691 बीमारी की शुरुआत परमेश्वर का प्रेम है

1

सभी चीज़ों का स्वामी, सर्वशक्तिमान परमेश्वर,

राजसी सामर्थ्य का करता है उपयोग अपने सिंहासन से।

करता है शासन हर चीज़ पर, दिखाता है राह हम सबको धरती पर।

आओ उसके रूबरू, पाएं ज्ञान निरंतर।

सब चीज़ें और पदार्थ, इंसान सब, पाते अनुमति परमेश्वर के सिंहासन से।

शिकायती दिल न रखना, वो कृपा न बरसाएगा तुम पर वरना,

आता है जब कोई रोग तो होते हैं उसके पीछे, यकीनन नेक इरादे उसके।

तन को तकलीफ हो तो भी, ख़्याल शैतान के न रखना।

रोग में परमेश्वर की स्तुति करना, न हार मानना, न दिल छोटा करना।

खोजोगे जब तो परमेश्वर तुम्हें अपनी रोशनी देगा, रोशनी देगा।

खोजोगे जब तो परमेश्वर तुम्हें अपनी रोशनी देगा,

रोशनी देगा, अपनी रोशनी देगा।

2

याद करो अय्यूब कितना वफ़ादार था। समर्थ चिकित्सक है परमेश्वर।

बीमारी में रहते हो तो बीमार हो तुम, उमंग में रहते हो तो तंदुरुस्त हो तुम।

साँस लोगे तो तुम्हें मरने न देगा परमेश्वर।

पुनर्जीवित मसीह की ज़िंदगी है हम में,

मगर सचमुच परमेश्वर में आस्था की कमी है हम में।

उसके सब वचनों में मिठास बहुत है, परमेश्वर आस्था पैदा करे हम में।

परमेश्वर के वचन दवा हैं सब के लिये।

परमेश्वर के वचन दवा हैं सब के लिये।

3

लानत है दुष्ट पर, लानत है शैतान पर।

परमेश्वर के वचन बचायेंगे हमारे दिल।

परमेश्वर के वचन ही हैं सहारा हमारा।

हर बुरी चीज़ को भगाते हैं वचन, हर चीज़ को सुकून देते हैं वचन।

आस्था एक कुंदे के पुल की तरह है, कायर उसके पार जा नहीं सकता।

वो मगर कर सकते हैं इस पुल को पार, जिन में समर्पण होता है।

शैतान बनाता है बेवकूफ़ बुज़दिल ख़्यालों से।

शैतान आज़माता है हर तरीका, वो हमें अपने बुरे ख़्याल भेजता है।

अक्सर दुआ करो, परमेश्वर की रोशनी के लिये,

हमारे भीतर जो ज़हर है वो मिटाए उसको।

उसके करीब आओ, उसे करने दो हम पर शासन।

उसके करीब आओ, उसे करने दो हम पर शासन।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'आरंभ में मसीह के कथन' के 'अध्याय 6' से रूपांतरित

पिछला: 690 बीमारी का प्रहार होने पर परमेश्वर की इच्छा की खोज करनी चाहिए

अगला: 692 परीक्षण के प्रति इंसान का रवैया

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें