130 परमेश्वर के अनुग्रह की गिनती

1

परमेश्वर के अनुग्रह की गिनती से बहते हैं मेरे आँसू।

बंद होंठों के पीछे, मेरे गले में हैं सिसकियां।

जब मैं भूखा था, बिना शक्ति के, तुमने मुझे दिया सबसे अच्छा पोषण।

जब मैं था दर्द में और निराश,

किया गया मुझे अपमानित, छोड़ दिया गया मुझे,

तुम्हारे हाथों ने पोंछे मेरे आंसू, तुमने दी मुझे सांत्वना।

ओह परमेश्वर! जब मैं कांप रहा था ठंड से,

ओह परमेश्वर! तुमने पहुंचाई थी मुझे गर्माहट।

जब कठिनाइयां थीं बहुत कठिन, तुमने की मुझ पर दया।

2

जब मैं अकेला खोया हुआ था, तुम्हारे प्यारे वचनों ने दिया मुझे आराम।

जब मैं बीमारियों से घिरा हुआ था, तुमने किया इलाज, दिखाया रास्ता।

जब मैं बहुत घमंडी और अहंकारी था,

तुम्हारी छड़ी मुझसे दूर नहीं थी।

जब किया गया मुझे अपमानित, किया गया गलत मेरे साथ,

तुम्हारे उदाहरण ने किया मुझे प्रोत्साहित।

ओह परमेश्वर! मैं अंधेरे में था, कोई उम्मीद नहीं थी,

ओह परमेश्वर! तुम्हारे वचनों ने चमकाई थी रोशनी मुझ पर।

मेरे लिए कोई राह नहीं थी, रास्ते के अंत को तुमने किया रोशन।

3

जब समुंदर ने निगला मुझे, तो जहाज़ से तुमने हाथ बढ़ाया।

जब शैतान ने घेरा मुझे, तुम्हारी तलवार ने उसकी पकड़ से छुड़ाया।

तुम्हारे साथ की मैंने प्राप्त जीत, तुम भी मुझे देखकर मुस्कुराए।

मेरे दिल में हैं कई शब्द।

जहां तुम हो, वहां से मेरा दिल भटक सकता नहीं।

ओह परमेश्वर! परमेश्वर का अनुग्रह है पहाड़ों से भी बड़ा।

ओह परमेश्वर! मेरा जीवन चुका सकता नहीं तुम्हारा कर्ज़।

तुम्हारा अनुग्रह है बहुत गहरा।

वर्णन करने के लिए नहीं है पर्याप्त सियाही।

पिछला: 129 मेरे दिल में जो कुछ है मैं वह सब कह नहीं सकता

अगला: 213 एक पश्चातापी हृदय

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें