434 अपना हृदय परमेश्वर की ओर मोड़ कर ही तुम परमेश्वर की सुंदरता कर सकते हो महसूस

1

ईश्वर को संतुष्ट करोगे जितना, दिल तुम्हारा उसकी ओर होगा उतना।

करोगे जितनी तुम प्रार्थना उतनी सुंदरता उसकी खोज सकोगे।

उसे संतुष्ट करोगे जितना, उतना ही देगा बोझ अपना वो तुम्हें,

जितना प्रेम करोगे, उसकी ओर होगा दिल भी उतना।

जब तुम पहुँचो वहाँ, जहाँ उसकी सुंदरता दिखे,

तब तुम तह-ए-दिल से उसकी स्तुति कर सकोगे।

न रोक कोई सकेगा जब स्तुति तुम करोगे।

उसकी सुंदरता देखोगे जब उसकी ओर हो तुम्हारा दिल,

जब उसकी ओर हो तुम्हारा दिल।

2

ईश्वर के लिए प्रेम तुम्हारा बढ़े जितना, उतना कम ग़लत हो सोच-विचार तुम्हारा।

शैतान को मौका न मिलेगा कि तुम में अपना काम कर सके।

तब बहिष्कृत मौत का माहौल होगा पूरी तरह,

तुम्हारा दिल होगा ईश्वर की ओर देखने को उसकी सुंदरता।

जब तुम पहुँचो वहाँ, जहाँ उसकी सुंदरता दिखे,

तब तुम तह-ए-दिल से उसकी स्तुति कर सकोगे।

न रोक कोई सकेगा जब स्तुति तुम करोगे।

उसकी सुंदरता देखोगे जब उसकी ओर हो तुम्हारा दिल,

जब उसकी ओर हो तुम्हारा दिल।

— परमेश्‍वर की संगति से रूपांतरित

पिछला: 433 जब तुम देते हो अपना हृदय परमेश्वर को

अगला: 435 अगर तुम ईश्वर में विश्वास करते हो तो उसे अपना हृदय सौंप दो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें