266 इंसान को ज़रूरत है परमेश्वर द्वारा जीवन के पोषण की

1

जब ईश्वर न हो दिल में, मन की दुनिया अंधेरी रहे;

आशा न रहे खोखले जीवन में।

इंसान अपना विकास बनाए रखना चाहे,

लेकिन ईश्वर जो न राह दिखाये, इंसान खोखला ही रहे।

इंसान का जीवन न कोई बन सके,

न कोई सिद्धान्त, न विज्ञान, न ज्ञान, न लोकतंत्र आराम दे सके।

इंसान पाप करता रहेगा, अन्याय पर रोता रहेगा।

खोजने की इच्छा को दबा नहीं सकतीं ये बातें।

इंसान को न्याय-भरे समाज से ज़्यादा चाहिए

जहां सभी हों पोषित, समान और आज़ाद।

इंसान को चाहिए परमेश्वर का उद्धार और जीवन का उसका पोषण।

केवल जब इंसान ईश्वर से ये चीज़ें पाये तभी पूरी हों उसकी ज़रूरतें;

खोजने की इच्छा और आत्मिक ख़ालीपन, इन बातों का हल हो जाये।

2

ईश्वर ने बनाया इंसान को, ये सब है इसीलिए।

अर्थहीन बलिदान और इंसान की खोज लाये बस परेशानी और डर की दशा।

कैसे करना भविष्य का सामना इंसान न जाने,

ज्ञान, विज्ञान, और खोखलेपन से डरे।

किसी आज़ाद देश में कोई रहे या ना रहे, अपने भाग्य से न कोई बच सके।

चाहे हो राजा या हो प्रजा,

मंज़िल और इंसानी राज़ खोजने की इच्छा छोड़ न पाए,

इस खोखलेपन से दूर न जा पाए।

ये सामाजिक बातें आम हैं इंसान के वास्ते,

लेकिन कोई महापुरुष इंसानी मामलों को हल न कर सके।

क्योंकि इंसान तो बस इंसान है,

परमेश्वर का जीवन और जगह कोई इंसान न ले सके।

लोगों और देशों को जो उद्धार न मिले,

वे बढ़ जाएँ अंधेरे की ओर, फिर ईश्वर उन्हें नष्ट करे।

इंसान को न्याय-भरे समाज से ज़्यादा चाहिए

जहां सभी हों पोषित, समान और आज़ाद।

इंसान को चाहिए परमेश्वर का उद्धार और जीवन का उसका पोषण।

केवल जब इंसान ईश्वर से ये चीज़ें पाये तभी पूरी हों उसकी ज़रूरतें;

खोजने की इच्छा और आत्मिक ख़ालीपन, इन बातों का हल हो जाये।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर संपूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियंता है' से रूपांतरित

पिछला: 265 मानवजाति द्वारा परमेश्वर के मार्गदर्शन को खो देने के परिणाम

अगला: 267 दौलत-शोहरत से शैतान लोगों के विचारों पर नियंत्रण करता है

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें