1. कोहरा छंट जाता है और मैं स्वर्ग के राज्य का मार्ग पा लेता हूँ

चेन एई, चीन

जब मैं छोटा था, तब से मैंने अपने माता-पिता की तरह ही प्रभु में विश्वास किया है, और अब बुढ़ापे के दिन आ गए हैं। हालाँकि मैंने आजीवन प्रभु में विश्वास किया है, लेकिन पाप से खुद को कैसे छुड़ाऊँ और स्वर्ग के राज्य में कैसे प्रवेश करूँ, यह समस्या एक अनबूझ पहेली बनी रही जो मुझे निरंतर व्याकुल किया करती थी, इससे मैं खुद को भटका हुआ और पीड़ित महसूस करता था। अपने जीवनकाल में मैंने यह पता लगाना बहुत चाहा था कि कैसे खुद को पाप से मुक्त किया जाए और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश किया जाए ताकि जब मेरा समय आए तो मैं इस ज्ञान के साथ मृत्यु का सामना कर सकूँ कि मेरा जीवन संपूर्ण था, और अंततः मैं अपने दिल में शांति लिए प्रभु से मिल सकूँगा।

इस दुविधा को हल करने के प्रयास में, मैंने बड़ी जिज्ञासा से बाइबल से जानकारी हासिल करने की कोशिश की, मैंने बाइबल को बार-बार पढ़ा, पुराने नियम से लेकर नए नियम तक एवं नए नियम से वापस पुराने नियम तक। लेकिन अंत में, मुझे कोई भी सही जवाब नहीं मिला। इन विकल्पों में से, मैं बस इतना कर सकता था कि प्रभु के उपदेशों के अनुसार व्यवहार करने में यथाशक्ति अपने प्रयास को झोंक दूँ, क्योंकि प्रभु ने कहा: "स्वर्ग के राज्य में बलपूर्वक प्रवेश होता रहा है, और बलवान उसे छीन लेते हैं" (मत्ती 11:12)। लेकिन मैंने देखा कि वास्तविक जीवन में, चाहे मैं कितनी भी कोशिश क्यों न करूँ, मैं फिर भी प्रभु की मुझसे जो अपेक्षा थी, उस पर खरा नहीं उतर पाता था। जैसा कि प्रभु ने कहा है: "तू परमेश्‍वर अपने प्रभु से अपने सारे मन और अपने सारे प्राण और अपनी सारी बुद्धि के साथ प्रेम रख। बड़ी और मुख्य आज्ञा तो यही है। और उसी के समान यह दूसरी भी है कि तू अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रख" (मत्ती 22:37-39)। प्रभु की हमसे यह अपेक्षा है कि हम अपने पूरे दिलो-दिमाग़ से परमेश्वर से प्रेम करें, और भाई-बहन एक-दूसरे से प्रेम करें। लेकिन चाहे मैं कुछ भी करूँ, मैं इस तरह का प्रेम हासिल नहीं कर पा रहा था, क्योंकि मेरे परिवार के लिए मेरा प्यार, प्रभु के लिए मेरे प्रेम से बढ़कर था, और मैं कलीसिया में अपने भाइयों और बहनों से वैसा सच्चा प्रेम करने में सक्षम नहीं था जैसा कि मैं खुद से करता था। इसके विपरीत, अपने हितों की बात आने पर मैं अक्सर दूसरों के साथ ओछे और मतलबी ढंग से पेश आता था, यहाँ तक कि इससे मेरे भीतर रोष उत्पन्न हो जाता था। कैसे मेरे जैसा कोई व्यक्ति कभी भी बचाया जा सकता है और कैसे वह स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकता है? प्रभु यीशु ने भी स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के बारे में कई बातें कही हैं, जैसे कि: "मैं तुम से सच कहता हूँ कि जब तक तुम न फिरो और बालकों के समान न बनो, तुम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने नहीं पाओगे" (मत्ती 18:3)। "क्योंकि मैं तुम से कहता हूँ, कि यदि तुम्हारी धार्मिकता शास्त्रियों और फरीसियों की धार्मिकता से बढ़कर न हो, तो तुम स्वर्ग के राज्य में कभी प्रवेश करने न पाओगे" (मत्ती 5:20)। मैं प्रभु की इन अपेक्षाओं में से किसी को भी व्यवहार में लाने में असमर्थ था। मैं अक्सर झूठ बोला करता था, और जब भी मुझे किसी ऐसी बात का सामना करना पड़ता था जो मुझे पसंद न हो, तो मैं प्रभु को दोष दिया करता था। मेरे विचारों में छल और फ़रेब था, और मैं निरंतर पाप में पड़ा रहता था, मैं पाप करता फिर पश्चाताप, पश्चाताप करता और फिर पाप करता था। प्रभु पवित्र है, और बाइबल में यह कहा गया है: "उस पवित्रता के खोजी हो जिसके बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा" (इब्रानियों 12:14)। मेरे जैसा एकदम मैला व्यक्ति कभी भी स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के लायक कैसे हो सकता है? यह मेरे लिए बहुत ही कचोटने वाली बात थी। लेकिन जब भी मैं रोमियों, गलातियों, और इफिसियों में पौलुस द्वारा अनुमोदित, विश्वास के द्वारा न्यायसंगत हो जाने के तरीके के बारे में पढ़ता था—कि विश्वास करने और बपतिस्मा लेने का मतलब है कि व्यक्ति निश्चित रूप से बचा लिया जाता है, और अगर हम प्रभु में अपने दिल से विश्वास करते हैं और अपने मुंह से उसे स्वीकार करते हैं, तो हम विश्वास के माध्यम से न्यायसंगत हो जाते हैं, हमेशा के लिए बचाए जाते हैं, और जब प्रभु फिर से आयेगा, तो वह निश्चित रूप से हमें स्वर्ग के राज्य में उठा लेगा—मैं खुशी से अभिभूत हो जाता था। मुझे लगता था कि मुझे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। लेकिन फिर जब मुझे याद आता था कि प्रभु ने इस बारे में कहा था कि लोग केवल अपने प्रयासों के माध्यम से स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर पायेंगे, तब मुझे बेचैनी महसूस होती थी। विश्वास से न्यायसंगत ठहराया जाना और फिर स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर लेना—क्या यह वास्तव में इतना सरल हो सकता है? विशेष रूप से जब मैंने जीवन के अंत के करीब जाते पुराने धर्मनिष्ठ विश्वासियों को देखा, तो वे बेचैन और चिंतित दिखाई दिए, यहाँ तक कि वे बहुत रोया करते थे और उनमें से एक भी मरने के बारे में खुश नज़र नहीं आता था, तो मैं यह आश्चर्य किए बिना न रह सका: यदि वे कहते हैं कि केवल विश्वास के द्वारा न्यायसंगत होने के माध्यम से वे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं, तो वे अपनी मृत्यु-शैया पर इतने भयभीत क्यों दिखते हैं? ऐसा लगता था मानो उन्हें खुद पता नहीं था कि वे बचाए गए हैं या नहीं, न ही ये पता था कि वे मृत्यु के बाद कहाँ जाएँगे। मैंने प्रभु यीशु के वचनों पर बार-बार मनन किया, और मैंने पौलुस के शब्दों पर भी चिंतन किया, और पाया कि यीशु के वचन और पौलुस के शब्द इस बात पर बहुत भिन्न थे कि कौन स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकता है। पौलुस के अनुसार, कोई भी व्यक्ति केवल प्रभु पर विश्वास के द्वारा न्यायसंगत ठहराया जाता है—यदि ऐसा होता, तो सभी को बचा लिया जाता। तो फिर प्रभु यीशु ने क्यों कहा, "फिर स्वर्ग का राज्य उस बड़े जाल के समान है जो समुद्र में डाला गया, और हर प्रकार की मछलियों को समेट लाया। और जब जाल भर गया, तो मछुए उसको किनारे पर खींच लाए, और बैठकर अच्छी-अच्छी तो बर्तनों में इकट्ठा कीं और निकम्मी निकम्मी फेंक दीं" (मत्ती 13:47-48)? क्यों, जब प्रभु अंतिम दिनों में लौटता है, तो उसे गेहूँ को टेआस से, भेड़ों को बकरियों से, और भले सेवकों को बुरों से अलग करने की आवश्यकता होती है? प्रभु यीशु द्वारा बोले गए इन वचनों से यह स्पष्ट है कि हर कोई जो उसमें विश्वास करता है, स्वर्ग के राज्य में प्रवेश नहीं कर सकता है। इसलिए मैं सोचने लगा: क्या मुझे बचाया गया है? और मृत्यु के समय क्या मैं स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकूँगा? ये प्रश्न मेरे मन में अब भी पहेलियों की तरह बने रहे, और मैं उनका समाधान नहीं कर पाया।

इस समस्या को हल करने के प्रयास में, मैंने युगों से जाने-माने आध्यात्मिक हस्तियों द्वारा लिखी गई रचनाएँ पढ़ीं, लेकिन ज्यादातर मैंने जो भी पढ़ा वह रोमियों, गलातियों और इफिसियों में वर्णित विश्वास के द्वारा न्यायसंगत होने की व्याख्या ही थी, और उन पुस्तकों में से एक भी मेरे भ्रम को दूर नहीं कर सकी। तब मैं प्रभु में विश्वास करने वाले सभी प्रसिद्ध एल्डरों के पास गया और मैंने कई अलग-अलग संप्रदायों की सभाओं में भाग लिया, लेकिन मैंने पाया कि वे सभी लगभग वही बातें कह रहे हैं, और कोई भी मुझे स्पष्ट रूप से इस रहस्य को नहीं समझा पाया कि स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कैसे किया जाए। बाद में, मुझे एक नया उभर रहा विदेशी संप्रदाय मिला, और मैंने मन ही मन सोचा कि इस तरह की कलीसिया शायद कुछ नया प्रकाश डाल सकेगी। इसलिए, बड़े उत्साह से, मैं उनकी एक सभा में भाग लेने गया। उनके उपदेश की शुरुआत में मैंने इसे कुछ हद तक ज्ञानवर्धक पाया, लेकिन अंत में, मैंने देखा कि वे भी विश्वास के द्वारा न्यायसंगत होने के तरीके का ही प्रचार कर रहे थे। मुझे लगा कि मैं निराशा से टूट चुका था। सभा के बाद, मैंने मुख्य पादरी को ढूँढ निकाला, और उनसे पूछा, "पादरी महोदय, मुझे अफ़सोस है कि आपका यह कहना कि, 'एक बार बचा लिये गए तो हमेशा के लिए बचा लिये गए।' मुझे समझ में नहीं आया। क्या आप इस पर मेरे साथ और अधिक सहभागिता कर सकते हैं?" पादरी ने कहा, "यह बात समझने में बहुत आसान है। रोमियों में यह कहा गया है, 'परमेश्‍वर के चुने हुओं पर दोष कौन लगाएगा? परमेश्‍वर ही है जो उनको धर्मी ठहरानेवाला है। फिर कौन है जो दण्ड की आज्ञा देगा?' (रोमियों 8:33-34)। प्रभु यीशु मसीह ने सूली पर चढ़कर हमारे सभी पापों से हमें पहले ही मुक्त कर दिया है। कहने का अर्थ है, हमारे सभी पाप, चाहे वे पाप हमने भूतकाल में किए हों, या जो पाप हम आज कर रहे हैं, या भविष्य में करेंगे, वे सभी माफ़ कर दिए गए हैं। मसीह में विश्वास के द्वारा, हम हमेशा के लिए न्यायसंगत ठहराए गए हैं। यदि प्रभु हमारे पापों के लिए हमारी निंदा नहीं करते हैं, तो हम पर कौन आरोप लगाएगा? इसलिए, हमें स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने पर विश्वास नहीं खोना चाहिए।" पादरी के जवाब ने मुझे और भी अधिक भ्रमित कर दिया, इसलिए मैंने फिर से पूछा, "इब्रानियों में यह जो लिखा है उसे आप कैसे समझाते हैं, 'क्योंकि सच्‍चाई की पहिचान प्राप्‍त करने के बाद यदि हम जान बूझकर पाप करते रहें, तो पापों के लिये फिर कोई बलिदान बाकी नहीं' (इब्रानियों 10:26)?" पादरी का चेहरा लाल हो गया, उन्होंने कुछ और नहीं कहा, और मेरे प्रश्न का जवाब नहीं मिला। न केवल यह सभा मेरी उलझन को सुलझाने में विफल रही थी, बल्कि, इसने मेरी खीझ को और भी बढ़ा दिया। मैंने मन में सोचा: "मैं दशकों से प्रभु में विश्वास करता रहा हूँ, पर अगर मैं इस बात पर भी स्पष्ट नहीं हूँ कि जब मैं मर जाऊँगा तो मेरी आत्मा प्रभु के पास जाएगी या नहीं, तो क्या इसका मतलब यह नहीं है कि आजीवन मेरा विश्वास संभ्रमित-सा रहा है?" उसके बाद मैं अपनी समस्या के समाधान के लिए हर जगह खोज करने की राह पर चल पड़ा।

मार्च 2000 में, मैं विदेशियों द्वारा चलाई जाने वाली एक पादरी शिक्षण-संस्था में अध्ययन करने के लिए गया, मुझे विश्वास था कि विदेशियों द्वारा प्रचारित उपदेश श्रेष्ठ होंगे और वे निश्चित रूप से मेरी उलझन का हल करेंगे। बहरहाल, दो महीने तक वहाँ अध्ययन करने के बाद, जिसके दरम्यान मैं विश्वास से भरपूर था, मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ कि सभी पादरी उन्हीं पुरानी बातों का प्रचार करते थे, और उनके उपदेशों में कोई नई रोशनी बिल्कुल ही नहीं थी। वहाँ रहते हुए, मैंने एक भी जीवनोपयोगी उपदेश के बारे में नहीं सुना, न ही मैंने एक भी आध्यात्मिक निबंध पढ़ा। न केवल मेरा भ्रम दूर न हो पाया था, बल्कि वहाँ समय बिताकर मैंने और भी अधिक उलझन महसूस की। मैं बिल्कुल चकरा गया था, और मैंने सोचा: "मैं यहाँ दो महीने से अधिक समय से हूँ, लेकिन मुझे क्या मिला है? अगर मैं यहाँ प्रावधान हासिल नहीं कर सकता, तो इन अध्ययनों को जारी रखने से क्या लाभ है?"

एक शाम, भोजन के बाद, मैंने एक पादरी से पूछा, "पादरी महोदय, धर्मशास्त्र के छात्रों के रूप में, क्या हम केवल यही सब पढ़ते हैं? क्या हम जीवन के मार्ग के बारे में बात नहीं कर सकते हैं?" पादरी ने बहुत ही गंभीरता से जवाब दिया, "अगर हम अपने धार्मिक अध्ययनों में इन बातों पर चर्चा नहीं करेंगे, तो किस बारे में करेंगे? बस चैन से रहिये और पढ़ाई जारी रखिये! हम विश्व के सबसे बड़े धार्मिक संगठन हैं और हमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त है। हम आपको तीन साल के लिए यहाँ प्रशिक्षण देंगे और फिर आप अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक पादरी के रूप में प्रमाणित होंगे। जब समय आएगा, तो आप सुसमाचार का प्रचार करने और कलीसियाओं की स्थापना करने के लिए विश्व में कहीं भी उस प्रमाणपत्र का उपयोग कर सकते हैं।" पादरी का जवाब मेरे लिए वास्तव में निराशाजनक था। मैं एक पादरी बनना नहीं चाहता था, मैं तो सिर्फ यह जानना चाहता था कि स्वर्ग के राज्य में कैसे प्रवेश किया जाए। और इसलिए मैंने उनसे पूछा, "पादरी महोदय, यह समझते हुए कि एक पादरी के प्रमाण पत्र से इतने सारे द्वार खुल जाएँगे, क्या मैं स्वर्ग के राज्य में प्रवेश के लिए इसका उपयोग कर पाऊँगा?" यह सुनकर पादरी चुप हो गए। मैंने आगे कहा, "पादरी जी, मैंने सुना है कि आप अपने बचपन से परमेश्वर में विश्वास करते रहे हैं। अब कई दशक हो गए हैं, तो मैं जानना चाहता था कि क्या आप बचा लिए गए हैं?" उन्होंने उत्तर दिया, "हाँ, मैं बचा लिया गया हूँ।" मैंने पूछा, "तो क्या आप स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर पाएँगे?" उन्होंने आत्मविश्वास के साथ कहा, "बिल्कुल, मैं करूँगा"! तब मैंने पूछा, "तो क्या मैं पूछ सकता हूँ, आपके यह कहने का आधार क्या है कि आप स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर पाएँगे? क्या आप शास्त्रियों और फरीसियों से अधिक धर्मी व्यक्ति हैं? क्या आप अपने पड़ोसियों से वैसा ही प्रेम करते हैं जैसा कि आप खुद से करते हैं? क्या आप पवित्र हैं? इसके बारे में सोचें: हम अभी भी हर समय पाप किए बिना और प्रभु की शिक्षाओं के खिलाफ़ गए बिना रह नहीं सकते, और हम रोज दिन में पाप करते हैं और रात में उसे स्वीकार करते हैं। परमेश्वर पवित्र है, तो क्या आप वास्तव में सोचते हैं कि हम पाप से भरे हुए होकर भी, स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर पाएँगे?" पादरी चकरा गए और उनका चेहरा एकदम लाल हो गया, काफी देर तक उन्होंने दूसरा शब्द नहीं बोला। मुझे उनकी प्रतिक्रिया बहुत ही निराशाजनक लगी, मुझे लगा कि अगर मैंने अपना अध्ययन वहाँ जारी रखा तो जीवन को कैसे हासिल करना है, और कैसे स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करना है, इसके रहस्य को मैं नहीं समझ पाऊँगा। और इसलिए, मैंने उस शिक्षण-संस्थान में पढ़ाई छोड़ दी और अपने शहर लौट गया।

घर लौटते समय, राह में मैंने इतना निराश महसूस किया जितना पहले कभी नहीं किया था; मुझे लगा मानो मेरी आखिरी उम्मीद भी टूट चुकी है। मैंने मन ही मन सोचा: "विदेशी पादरियों द्वारा चलाए जा रहे शिक्षण-संस्थान में भी पाप से खुद को छुड़ाने और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश पाने की मेरी खोज पूरी नहीं हुई। इस राह की तलाश करने के लिए मैं और कहाँ जा सकता हूँ?" मुझे ऐसा लगा जैसे मैं रास्ते के अंत तक पहुँच गया था। उसी क्षण, मेरे बूढ़े पिता और एक वृद्ध पादरी की मृत्यु के करीब पहुँचने पर रोने की छवि मेरी आँखों के सामने फिर से उभर आई। मैंने सोचा किस तरह उन्होंने विश्वास के द्वारा न्यायसंगत होने के मार्ग का प्रचार करते हुए अपने जीवन बिताए थे, कि लोग मृत्यु के बाद स्वर्ग के राज्य में पहुँच जाएँगे, लेकिन अंततः वे पछतावे से भरे हुए चले गए। मैंने आजीवन प्रभु में विश्वास किया था और मैं हर दिन लोगों से कहता रहा था कि वे मरकर स्वर्ग के राज्य में पहुँचेंगे, और फिर भी मुझे कभी भी यह वास्तविक स्पष्टता नहीं मिली कि स्वर्ग के राज्य में सचमुच प्रवेश कैसे करना है—क्या मुझे भी मेरे पिता और पादरी की तरह पछतावे से भरकर इस जीवन को त्यागना होगा? मेरे दु:ख के बीच, प्रभु के ये वचन अचानक मेरे मन में आए: "माँगो, तो तुम्हें दिया जाएगा; ढूँढ़ो तो तुम पाओगे; खटखटाओ, तो तुम्हारे लिये खोला जाएगा" (मत्ती 7:7)। "यह सही है," मैंने सोचा। "प्रभु विश्वास के योग्य है, और जब तक मैं एक सच्चे दिल से तलाश करता हूँ, तब तक प्रभु निश्चित रूप से मेरा मार्गदर्शन करेगा। मैं हार नहीं मान सकता। जब तक मेरे शरीर में एक भी सांस बची है, मैं स्वर्ग के राज्य का मार्ग खोजता रहूँगा!" तब मैं प्रार्थना करने के लिए प्रभु के सामने आया: "प्रिय प्रभु, मैंने स्वयं को पाप से मुक्त करने और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश पाने के लिए हर जगह खोज की है, लेकिन कोई भी मेरी समस्या का समाधान नहीं कर सका है। प्रिय प्रभु, मुझे क्या करना चाहिए? एक प्रचारक के रूप में, मैं हर दिन भाइयों और बहनों से कहा करता हूँ कि वे मेहनती साधक बनें और अंत तक धैर्य बनाए रखें, और हमारे मरने के बाद तुम हमें स्वर्ग के राज्य में ले जाने के लिए आओगे। लेकिन इस समय, मुझे वास्तव में पता नहीं है कि कैसे खुद को पाप से मुक्त किया जाए और स्वर्ग के राज्य में प्रवेश पाया जाए। क्या मैं अंधों का नेतृत्व करने वाला अंधा नहीं हूँ, जो अपने भाइयों और बहनों को गड्ढे में ले जा रहा है? प्रिय प्रभु, मुझे स्वर्ग के राज्य के मार्ग की तलाश करने के लिए कहाँ जाना चाहिए? कृपया मेरा मार्गदर्शन करो!"

अपने शहर में वापस आने के बाद, मैंने सुना कि हमारी कलीसिया की कई अच्छी भेड़ें और मुख्य भेड़ पूर्वी बिजली द्वारा चुरा ली गई थीं। कई लोग कह रहे थे कि पूर्वी बिजली का मार्ग नई समझ और नई रोशनी प्रदान करता था, और यहाँ तक कि अनुभवी पादरी भी उनके प्रवचनों की प्रशंसा किया करते थे। जब भी मैंने ये बातें सुनी, तो मैंने सोचा: "ऐसा लगता है मानो पूर्वी बिजली द्वारा दिए गए उपदेश वास्तव में उत्कृष्ट हैं। यह कितना बुरा है कि मैं पूर्वी बिजली के किसी भी व्यक्ति से नहीं मिल सका हूँ। अगर मैं एक दिन उनसे मिल सकूँ तो कितना अच्छा रहेगा! यदि वह दिन आता है, तो मैं निश्चय ही निष्ठा के साथ सुनने और गंभीरता से तलाशने की कोशिश करूँगा कि वास्तव में उनके उपदेश इतने अच्छे क्यों हैं, और वे इस भ्रान्ति को, जो वर्षों से मेरे साथ है, दूर कर सकते हैं या नहीं।"

एक दिन, कलीसिया की एक अगुआ ने मुझसे कहा, "अमुक कलीसिया की कई अच्छी भेड़ें पूर्वी बिजली द्वारा चुरा ली गई हैं। सभी संप्रदाय अब अपनी कलीसियाओं की तालाबंदी कर रहे हैं, और हमें अपने भाइयों और बहनों से आग्रह करना होगा कि पूर्वी बिजली के किसी व्यक्ति के साथ कोई भी सम्बन्ध न रखें, और विशेष रूप से उनके धर्मोपदेशों को न सुनें। यदि हमारे सभी वफ़ादार लोग पूर्वी बिजली में विश्वास करना शुरू कर देंगे, तो प्रचार करने के लिए हमारे पास कौन बचेगा?" कलीसिया की उस अगुआ को यह कहते हुए सुनकर मैं घृणा से भर गया और मैंने मन ही मन सोचा: "हमारी कलीसिया सभी के लिए खुली है, तो हमें ऐसे तालाबंदी करने की क्या ज़रूरत है? दूर से आए किसी अजनबी का स्वागत करना आप क्यों नहीं चाहतीं? बाइबल में यह कहा गया है: 'अतिथि-सत्कार करना न भूलना, क्योंकि इसके द्वारा कुछ लोगों ने अनजाने में स्वर्गदूतों का आदर-सत्कार किया है' (इब्रानियों 13:2)। अब्राहम ने अजनबियों का स्वागत किया और इस तरह उसने प्रभु का आशीर्वाद पाया था, सौ साल की उम्र में उसे एक बेटा हुआ था; लूत ने दो स्वर्गदूतों को स्वीकार किया और इसलिए वह सदोम के विनाश से बचा लिया गया; राहाब वेश्या ने इस्राएल के जासूसों को अन्दर आने दिया जिससे उसका पूरा परिवार बच गया; और एक गरीब विधवा ने एलिय्याह नबी का स्वागत किया और इस तरह वह साढ़े तीन साल की भुखमरी को टाल सकी। इतने सारे लोगों में से, किसी को भी दूर-दूर से आए अजनबियों का स्वागत करने के कारण नुकसान नहीं पहुँचा, बल्कि, इसके विपरीत, वे सभी प्रभु द्वारा धन्य हुए थे। इसलिए यह स्पष्ट है कि अजनबियों का आतिथ्य प्रभु की इच्छा के अनुरूप होता है। तो फिर कलीसिया की अंधाधुंध तालाबंदी करके और किसी भी अजनबी को अनुमति नहीं देकर आप प्रभु की मर्जी के ख़िलाफ़ क्यों जाना चाहती हैं?" यह सोचते हुए, मैंने अपना सिर हिलाया, और उनसे कहा, "ऐसा करना प्रभु की इच्छा के ख़िलाफ़ है। हमारी कलीसिया प्रभु की है और यह सभी के लिए खुली है। जब तक कोई प्रभु में विश्वास के बारे में सहभागिता करता है, हमें उसका स्वागत करना चाहिए, चाहे वो कोई भी हो, और हमें खुले दिमाग के साथ विचारों को मिलकर तलाशना चाहिए। केवल ऐसा करके ही हम प्रभु की शिक्षाओं के अनुरूप होंगे।"

जुलाई 2000 में एक दिन, भाई वांग के घर पर मैं दो बहनों से मिला, जो पूर्वी बिजली का प्रचार कर रही थीं। संक्षिप्त अभिवादन के बाद, मैंने उनसे पूछा, "मुझे हमेशा इस बारे में उलझन रही है कि मैं बचाया जा सकता हूँ या नहीं और क्या मैं स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करूँगा। पूरी धार्मिक दुनिया अब इस मान्यता के साथ पौलुस के शब्दों से चिपकी हुई है कि हम सिर्फ विश्वास करने और बपतिस्मा लेने से ही बचा लिए जाएँगे, और अपने हृदय में प्रभु पर विश्वास करके और अपने मुँह से प्रभु को स्वीकार करके, हम विश्वास के द्वारा न्यायसंगत हैं, हम हमेशा के लिए बचा लिए गए हैं, और निश्चित रूप से प्रभु के लौटने पर स्वर्ग के राज्य में हमें उठा लिया जाएगा। लेकिन व्यक्तिगत रूप से, मुझे नहीं लगता कि स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करना इतना सरल हो सकता है। जैसा कि बाइबल में कहा गया है: 'उस पवित्रता के खोजी हो जिसके बिना कोई प्रभु को कदापि न देखेगा' (इब्रानियों 12:14)। चाहे वह मैं हूँ या मेरे आस-पास के भाई-बहन, हम हर दिन, दिन भर, पाप में पड़े रहते हैं, मुझे नहीं लगता कि हम जैसे लोग जो हर दिन पाप में जीते हैं, स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। मैं सटीक जानना चाहता हूँ कि स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कैसे करना है। क्या आप इस पर मेरे साथ सहभागिता कर सकती हैं?"

बहन झोउ ने मुस्कुराते हुए कहा, "भाई, यह सवाल जो आप पूछ रहे हैं, अत्यंत महत्वपूर्ण है। स्वर्ग के राज्य में कैसे प्रवेश करना है, यह हर विश्वासी के लिए एक बड़ी चिंता का विषय है। इस मुद्दे पर स्पष्टता प्राप्त करने का अर्थ है कि पहले यह जानना कि प्रभु में विश्वास करने वालों को हमेशा प्रभु यीशु के वचनों के अनुसार आचरण करना चाहिए, न कि मनुष्य के कहे अनुसार। प्रभु यीशु ने हमें स्पष्ट रूप से बताया है: 'जो मुझ से, "हे प्रभु! हे प्रभु!" कहता है, उनमें से हर एक स्वर्ग के राज्य में प्रवेश न करेगा, परन्तु वही जो मेरे स्वर्गीय पिता की इच्छा पर चलता है' (मत्ती 7:21)। प्रभु ने यह कभी नहीं कहा कि हम बचाए जाने के लिए केवल अनुग्रह पर भरोसा करके, या विश्वास के द्वारा न्यायसंगत होकर, स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं। विश्वास के द्वारा न्यायसंगत हो जाना, विश्वास के कारण हमेशा के लिए बचाया जाना, और फिर स्वर्ग के राज्य में उठाया जाना - वे पौलुस के शब्द थे। पौलुस सिर्फ एक प्रेरित था, भ्रष्ट मानव जाति में से एक, और उसे भी प्रभु यीशु के उद्धार की आवश्यकता थी। वह संभवतः यह कैसे निर्धारित कर सकता था कि अन्य लोग स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं या नहीं? केवल प्रभु यीशु ही स्वर्ग के राज्य का प्रभु है, स्वर्ग के राज्य का राजा है; केवल प्रभु के वचन सत्य हैं, और केवल उनके पास ही अधिकार हैं। इसलिए, जब बात यह हो कि हम स्वर्ग के राज्य में कैसे पहुँच सकते हैं, तो हमें केवल प्रभु के वचनों को सुनना चाहिए–इसमें कोई संदेह नहीं है!

"फिर ये सवाल हैं कि 'विश्वास से न्यायसंगत होना और विश्वास के कारण बचाए जाना किसके बारे में हैं?' और 'क्या एक बार बचाए जाने के बाद आप स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं?' ये सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में बहुत स्पष्ट रूप से समझाया गया है, तो आइए, अब परमेश्वर के वचनों के कुछ अंशों को पढ़ें। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहता है: 'तुम सिर्फ यह जानते हो कि यीशु अंत के दिनों के दौरान उतरेगा, परन्तु वास्तव में वह कैसे उतरेगा? तुम लोगों जैसा पापी, जिसे परमेश्वर के द्वारा अभी-अभी छुड़ाया गया है, और जो परिवर्तित नहीं किया गया है, या सिद्ध नहीं बनाया गया है, क्या तुम परमेश्वर के हृदय के अनुसार हो सकते हो? तुम्हारे लिए, तुम जो कि अभी भी पुराने अहम् वाले हो, यह सत्य है कि तुम्हें यीशु के द्वारा बचाया गया था, और कि परमेश्वर द्वारा उद्धार की वजह से तुम्हें एक पापी के रूप में नहीं गिना जाता है, परन्तु इससे यह साबित नहीं होता है कि तुम पापपूर्ण नहीं हो, और अशुद्ध नहीं हो। यदि तुम्हें बदला नहीं गया तो तुम संत जैसे कैसे हो सकते हो? भीतर से, तुम अशुद्धता से घिरे हुए हो, स्वार्थी और कुटिल हो, मगर तब भी तुम यीशु के साथ आरोहण चाहते हो—तुम्हें बहुत भाग्यशाली होना चाहिए! तुम परमेश्वर पर अपने विश्वास में एक कदम चूक गए हो: तुम्हें मात्र छुटकारा दिया गया है, परन्तु परिवर्तित नहीं किया गया है। तुम्हें परमेश्वर के हृदय के अनुसार होने के लिए, परमेश्वर को व्यक्तिगत रूप से तुम्हें परिवर्तित करने और शुद्ध करने के कार्य को करना होगा; यदि तुम्हें सिर्फ छुटकारा दिया जाता है, तो तुम पवित्रता को प्राप्त करने में असमर्थ होगे। इस तरह से तुम परमेश्वर के अच्छे आशीषों को साझा करने के लिए अयोग्य होगे, क्योंकि तुमने मनुष्य का प्रबंधन करने के परमेश्वर के कार्य के एक कदम का सुअवसर खो दिया है, जो कि परिवर्तित करने और सिद्ध बनाने का मुख्य कदम है। और इसलिए तुम, एक पापी जिसे अभी-अभी छुटकारा दिया गया है, परमेश्वर की विरासत को सीधे तौर पर उत्तराधिकार के रूप में पाने में असमर्थ हो' ("वचन देह में प्रकट होता है" में "उपाधियों और पहचान के सम्बन्ध में")। 'यद्यपि यीशु ने मनुष्यों के बीच अधिक कार्य किया है, उसने केवल समस्त मानवजाति के छुटकारे के कार्य को पूरा किया और वह मनुष्य की पाप-बलि बना, और मनुष्य को उसके भ्रष्ट स्वभाव से छुटकारा नहीं दिलाया। शैतान के प्रभाव से मनुष्य को पूरी तरह बचाने के लिये यीशु को न केवल पाप-बलि के रूप में मनुष्यों के पापों को लेना आवश्यक था, बल्कि मनुष्य को उसके स्वभाव, जिसे शैतान द्वारा भ्रष्ट कर दिया गया था, से पूरी तरह मुक्त करने के लिए परमेश्वर को और भी बड़े कार्य करने की आवश्यकता थी। और इसलिए, मनुष्य को उसके पापों के लिए क्षमा कर दिए जाने के बाद, एक नये युग में मनुष्य की अगुवाई करने के लिए परमेश्वर वापस देह में लौटा, और उसने ताड़ना एवं न्याय के कार्य को आरंभ किया, और इस कार्य ने मनुष्य को एक उच्चतर क्षेत्र में पहुँचा दिया। वे सब जो परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन समर्पण करेंगे उच्चतर सत्य का आनंद लेंगे और अधिक बड़ी आशीषें प्राप्त करेंगे। वे वास्तव में ज्योति में निवास करेंगे, और सत्य, मार्ग और जीवन को प्राप्त करेंगे' ("वचन देह में प्रकट होता है" के लिए प्रस्तावना)।"

बहन वांग ने अपनी सहभागिता जारी रखते हुए कहा, "अनुग्रह के युग में, प्रभु यीशु ने मानव जाति के छुटकारे का कार्य किया, सलीब के माध्यम से मानवता के लिए पाप की बलि बन गया और उसने हमें शैतान के चंगुल से छुड़ाया। जब तक हम प्रभु के उद्धार को स्वीकार करते हैं और अपने पापों को प्रभु के सामने स्वीकार करते और उनके लिए पश्चाताप करते हैं, तब तक हमारे पाप क्षमा कर दिए जाते हैं, और तब हम प्रभु के अनुग्रह और आशीर्वाद का आनंद लेने के योग्य होते हैं। 'हमारे पाप क्षमा कर दिए जाते हैं' से मेरा तात्पर्य यह है कि अब हम व्यवस्था का उल्लंघन करने के कारण व्यवस्था के तहत दोषी नहीं ठहरते या मौत की सजा नहीं पाते हैं, और यही विश्वास के द्वारा न्यायसंगत होने और विश्वास के कारण बचाए जाने का अर्थ है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हम तब पाप या गंदगी से रहित हो जाते हैं, और न ही इसका मतलब यह है कि हम स्वर्ग के राज्य में जाने के लिए सक्षम हो जाएँगे। ऐसा इसलिए है कि भले ही हमारे पापों को क्षमा कर दिया जाए, लेकिन हमारा पापी स्वभाव हमारे भीतर गहराई से बना रहता है, और जब हम समस्याओं का सामना करते हैं तो हम अक्सर झूठ बोलते हैं और दूसरों को अपने स्वयं के पदों और हितों की रक्षा के लिए धोखा देते हैं। जब हम प्रभु के अनुग्रह का आनंद लेते हैं, तो हम उसे धन्यवाद देते हैं और उसकी प्रशंसा करते हैं, और हम अपने आप को प्रभु के लिए उत्साह से खपाते हैं। लेकिन जैसे ही कोई तबाही होती है, या हमारे परिवार के साथ कुछ बुरा होता है, तो हम प्रभु को गलत समझते हैं, उसे दोषी ठहराते हैं, इस हद तक चले जाते हैं कि हम प्रभु को नकार भी सकते हैं और धोखा भी दे सकते हैं। इसलिए हमारे जैसे लोग, जिन्हें छुड़ा लिया गया है लेकिन जो अक्सर पाप करते और परमेश्वर का विरोध करते हैं, कभी भी स्वर्ग के राज्य में प्रवेश करने के लिए योग्य कैसे हो सकते हैं? परमेश्वर धर्मी और पवित्र है, और वह कभी भी गंदे और भ्रष्ट लोगों को अपने राज्य में प्रवेश करने नहीं देगा। शैतान के प्रभाव से सदा-सर्वदा के लिए हमें बचाने के वास्ते, वह अपनी प्रबंधन योजना के अनुसार और भ्रष्ट मानव जाति के रूप में हमारी ज़रूरतों के अनुसार कार्य करता है, और अंतिम दिनों में मनुष्य का न्याय और शुद्धिकरण करने का अपना कार्य पूरा करता है। देहधारी परमेश्वर ने हमारी भ्रष्टता, हमारी गंदगी, हमारी अधर्मिता और हमारे प्रतिरोध का न्याय करने के लिए, और हमें हमारे भ्रष्ट स्वभावों को हटाने का मार्ग दिखाने के लिए लाखों वचन व्यक्त किए हैं। परमेश्वर के वचनों के न्याय और ताड़ना का अनुभव करके, जब हम अपने शैतानी भ्रष्ट स्वभावों को दूर कर देते हैं, परमेश्वर के वचनों को अमल में लाने में सक्षम हो जाते हैं, और जब हम ऐसे लोग बन जाते हैं जो सही मायने में परमेश्वर की आज्ञा मानते हों और उसकी आराधना करते हों, तभी हम परमेश्वर के राज्य में प्रवेश करने के लायक बनेंगे। दरअसल, प्रभु यीशु ने बहुत पहले ही भविष्यवाणी कर दी थी कि वह अंतिम दिनों में न्याय का कार्य करने के लिए लौटेगा। जैसा कि उसने कहा था: 'यदि कोई मेरी बातें सुनकर न माने, तो मैं उसे दोषी नहीं ठहराता; क्योंकि मैं जगत को दोषी ठहराने के लिये नहीं, परन्तु जगत का उद्धार करने के लिये आया हूँ। जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात जो वचन मैं ने कहा है, वही पिछले दिन में उसे दोषी ठहराएगा' (यूहन्ना 12:47-48)। 'वह आकर संसार को पाप और धार्मिकता और न्याय के विषय में निरुत्तर करेगा' (यूहन्ना 16:8)। इसलिए यह स्पष्ट है कि केवल परमेश्वर के अंतिम दिनों में न्याय के कार्य को स्वीकार करने से, अपने भ्रष्ट स्वभावों को त्याग देने से, और शुद्धि प्राप्त करने से ही, हम परमेश्वर के राज्य में प्रवेश कर सकते हैं।"

बहनों की सहभागिता सुन लेने के बाद, अचानक सब कुछ स्पष्ट हो गया और मेरा दिल तुरंत प्रकाश से भर गया। "आह, तो स्वर्ग के राज्य में ऐसे जाना है!", मैंने सोचा। "अब जाकर मैं समझ ही गया कि प्रभु यीशु ने मानवजाति के छुटकारे का कार्य किया है, न कि हमें पाप से मुक्त करने का। प्रभु ने वास्तव में हमें हमारे पापों से दोषमुक्त किया है, लेकिन हमारी पापी प्रकृति हमारे भीतर गहराई से जड़ जमाए हुए है, और हम अब भी अक्सर और अनजाने में पाप करते और प्रभु का विरोध करते रहते हैं। यह कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि मैं कभी भी अपने आप को पापों के बंधनों और बेड़ियों से मुक्त नहीं कर पाया हूँ—अब पता चला कि ऐसा इसलिए है कि मैंने सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंतिम दिनों के कार्य को स्वीकार नहीं किया है!" मैंने दोनों बहनों से कहा, "प्रभु का धन्यवाद! सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों और आपकी सहभागिता को सुनकर, अंत में मैं जान गया हूँ कि जो विश्वास हमने धारण कर रखा है—कि हर कोई जो अपने हृदय में प्रभु को मानता है और जो मौखिक रूप से प्रभु को स्वीकार करता है, उसे स्वर्ग के राज्य में उठाया जा सकता है—वह सिर्फ हमारी अवधारणा और कल्पना है! अब मैं समझता हूँ कि प्रभु यीशु ने जो कार्य किया था, वह छुटकारे का कार्य था, और लौटा हुआ प्रभु न्याय का कार्य करेगा। अर्थात, वह हमारे भ्रष्ट स्वभावों को पूरी तरह से शुद्ध कर देगा और बदल देगा, और उसके बाद ही हम स्वर्ग के राज्य में प्रवेश कर पाएँगे। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि इतनी सारी आध्यात्मिक पुस्तकें पढ़ने के बाद भी मैं कभी भी मनुष्य के पाप की समस्या का हल नहीं पा सका! बहनो, तब परमेश्वर अंतिम दिनों में न्याय और ताड़ना का कार्य कैसे पूरा करता है? क्या आप मेरे साथ और अधिक सहभागिता कर सकती हैं?"

बहन वांग ने तब कहा, "इस प्रश्न का उत्तर स्पष्ट रूप से परमेश्वर के वचनों में दिया गया है, इसलिए आइए, उनमें से हम एक अंश पढ़ें। सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहता है: 'अंत के दिनों में, मसीह मनुष्य को सिखाने के लिए विभिन्न प्रकार के सत्यों का उपयोग करता है, मनुष्य के सार को उजागर करता है, और उसके वचनों और कर्मों का विश्लेषण करता है। इन वचनों में विभिन्न सत्यों का समावेश है, जैसे कि मनुष्य का कर्तव्य, मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर का आज्ञापालन करना चाहिए, हर व्यक्ति जो परमेश्वर के कार्य को करता है, मनुष्य को किस प्रकार परमेश्वर के प्रति निष्ठावान होना चाहिए, मनुष्य को किस प्रकार सामान्य मानवता से, और साथ ही परमेश्वर की बुद्धि और उसके स्वभाव इत्यादि को जीना चाहिए। ये सभी वचन मनुष्य के सार और उसके भ्रष्ट स्वभाव पर निर्देशित हैं। खासतौर पर, वे वचन जो यह उजागर करते हैं कि मनुष्य किस प्रकार से परमेश्वर का तिरस्कार करता है इस संबंध में बोले गए हैं कि किस प्रकार से मनुष्य शैतान का मूर्त रूप और परमेश्वर के विरुद्ध दुश्मन की शक्ति है। अपने न्याय का कार्य करने में, परमेश्वर केवल कुछ वचनों के माध्यम से मनुष्य की प्रकृति को स्पष्ट नहीं करता है; बल्कि वह लम्बे समय तक इसे उजागर करता है, इससे निपटता है, और इसकी काट-छाँट करता है। उजागर करने की इन विधियों, निपटने, और काट-छाँट को साधारण वचनों से नहीं, बल्कि सत्य से प्रतिस्थापित किया जा सकता है, जिसे मनुष्य बिल्कुल भी धारण नहीं करता है। केवल इस तरीके की विधियाँ ही न्याय समझी जाती हैं; केवल इसी तरह के न्याय के माध्यम से ही मनुष्य को वश में किया जा सकता है और परमेश्वर के प्रति समर्पण में पूरी तरह से आश्वस्त किया जा सकता है, और इसके अलावा मनुष्य परमेश्वर का सच्चा ज्ञान प्राप्त कर सकता है। न्याय का कार्य जिस चीज़ को उत्पन्न करता है वह है परमेश्वर के असली चेहरे और उसकी स्वयं की विद्रोहशीलता के सत्य के बारे में मनुष्य में समझ। न्याय का कार्य मनुष्य को परमेश्वर की इच्छा की, परमेश्वर के कार्य के उद्देश्य की, और उन रहस्यों की अधिक समझ प्राप्त करने देता है जो उसके लिए समझ से परे हैं। यह मनुष्य को उसके भ्रष्ट सार तथा उसकी भ्रष्टता के मूल को पहचानने और जानने, साथ ही मनुष्य की कुरूपता को खोजने देता है। ये सभी प्रभाव न्याय के कार्य के द्वारा पूरे होते हैं, क्योंकि इस कार्य का सार वास्तव में उन सभी के लिए परमेश्वर के सत्य, मार्ग और जीवन का मार्ग प्रशस्त करने का कार्य है जिनका उस पर विश्वास है। यह कार्य परमेश्वर के द्वारा किया गया न्याय का कार्य है' ("वचन देह में प्रकट होता है" में "मसीह न्याय का कार्य सत्य के साथ करता है")।

"परमेश्वर के वचन हमें स्पष्ट रूप से बताते हैं कि, अंतिम दिनों में, परमेश्वर हमारी परमेश्वर-विरोधी शैतानी प्रकृति और भ्रष्ट सार का न्याय कर और उन्हें उजागर कर, हमारे पूर्ण उद्धार के लिए आवश्यक सभी सत्यों को व्यक्त करता है। ये सभी वचन सत्य हैं, वे परमेश्वर के अधिकार और सामर्थ्य को लिए हुए हैं, और वे हमें यह बताते हैं कि परमेश्वर के पास क्या है और वह क्या है, साथ ही उसके धार्मिक स्वभाव के बारे में बताते हैं जो किसी भी अपराध को सहन नहीं करता है। प्रभु के न्याय और ताड़ना के वचनों के माध्यम से, और तथ्यों के उजागर होने से, हम अपने शैतानी स्वभाव और शैतान द्वारा हुई हमारी भ्रष्टता की सच्चाई के बारे में कुछ समझ पा लेते हैं; हम देखते हैं कि हम शैतान द्वारा बहुत गहराई से भ्रष्ट हो चुके हैं, कि हम स्वभाव से ही अभिमानी, दंभी, कुटिल, धोखेबाज, स्वार्थी, अहंकारी, लालची, दुष्ट, दूसरों पर हावी होने के लिए उत्सुक हैं, और हम अपने बिल्कुल भीतर से जो कुछ भी प्रकट करते हैं वे हमारे शैतानी स्वभाव ही हैं। इन भ्रष्ट स्वभावों के अधीन होकर, हम न चाहते हुए भी परमेश्वर के ख़िलाफ़ लगातार विरोध और विद्रोह करते हैं। उदाहरण के लिए, जब हम अपनी कलीसियाओं में काम करते हैं और धर्मोपदेश देते हैं, तो हम सुनने में ज़ोरदार लगने वाले भाषणों में बेसिर पैर की बातें करते और दिखावा करते हैं और खुद को ऊंचा उठाते हैं ताकि दूसरे हमारी ओर देखें और हमारा सम्मान करें; अपने हितों की रक्षा के लिए हम अक्सर झूठ बोलते हैं और दूसरों को धोखा देते हैं, यहाँ तक कि हम साज़िशों में उलझते हैं और एक दूसरे के साथ स्पर्धा करते हैं; जब हम इस तरह के लोगों, घटनाओं, चीज़ों या स्थितियों का सामना करते हैं, जो हमारे अपने विचारों से अलग हों, तो हम हमेशा परमेश्वर से अनुचित माँगें करते हैं या असाधारण इच्छाओं को पालते हैं, और हम परमेश्वर की योजनाओं और व्यवस्थाओं के प्रति समर्पण करने में असमर्थ होते हैं। परमेश्वर के न्याय और उसकी ताड़ना के वचनों का अनुभव करने के माध्यम से, हम धीरे-धीरे कुछ सत्यों को समझने लगते हैं, हम अपनी शैतानी प्रकृति की कुछ सच्ची समझ हासिल करते हैं और इसके प्रति वास्तविक घृणा महसूस करते हैं, और हम परमेश्वर के धर्मी स्वभाव के बारे में भी कुछ सच्ची समझ पाते हैं। हम जान लेते हैं कि परमेश्वर किस तरह के लोगों से प्रेम और किस तरह के लोगों से नफ़रत करता है और साथ ही किस तरह का उद्यम उसकी इच्छा के अनुसार होता है। हम सकारात्मक और नकारात्मक चीज़ों के बीच भेद करना सीखते हैं। एक बार जब हम इन बातों को समझ लेते हैं, तो हम तहेदिल से अपनी देहासक्ति को त्यागने और प्रभु के वचनों के अनुसार अभ्यास करने के लिए तैयार हो जाते हैं। धीरे-धीरे, समय के साथ, परमेश्वर के प्रति श्रद्धा और उससे प्रेम करने की इच्छा हमारे भीतर पैदा होती है, हम अपने शैतानी भ्रष्ट स्वभावों के कुछ बंधनों और बेड़ियों से मुक्त हो जाते हैं, और हम परमेश्वर से अब अनुचित मांगें कम करते हैं। हम सृजित प्राणियों के रूप में अपना स्थान ग्रहण करने और अपना कर्तव्य निभाने में सक्षम हो जाते हैं, हम परमेश्वर के आयोजनों और व्यवस्थाओं के प्रति समर्पण करते हैं, और हम एक सच्चे मानव की तरह जीवन जीने लगते हैं। जैसे-जैसे हम परमेश्वर के कार्य का अनुभव करते हैं, हम इस तथ्य की गहरी सराहना करने लगते हैं कि स्वर्ग के राज्य में जाने का एक मात्र मार्ग अंतिम दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के कार्य को स्वीकार करना, सत्य का अनुसरण करना, परमेश्वर और खुद के बारे में ज्ञान प्राप्त करना, और अपने भ्रष्ट स्वभावों को बदलना है।"

सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों और उस बहन की सहभागिता को सुनने से मुझे और भी अधिक आंतरिक स्पष्टता मिली। सर्वशक्तिमान परमेश्वर द्वारा व्यक्त किए गए सत्य बहुत व्यावहारिक हैं और वे वास्तव में वो हैं जिनकी हम भ्रष्ट मनुष्यों को आवश्यकता है। केवल अंतिम दिनों में सर्वशक्तिमान परमेश्वर के न्याय के कार्य को स्वीकार करने और अनुभव करने से ही हम अपने भ्रष्ट स्वभावों के बंधनों और बेड़ियों को सदा-सर्वदा के लिए निकाल सकते हैं! मैंने आह भरते हुए कहा, "मैंने इतने वर्षों से प्रभु में विश्वास किया है और फिर भी, मैं हमेशा दिन में पाप करता हूँ और फिर रात में उन पापों को स्वीकार कर पाप में पड़े रहने का जीवन जीता रहा हूँ। यदि परमेश्वर ने मानव जाति को शुद्ध करने के लिए सभी सत्य व्यक्त नहीं किए होते, यदि उसने हमें अपने भ्रष्ट स्वभावों को दूर करने के लिए रास्ता नहीं दिखाया होता, तो मैं निश्चित रूप से पाप से इतना कसकर बंध जाता कि मुझे कभी भी मुक्ति का मार्ग नहीं मिल पाता। इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि प्रभु ने कहा, 'मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा, क्योंकि वह अपनी ओर से न कहेगा परन्तु जो कुछ सुनेगा वही कहेगा, और आनेवाली बातें तुम्हें बताएगा' (यूहन्ना 16:12-13)। प्रभु यीशु ने हमें बहुत पहले ही बता दिया था कि उनके पास अंतिम दिनों में व्यक्त करने के लिए और भी अधिक वचन हैं और वह सभी सत्यों में प्रवेश करने के लिए हमारी अगुआई करेगा। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन अधिकार और सामर्थ्य रखते हैं, उन्होंने उन सभी सत्यों और रहस्यों को उजागर किया है जिन्हें मैं समझना तो चाहता था लेकिन कभी समझ नहीं पाया था, और उन्होंने पूरी तरह से मुझे यकीन भी दिला दिया है। आखिरकार, मुझे स्वर्ग के राज्य में जाने का मार्ग मिल गया है!" दोनों बहनों ने खुशी से सिर हिलाया।

मैंने फिर उत्साह से कहा, "यह प्रभु की आवाज़ है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ही लौटा हुआ प्रभु यीशु है! मैं इतने लंबे समय से जिसकी कामना करता रहा हूँ, वह अंततः हो गया है, मैं बहुत भाग्यशाली, बहुत धन्य हूँ! पहले जब प्रभु यीशु का जन्म हुआ था, तो शिमोन को अविश्वसनीय खुशी महसूस हुई थी जब उसने उस बाल यीशु को देखा जो अभी आठ दिन का ही था। अपने जीवनकाल में प्रभु की वापसी का स्वागत करने और स्वयं परमेश्वर के कथन को सुनने में सक्षम होने के लिए, मैं शिमोन की तुलना में कहीं अधिक भाग्यशाली हूँ, और मैं प्रभु का बहुत आभारी हूँ!" यह कहते समय, मैं अत्यंत भावुक हो गया था, मेरी आँखों से उत्साह के आँसू बहने लगे। मैंने परमेश्वर से प्रार्थना करने के लिए फर्श पर घुटने टेक दिए, लेकिन मैं इतना रो रहा था कि मैं कुछ बोल नहीं पाया; भावनाओं से भरकर बहनों की आँखें भी नम हो गईं।

इतने वर्षों से जिस खीज ने मुझे त्रस्त किया था, उसने आखिरकार सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों में अपना हल पाया। मैंने सोचा कि कैसे मैंने हर जगह खोज की थी लेकिन कभी भी शुद्धि का वह मार्ग नहीं पा सका था जो स्वर्ग के राज्य की ओर ले जाए, लेकिन अंततः अब वह मुझे मिल गया है। मुझे पता है कि यह मेरे लिए परमेश्वर का अनुग्रह और उद्धार है! बाद में, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों पर भाई-बहनों के साथ सभा करने और सहभागिता में भाग लेने के माध्यम से, मुझे अधिक से अधिक सत्य समझ में आ गए, और हमें बचाने की परमेश्वर की इच्छा के बारे में भी मैंने कुछ समझ हासिल की। अब मैं परमेश्वर के न्याय और ताड़ना के और भी वचनों को स्वीकार करना, उसके कार्य का अनुभव करना, धीरे-धीरे अपने भ्रष्ट स्वभाव से खुद को मुक्त करना और शुद्ध हो जाना चाहता हूँ। परमेश्वर को धन्यवाद हो!

अगला: 2. शुद्धिकरण का मार्ग

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

25. सच्चे मसीह और झूठे मसीह में भेद करने के सत्य को समझने के बाद, अब मैं आँखें मूँदकर रक्षात्मक नहीं होती

केवल मसीह ही सत्य, मार्ग और जीवन है, केवल वही सत्य व्यक्त कर सकता है, हमें मार्ग दिखाकर जीवन दे सकता है। जो लोग खुद को मसीह कहते हैं लेकिन सत्य व्यक्त नहीं कर सकते, वे लोग निश्चय ही झूठे मसीह और बहुरूपिए हैं, इस आधार पर हम झूठे मसीहों को पहचान सकते हैं।

36. अंत के दिनों में परमेश्वर के उद्धार को स्वीकार करने के बाद, हम एक नया जीवन प्राप्त करते हैं

झुई क्यू, मलेशियामैं एक ब्यूटिशन हूँ और मेरे पति एक किसान हैं; हमारी मुलाक़ात मलेशिया में नारंगी उछालने के उस एक कार्यक्रम के दौरान हुई थी...

12. त्रित्व की पहेली का निराकरण

जिन्ग्मो, मलेशियामैं भाग्यशाली थी कि 1997 में मैंने प्रभु यीशु के सुसमाचार को स्वीकार किया और, जब मैंने बपतिस्मा लिया, तो पादरी ने...

21. अफ़वाहों के फन्‍दे से आज़ादी

शिआओयुन, चीनमैं सेना की एक स्‍त्री अधिकार हुआ करती थी! 1999 में एक दिन एक पादरी ने मुझे प्रभु यीशु के सुसमाचार का उपदेश दिया। मेरे संजीदा...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें