269 परमेश्वर तुम्हारे हृदय और रूह को खोज रहा

1

मानव, जिन्होंने त्यागा है सर्वशक्तिमान का दिया जीवन,

अस्तित्व में क्यों वे हैं जानें ना, फिर भी डरते हैं मृत्यु से।

न कोई सहारा, न मदद,

फिर भी मानव आँखों को बंद करने में अनिच्छुक है,

ज़ुर्रत कर, दिखाता है एक अशोभनीय अस्तित्व, इस जहां में,

बिन आत्माओं की चेतना के शरीरों में।

जीते हो तुम आशा के बिन। जैसे जीता है वो लक्ष्य के बिन।

रिवायत में एक ही बस पवित्र जन है, रिवायत में एक ही बस पवित्र जन है,

आएगा जो बचाने उन्हें रोएं जो कष्ट से

और हताश हो तड़पते हैं उसके आगमन के लिए।

इन लोगों में जो हैं अभी अचेत, यह विश्वास नहीं है जगाया जा सकता।

फिर भी लोगों में इसे प्राप्त करने की इच्छा है।

2

सर्वशक्तिमान को है करुणा उनपे जो पीड़ा में हैं।

और साथ ही वो ऊब चुका है इनसे जो हैं बेहोश,

क्योंकि करना होता है उसको बहुत इंतज़ार मनुष्य से पाने को जवाब।

वो चाहता है ढूंढना तुम्हारे दिल और रूह को।

वो देना चाहता है भोजन और पानी तुम्हें।

जगाना चाहता है, वो तुम्हें ताकि तुम भूखे और प्यासे न रहो।

और जब तुम थक जाते हो,

और जब तुम खुद को अकेला पाते हो, अपने इस संसार में,

न घबराना तुम, न रोना तुम। सर्वशक्तिमान ईश्वर,

किसी भी समय तुम्हारे आगमन को गले लगा लेगा।

3

निगरानी वो कर रहा, इंतज़ार में तुम्हारे लौटने के।

तुम्हारी याददाश्त लौटने का इंतज़ार वो कर रहा।

तुम्हारे जान जाने का कि तुम परमेश्वर से ही आये हो,

यह सत्य कि आये हो तुम परमेश्वर से ही।

एक दिन तुम राह खो कर, किसी तरह कहीं पे,

पड़े थे बेहोश किनारे एक सड़क के,

और फिर अनजाने में मिला तुमको "पिता"।

तुम्हें हो एहसास कि सर्वशक्तिमान वहां पहरे पर है।

इंतज़ार कर रहा है तुम्हारे वापस लौट आने का, एक अरसे से।

4

वो बेहद चाहता है। वो करता इंतज़ार प्रत्युत्तर के लिए बिन किसी जवाब के।

उसका इंतज़ार है अनमोल

और यह है दिल के लिए, मानव की रूह और दिल के लिए।

ये इंतज़ार शायद सदा ही रहेगा, या शायद ये इंतज़ार अब अंत होने को है।

पर जानना तुम्हें है चाहिए, कहाँ है तुम्हारा दिल और रूह? कहाँ हैं वे?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सर्वशक्तिमान की आह' से रूपांतरित

पिछला: 268 शैतान मनुष्य को भ्रष्ट करने के लिए कैसे सामाजिक प्रवृत्तियों का उपयोग करता है

अगला: 270 परमेश्वर उनकी तलाश कर रहा है जो उसके प्रकटन के प्यासे हैं

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें