585 अधिक बोझ उठाओ ताकि परमेश्वर द्वारा अधिक आसानी से पूर्ण किये जा सको

1

जितना अधिक परमेश्वर की इच्छा के प्रति विचारशील तू रहेगा,

उतना ही बोझ तेरा बड़ा होगा।

जितना अधिक बोझ होगा, उतना ही अधिक तेरा अनुभव भी होगा।

जब तू परमेश्वर की इच्छा के प्रति विचारशील रहेगा,

परमेश्वर तुझे ये दायित्व देगा।

वो तुझे उन बातों पर प्रबुद्ध करेगा जिन्हें उसने तुझे सौंपा है।

परमेश्वर द्वारा ये दायित्व पाने के बाद,

इनसे जुड़े सत्य पर तू ध्यान देगा, परमेश्वर के वचनों को खाते पीते हुए।

इनसे जुड़े सत्य पर तू ध्यान देगा।

अगर तेरा दायित्व जुड़ा है भाई बहनों की आध्यात्मिक ज़िंदगियों से,

तो ये परमेश्वर ने तुझे है सौंपा।

प्रतिदिन इसके साथ तू प्रार्थना करेगा।

2

परमेश्वर जो करता है तुझे वो सौंपा गया है,

उसकी इच्छानुसार तू काम करना चाहता है।

इस तरह परमेश्वर का बोझ तेरा अपना बनता है,

यही तो परमेश्वर के बोझ को उठाना है।

परमेश्वर के वचनों को खाते पीते समय

जब तू बोझ ढोता है उस समय,

तू परमेश्वर के वचनों का सार समझ पाता है,

उसकी इच्छा का ध्यान रखता और अपना मार्ग पाता है।

इसलिए परमेश्वर से तुझे प्रार्थना करनी चाहिए

ताकि तेरा बोझ और बढ़ जाए, और बड़ी चीज़ें वो तुझे सौंपे,

ताकि तेरा अभ्यास का पथ बड़ा बन जाए,

परमेश्वर के वचनों को खाने से पायेगा तू ज़्यादा,

उसके वचनों के सार को समझेगा,

पवित्र आत्मा से प्रेरित होकर, तू ज़्यादा स्वीकार कर पायेगा।

परमेश्वर के वचनों को खाना पीना, उसके बोझ को स्वीकारना,

प्रार्थना का अभ्यास करना, उसने जो सौंपा उसे स्वीकारना,

ये सब वो पथ पाने के लिए हैं, जो है तेरे सामने।

परमेश्वर के लिए जितना अधिक बोझ तू उठाएगा,

उतनी आसानी से पूर्णता पायेगा, पूर्णता पायेगा, पूर्णता पायेगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'पूर्णता प्राप्त करने के लिए परमेश्वर की इच्छा को ध्यान में रखो' से रूपांतरित

पिछला: 584 परमेश्वर के कार्य के लिए पूरी तरह समर्पित हो जाओ

अगला: 586 इस मौके को खो दोगे तो तुम हमेशा पछताओगे

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें