सत्य को खोजने वाले सभी लोगों का हम से सम्पर्क करने का स्वागत करते हैं

मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना

ठोस रंग

विषय-वस्तुएँ

फॉन्ट

फॉन्ट का आकार

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

0 खोज परिणाम

कोई परिणाम नहीं मिला

`

परमेश्वर ने अपना सारा प्रेम दिया है मानवता को

I

चाहे दिखाए वो अपनी धार्मिकता, अपना प्रताप या प्रकोप,

परमेश्वर करता है अपना प्रबंधन,

बचाता है इंसान को अपने प्रेम के कारण।

कुछ लोग पूछते हैं कितना प्रेम।

परमेश्वर का प्रेम होता है हमेशा सौ प्रतिशत।

क्योंकि परमेश्वर का प्रेम होता अगर थोड़ा भी कम,

बचाया जा नहीं सकता था इंसान को।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम मानवता को।

वो देता है अपना सारा प्रेम। वो देता है अपना सारा प्रेम।

II

परमेश्वर ने देहधारण क्यों किया?

इंसान को बचाने के लिए उसने छोड़ी नहीं कोई कमी।

उसके देहधारण में है मौजूद उसका सारा प्रेम।

देखा जा सकता है कि

इंसान ने किया है चरम सीमा तक विरोध परमेश्वर का।

निकल चुका है इंसान, निकल चुका है इंसान

बचाए जाने की हद से भी आगे।

रहा परमेश्वर के पास कोई विकल्प नहीं।

इंसान के लिए ख़ुद का बलिदान देने के लिए किया उसने देहधारण।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम मानवता को।

वो देता है अपना सारा प्रेम। वो देता है अपना सारा प्रेम।

III

नहीं करता अगर वो इंसान से प्यार,

करता नहीं वो देहधारण।

गड़गड़ा सकता था वो बादल-बिजली को,

बरसा सकता था अपना प्रकोप।

मानवता गिरती, गिरती ज़मीन पर,

होती नहीं फिर ज़रूरत परमेश्वर को देहधारी बनने की

शर्मनाक कीमत चुकाने की।

मानवता के लिए देता है वो बलिदान, मानवता के लिए देता है अपना प्रेम।

मानवता के लिए देता है वो बलिदान, मानवता के लिए देता है अपना प्रेम।

परमेश्वर दर्द, उत्पीड़न, और अपमान,

तिरस्कार सहना समझता है बेहतर।

इसके बावजूद मानवता को बचाता है वो।

यही तो है परिभाषा प्रेम की।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम। परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम।

परमेश्वर देता है अपना सारा प्रेम मानवता को।

वो देता है अपना सारा प्रेम। वो देता है अपना सारा प्रेम।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

पिछला:अंत के दिनों में न्याय का कार्य है युग को समाप्त करना

अगला:जिनको परमेश्वर पा लेगा, वो अनंत आशीष का आनंद लेंगे

शायद आपको पसंद आये