882 परमेश्वर ने अपना सारा प्रेम दिया है मानवता को

1

चाहे दिखाए वो अपनी धार्मिकता, अपना प्रताप या प्रकोप,

परमेश्वर करता है अपना प्रबंधन, बचाता है इंसान को अपने प्रेम के कारण।

कुछ लोग पूछते हैं कितना प्रेम।

परमेश्वर का प्रेम होता है हमेशा सौ प्रतिशत।

क्योंकि परमेश्वर का प्रेम होता अगर थोड़ा भी कम,

बचाया जा नहीं सकता था इंसान को।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम मानवता को।

वो देता है अपना सारा प्रेम। वो देता है अपना सारा प्रेम।

2

परमेश्वर ने देहधारण क्यों किया?

इंसान को बचाने के लिए उसने छोड़ी नहीं कोई कमी।

उसके देहधारण में है मौजूद उसका सारा प्रेम।

देखा जा सकता है कि इंसान ने किया है चरम सीमा तक विरोध परमेश्वर का।

निकल चुका है इंसान, निकल चुका है इंसान बचाए जाने की हद से भी आगे।

रहा परमेश्वर के पास कोई विकल्प नहीं।

इंसान के लिए ख़ुद का बलिदान देने के लिए किया उसने देहधारण।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम मानवता को।

वो देता है अपना सारा प्रेम। वो देता है अपना सारा प्रेम।

3

नहीं करता अगर वो इंसान से प्यार, करता नहीं वो देहधारण।

गड़गड़ा सकता था वो बादल-बिजली को, बरसा सकता था अपना प्रकोप।

मानवता गिरती, गिरती ज़मीन पर,

होती नहीं फिर ज़रूरत परमेश्वर को देहधारी बनने की

शर्मनाक कीमत चुकाने की।

मानवता के लिए देता है वो बलिदान, मानवता के लिए देता है अपना प्रेम।

मानवता के लिए देता है वो बलिदान, मानवता के लिए देता है अपना प्रेम।

परमेश्वर दर्द, उत्पीड़न, और अपमान, तिरस्कार सहना समझता है बेहतर।

इसके बावजूद मानवता को बचाता है वो। यही तो है परिभाषा प्रेम की।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम मानवता को।

वो देता है अपना सारा प्रेम। वो देता है अपना सारा प्रेम।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'मनुष्‍यता के लिए परमेश्‍वर का सच्‍चा प्रेम' से रूपांतरित

पिछला: 881 बहुत कष्ट उठाता है परमेश्वर इंसान को बचाने के लिये

अगला: 883 जब परमेश्वर देहधारण करता है तभी मनुष्य को उद्धार का अवसर मिलता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें