892 बचाएगा जिन्हें परमेश्वर, विशिष्ट हैं वे उसके दिल में

1

सभी चीज़ों में, मनुष्य का उद्धार परमेश्वर का सबसे बड़ा काम है।

वह करता है हर कार्य मानव जाति के लिए,

न सिर्फ शब्दों और विचारों के साथ,

एक उद्देश्य, योजना और इच्छा के साथ।

परमेश्वर और मनुष्य दोनों के लिए

महत्वपूर्ण है मानवजाति के उद्धार का यह कार्य।

परमेश्वर कितना व्यस्त है और कितने प्रयास करता है।

वह करता है अपने काम का प्रबंध और शासन सभी लोगों और चीज़ों पर।

इतनी बड़ी कीमत पर जो पहले कभी नहीं देखी।

अपने कार्यों में धीरे धीरे मनुष्य को करता है उजागर परमेश्वर का स्वरुप है क्या,

और परमेश्वर है क्या परमेश्वर की बुद्धि, उसका सामर्थ्य,

उसका स्वभाव और मूल्य जिसका भुगतान उसने किया।

भले ही कार्य हो कितना कठिन भले ही बाधाएं हों अपार,

भले ही मनुष्य हो कितना ही अवज्ञाकारी या कमज़ोर,

परमेश्वर को कुछ भी रोक नहीं सकता, कुछ भी नहीं कठिन,

कुछ भी नहीं कठिन।

2

कितना करीब है परमेश्वर और कितनी आत्मीयता है,

उनके साथ जिन्हें उसने प्रबंध और बचाव के लिए चुना है।

सिवाय उनके न और किसी के साथ परमेश्वर की इतनी आत्मीयता रही है।

उसके हृदय में, वे सब से महत्वपूर्ण हैं,

और वो सब से बढ़कर उन्हें मूल्य देता है।

कितनी ही परमेश्वर को चोट पहुँचाई हो, या उसकी नाफ़र्मानी की हो।

भले ही परमेश्वर ने बड़ी कीमत चुकाई हो फिर भी,

बिना किसी अफ़सोस या शिकायत के,

बिना थके करता है परमेश्वर अपना कार्य, यह जानकर,

एक दिन द्रवित होंगे लोग उसके वचन सुनकर।

मनुष्य एक ना एक दिन उस की पुकार के प्रति हो जाएँगे जागरूक

यह पहचानेंगे कि वह सृष्टि का प्रभु है, और आएंगे उसके पक्ष में वापस।

भले ही कार्य हो कितना कठिन भले ही बाधाएं हों अपार,

भले ही मनुष्य हो कितना ही अवज्ञाकारी या कमज़ोर,

परमेश्वर को कुछ भी रोक नहीं सकता, कुछ भी नहीं कठिन,

कुछ भी नहीं कठिन।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर III' से रूपांतरित

पिछला: 891 जिन्हें बचाएगा परमेश्वर उनकी वो सबसे अधिक परवाह करता है

अगला: 893 परमेश्वर मुक्त रूप से मनुष्य को सत्य और जीवन देता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें