85 पूरे सफ़र में साथ तुम्हारे

1

खोया-खोया-सा अंदर से बेसहारा महसूस करता हुआ,

घूमता हूँ, भटकता हूँ जगत में मैं।

तुम्हारे कोमल वचनों से जागकर, देखता हूँ उभरती रोशनी मैं।

तुम्हारे वचनों का न्याय मुझे स्वीकार है।

देखता हूँ भीतर तक दूषित हूँ मैं।

अपने बर्ताव पर विचार करते हुए, वही स्वभाव अपने भीतर पाता हूँ मैं।

न शैतान के चोट पहुँचाने का भय है, न सूनेपन का जो रात लाती है,

जब तुम्हारे साथ होता हूँ मैं।

न ख़तरों से रूबरू होने का डर है,

न सफ़र की मुश्किलों का, जब तुम्हारे साथ होता हूँ मैं।

मुसीबतों की खुरदुरी राहों के बाद,

एक ख़ूबसूरत कल का स्वागत करता हूँ मैं, करता हूँ मैं, करता हूँ मैं।


2

अपने भीतर होता है मलाल मुझे,

एहसानमन्द हूँ कि बचा लिया गया हूँ मैं।

महान करुणा जो दिखाई तुमने, अपनी राह बना पाता हूँ मैं।

जब दूर होता हूँ तो वचन तुम्हारे पुकारते हैं मुझे।

तुम बचाते हो मुझे अनिष्ट से, महफ़ूज़ हूँ मैं।

मैं विद्रोह करता हूँ, तब छुप जाते हो तुम।

तब फिर असीम वेदना में चला जाता हूँ मैं।


3

तुम दया दिखाते हो, मुस्कराते हो, नज़दीक लाते हो, जब लौटता हूँ मैं।

जब शैतान ज़ख़्म देता है, कोड़े बरसाता है,

स्नेह तुम्हारा घाव भरता, दिलासा देता है मुझे।

मेरे दुख-दर्द को करते हो साझा,

शैतान की गिरफ़्त में जब आता हूँ मैं।

फिर सुबह होगी, आसमाँ फिर से नीला होगा,

है विश्वास मुझे, है विश्वास मुझे, है विश्वास मुझे।

न शैतान के चोट पहुँचाने का भय है, न सूनेपन का जो रात लाती है,

जब तुम्हारे साथ होता हूँ मैं।

न ख़तरों से रूबरू होने का डर है,

न सफ़र की मुश्किलों का, जब तुम्हारे साथ होता हूँ मैं।

मुसीबतों की खुरदुरी राहों के बाद,

एक ख़ूबसूरत कल का स्वागत करता हूँ मैं, करता हूँ मैं।


4

तुम्हारे वचन मेरा जीवन हैं मेरे प्रभु।

तुम्हारे वचनों का आनंद लेता हूँ हर दिन।

घेर लेता है जब शैतान मुझे,

तुम्हारे वचन देते हैं शक्ति और विवेक मुझे।

जब यातना सहता हूँ, नाकाम होता हूँ,

तो मुश्किल वक्त में तुम्हारे वचन राह दिखाते हैं मुझे।

जब होता हूँ मैं उदास या कमज़ोर,

वचन तुम्हारे देते हैं सहारा और आपूर्ति मुझे।


5

होता है जब इम्तहान मेरा, तो गवाही देने की ख़ातिर,

राह दिखाते हैं मुझे वचन तुम्हारे।

साथ रहता हूँ, बातें करता हूँ तुम से, कोई दूरी नहीं है बीच हमारे।

न शैतान के चोट पहुँचाने का भय है, न सूनेपन का जो रात लाती है,

जब तुम्हारे साथ होता हूँ मैं।

न ख़तरों से रूबरू होने का डर है,

न सफ़र की मुश्किलों का, जब तुम्हारे साथ होता हूँ मैं।

मुसीबतों की खुरदुरी राहों के बाद,

एक ख़ूबसूरत कल का स्वागत करता हूँ मैं, साथ तुम्हारे,

करता हूँ मैं, साथ तुम्हारे, करता हूँ मैं।

पिछला: 84 और गहराई से प्रेम करना चाहता हूँ मैं परमेश्वर को

अगला: 86 सर्वशक्तिमान परमेश्वर मुझसे प्रेम करता है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें