116 ईमानदार लोगों में ही होती है इंसानियत

1

शोहरत, मुनाफ़े की ख़ातिर, आचरण के मानक त्यागे मैंने,

रोज़ी-रोटी के लिये झूठ बोलती थी मैं।

विवेक या नैतिकता की परवाह की नहीं मैंने,

सच्चाई या गरिमा की परवाह की नहीं मैंने।

जीती थी सिर्फ़ अपनी बढ़ती अभिलाषा, लालच की संतुष्टि के लिए।

बेचैन दिल लिये, पाप के कीचड़ में लोटती थी मैं,

इस बेइंतिहा अंधेरे से बच न सकी मैं।

नश्वर दौलत, पल भर का सुख,

छुपा सके न भीतर के ख़ालीपन को।

जीवन में ईमान का होना मुश्किल क्यों है?

इंसान इतना दुष्ट और शातिर क्यों है?

कैसी दुनिया है ये? कौन बचा सकता मुझको?

2

सुनकर परमेश्वर की वाणी, लौट आई सम्मुख उसके मैं।

पढ़कर परमेश्वर के वचन हर दिन, बहुत लाभ पाती हूँ मैं।

बहुत से सत्यों को समझती हूँ, मुझमें हैं इंसानी आचरण के नियम।

करते शुद्ध भ्रष्टता मेरी परमेश्वर के सत्य-वचन।

जीवन साथी हैं मेरे, परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के वचन।

परमेश्वर की जाँच को स्वीकारना, देता है सुकून दिल को मेरे।

न कोई धोखा, न छल है, रोशनी में रहती हूँ मैं।

नेकनीयत, खुले दिल से, अब इंसान की तरह जीती हूँ मैं।

गुज़री हूँ इम्तहानों से, देखा है ईश्वर का चेहरा मैंने।

उसके वचनों में, पाया है नया जीवन मैंने।

अब नेक इंसान बन सकती हूँ मैं।

परमेश्वर के प्रेम और उद्धार की शुक्रगुज़ार हूँ मैं!

सर्वशक्तिमान परमेश्वर की शुक्रगुज़ार हूँ मैं!

पिछला: 115 परमेश्वर के वचनों का सत्य बहुत मूल्यवान है

अगला: 117 केवल परमेश्वर से सच्चा प्रेम करने वाले ही ईमानदार हैं

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें