130 परमेश्वर के अनुग्रह की गिनती

1

परमेश्वर के अनुग्रह की गिनती से बहते हैं मेरे आँसू।

बंद होंठों के पीछे, मेरे गले में हैं सिसकियां।

जब मैं भूखा था, बिना शक्ति के, तुमने मुझे दिया सबसे अच्छा पोषण।

जब मैं था दर्द में और निराश,

किया गया मुझे अपमानित, छोड़ दिया गया मुझे,

तुम्हारे हाथों ने पोंछे मेरे आंसू, तुमने दी मुझे सांत्वना।

ओह परमेश्वर! जब मैं कांप रहा था ठंड से,

ओह परमेश्वर! तुमने पहुंचाई थी मुझे गर्माहट।

जब कठिनाइयां थीं बहुत कठिन, तुमने की मुझ पर दया।

2

जब मैं अकेला खोया हुआ था, तुम्हारे प्यारे वचनों ने दिया मुझे आराम।

जब मैं बीमारियों से घिरा हुआ था, तुमने किया इलाज, दिखाया रास्ता।

जब मैं बहुत घमंडी और अहंकारी था,

तुम्हारी छड़ी मुझसे दूर नहीं थी।

जब किया गया मुझे अपमानित, किया गया गलत मेरे साथ,

तुम्हारे उदाहरण ने किया मुझे प्रोत्साहित।

ओह परमेश्वर! मैं अंधेरे में था, कोई उम्मीद नहीं थी,

ओह परमेश्वर! तुम्हारे वचनों ने चमकाई थी रोशनी मुझ पर।

मेरे लिए कोई राह नहीं थी, रास्ते के अंत को तुमने किया रोशन।

3

जब समुंदर ने निगला मुझे, तो जहाज़ से तुमने हाथ बढ़ाया।

जब शैतान ने घेरा मुझे, तुम्हारी तलवार ने उसकी पकड़ से छुड़ाया।

तुम्हारे साथ की मैंने प्राप्त जीत, तुम भी मुझे देखकर मुस्कुराए।

मेरे दिल में हैं कई शब्द।

जहां तुम हो, वहां से मेरा दिल भटक सकता नहीं।

ओह परमेश्वर! परमेश्वर का अनुग्रह है पहाड़ों से भी बड़ा।

ओह परमेश्वर! मेरा जीवन चुका सकता नहीं तुम्हारा कर्ज़।

तुम्हारा अनुग्रह है बहुत गहरा।

वर्णन करने के लिए नहीं है पर्याप्त सियाही।

पिछला: 129 मेरे दिल में जो कुछ है मैं वह सब कह नहीं सकता

अगला: 131 परमेश्वर की दूर जाती आकृति को निहारना

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें