260 इंसान के जीवन के लिए, परमेश्वर सारे कष्ट झेलता है

1

किसी ने ये रहस्य नहीं जाँचे कि

कैसे इंसान का जीवन शुरू हुआ,

कैसे वो निरंतर जीता है।

केवल ईश्वर इसे समझे,

उस इंसान द्वारा दी गयी चोटें सहे,

जो सब कुछ पाकर भी शुक्रिया न कहे।

जीवन से जो मिले, उसका मोल न समझे,

इसलिए वो ईश्वर को धोखा दे,

उससे जबरन वसूले, उसे भूल जाए।


ईश्वर सारा कष्ट सहे अपनी योजना और इंसान के

जीवन के लिए, न कि उसकी देह के लिए,

देह नहीं बल्कि उसकी साँस से

आया जीवन वापस लेने के लिए।

यह है उसकी योजना, जो है इंसान के जीवन के लिए।


2

क्या ईश-योजना इतनी महत्वपूर्ण हो सके?

ईश्वर ने जिस इंसान को दिया जीवन,

क्या वो भी उतना महत्वपूर्ण हो सके?

ईश-योजना महत्वपूर्ण है,

लेकिन उसने जो प्राणी बनाया अपने हाथों से

उसका अस्तित्व है बस ईश-योजना के लिए।

इसलिए, इंसानों से अपनी नफ़रत के कारण

ईश्वर अपनी योजना बर्बाद न होने दे सके।


ईश्वर सारा कष्ट सहे अपनी योजना और इंसान के

जीवन के लिए, न कि उसकी देह के लिए,

देह नहीं बल्कि उसकी साँस से

आया जीवन वापस लेने के लिए।

यह है उसकी योजना, जो है इंसान के जीवन के लिए।

ईश्वर सारा कष्ट सहे अपनी योजना और इंसान के

जीवन के लिए, न कि उसकी देह के लिए,

देह नहीं बल्कि उसकी साँस से

आया जीवन वापस लेने के लिए।

यह है उसकी योजना, जो है इंसान के जीवन के लिए।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, परमेश्वर मनुष्य के जीवन का स्रोत है से रूपांतरित

पिछला: 259 मनुष्य को बचाने के लिए परमेश्वर के नेक इरादे को कोई भी नहीं समझता

अगला: 261 मानव के भविष्य पर परमेश्वर विलाप करता है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें