हारी,

खा जायेंगे हैवान संकल्प तुम्हारा,

बदल जायेगा नाफ़रमानी और शैतान की

चालबाज़ी में संकल्प तुम्हारा।

तुम डालोगे रुकावट परमेश्वर के काम में,

देगा मौत की सज़ा तुम्हें वो।

संगीन हैं हालात फिर भी,

सचमुच परवाह नहीं है किसी को।

परमेश्वर-जन!

रहोगे उसकी देखभाल और सुरक्षा में तुम।

आवारा या लापरवाह न बनो तुम!

परमेश्वर-जन!

उसके घर में अर्पित करो अपनी वफ़ादारी तुम।

हैवान की धूर्तता को अपनी वफ़ादारी से ही

नकार सकते हो तुम।


III

क्या हुआ था याद नहीं रखेगा परमेश्वर,

मगर क्या तुम उसकी प्रतीक्षा करोगे,

तुम्हारे प्रति वो दयालु हो जाये,

अगली बार फिर तुम्हें माफ़ी मिल जाये?

इंसान बहुत बार परमेश्वर का विरोधी हुआ है,

मगर रखता नहीं अपने दिल में कुछ भी वो,

क्योंकि कद इंसान का सचमुच छोटा बहुत है,

इसलिये इंसान से परमेश्वर को ज़्यादा अपेक्षा नहीं है।

इंसान से परमेश्वर बस यही उम्मीद करता है,

संयम बरते और न बनाये आवारा ख़ुद को।

क्या इतना आज्ञापालन भी तुम लोगों के

लिये मुमकिन नहीं है?

परमेश्वर-जन!

रहोगे उसकी देखभाल और सुरक्षा में तुम।

आवारा या लापरवाह न बनो तुम!

परमेश्वर-जन!

उसके घर में अर्पित करो अपनी वफ़ादारी तुम।

हैवान की धूर्तता को अपनी वफ़ादारी से ही

नकार सकते हो तुम।


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 507 सच्चाई से जी कर ही तू दे सकता है गवाही

अगला: 355 बदले में क्या दिया है तुमने परमेश्वर को

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें