374 क्या तुमने अभी तक परमेश्वर से कुछ ख़ास हासिल नहीं किया है?

1 यद्यपि अय्यूब यहोवा के परीक्षणों से गुजरा, किंतु वह सिर्फ एक धार्मिक इंसान था, जो यहोवा की आराधना करता था। उन परीक्षणों से गुज़रने के बावजूद उसने यहोवा के बारे में शिकायत नहीं की, और उसने यहोवा के साथ अपने साक्षात्कार को सँजोकर रखा। आज के लोग न सिर्फ यहोवा की उपस्थिति को सँजोकर नहीं रखते, बल्कि वे उसकी उपस्थिति को अस्वीकार करते हैं, उससे घृणा करते हैं, उसकी शिकायत करते हैं और उसका मज़ाक बनाते हैं। क्या तुम लोगों ने बहुत ज्यादा प्राप्त नहीं किया है? क्या तुम लोगों के दुःख सचमुच इतने बड़े रहे हैं? क्या तुम लोग मरियम और याकूब से अधिक भाग्यशाली नहीं हो? क्या तुम लोगों का प्रतिरोध इतना मामूली रहा है? क्या यह हो सकता है कि मैंने तुम लोगों से जो अपेक्षा की है और मैंने तुम लोगों से जो माँगा है, वह बहुत बड़ा और बहुत ज्यादा रहा है?

2 मेरा कोप केवल उन इस्राएलियों पर टूटा था, जिन्होंने मेरा विरोध किया, सीधे तुम लोगों पर नहीं; तुम लोगों ने जो प्राप्त किया है, वह केवल मेरा निर्मम न्याय और खुलासे और साथ ही सतत अग्निमय शुद्धिकरण रहा है। इसके बावजूद लोग मेरा प्रतिरोध और खंडन करते रहते हैं, और ऐसा वे बिना किसी समर्पण के करते हैं। यहाँ तक कि कुछ ऐसे भी हैं, जो खुद को मुझसे दूर रखते हैं और मुझे नकारते हैं; ऐसे लोग मूसा का विरोध करने वाले कोरह और दातान के दल से बेहतर नहीं हैं। लोगों के दिल बहुत कठोर और उनकी प्रकृति बहुत हठी है। वे अपने पुराने तरीके कभी नहीं बदलते। इस प्रकार के स्वभाव वाले लोग कैसे जान सकते हैं कि वे अय्यूब से सौ गुना अधिक भाग्यशाली रहे हैं?

3 वे कैसे महसूस कर सकते हैं कि जिन आशीषों का वे आनंद ले रहे हैं, वे युगों-युगों में शायद ही देखे गए हों, और इससे पहले किसी भी व्यक्ति ने उनका आनंद नहीं लिया है? लोगों के अंतःकरण इस तरह के आशीषों को कैसे महसूस कर सकते हैं, आशीष, जो सजा से युक्त हैं? मुझे तुम लोगों से सिर्फ यह अपेक्षा है कि तुम लोग मेरे कार्य के लिए आदर्श बन सको, मेरे संपूर्ण स्वभाव और मेरे सभी कार्यों के लिए गवाह बन सको, और कि तुम लोग शैतान की यातनाओं से मुक्त हो सको। फिर भी लोग हमेशा मेरे कार्य से घृणा करते हैं और जान-बूझकर उसके प्रतिकूल रहते हैं। यह कैसे हो सकता है कि इस तरह के लोग मुझे इस्राएल के कानूनों को वापस लाने, और उन पर वह कोप बरसाने के लिए न उकसाएँ, जो मैंने इस्राएल पर बरसाया था?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'आशीषों से तुम लोग क्या समझते हो?' से रूपांतरित

पिछला: 373 लोग परमेश्वर से ईमानदारी से प्रेम क्यों नहीं करते?

अगला: 375 क्या तुम सच में परमेश्वर की प्रजा में शामिल होने के योग्य हो?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें