256 खोये हुए उद्धार को कैसे हासिल करूँ

1

तुमने पूछा था कब तक मैं तुम्हारा अनुसरण करूँगा;

मैंने कहा था मैं अपनी जवानी दे दूँगा और सदा तुम्हारे साथ रहूँगा।

मेरे दिल की गहराइयों से एक फुसफुसाहट आई,

जिसने पृथ्वी को झकझोर दिया और पहाड़ों को डगमगा दिया।

मैंने अश्रु-रंजित गालों से अपनी शपथें लीं,

पर अपने दोगलेपन को नहीं जाना।

समय के साथ, बड़े बदलाव इन भावनाओं को हल्का कर देते हैं,

और जो शपथ मैंने तुम्हारे सामने ली थीं, वे झूठ बन जाती हैं।

अंततः मैं अपने तुच्छ दान को समझ पाता हूँ।

केवल खोखले शब्दों से प्रतिदान देता हूँ।

अपने स्वप्न से जागकर, मैं अपने लिए चिंतित होता हूँ।

खोये हुए उद्धार को कैसे हासिल करूँ?

अपने स्वप्न से जागकर, मैं अपने लिए चिंतित होता हूँ।

खोये हुए उद्धार को कैसे हासिल करूँ?

2

जब हम मिले थे, मैंने तुम्हारे खिलाफ़ विद्रोह किया।

मैं उन पुराने दृश्यों को याद करना नहीं चाहता।

बिना वफ़ादारी का मेरा समर्पण,

तुम्हारे लिए और भी बड़ी पीड़ा ले आया है।

मेरी जवानी में, तुमने मेरे लिए कठोर परिश्रम किया,

पर इसके लिए कोई भी आभार न दिया गया।

मेरे वे साल यूं ही फिसल गए और मैंने कुछ ख़ास हासिल नहीं किया।

अपने भीतर के संताप को मैं किसे बताऊँ?

अंततः मैं अपने तुच्छ दान को समझ पाता हूँ।

केवल खोखले शब्दों से प्रतिदान देता हूँ।

अपने स्वप्न से जागकर, मैं अपने लिए चिंतित होता हूँ।

खोये हुए उद्धार को कैसे हासिल करूँ?

अपने स्वप्न से जागकर, मैं अपने लिए चिंतित होता हूँ।

खोये हुए उद्धार को कैसे हासिल करूँ?

यहाँ-वहाँ भागते हुए,

मैं तुम्हारे दिल के साथ संपर्क नहीं कर पाता।

हम एक बार संयोग से मिले, पर मैं तुम्हें पहचान न पाया,

जो मुझे और भी अफ़सोस दे गया।

पिछला: 255 परमेश्वर के प्रेम की यादें

अगला: 257 परमेश्वर के हृदय को अभी तक सुकून नहीं मिला है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें