258 मैं परमेश्वर से प्रेम करने को संकल्पित हूँ

हे ईश्वर, देख ली है मैंने

तेरी धार्मिकता और पवित्रता की सुंदरता।

सत्य खोजने को संकल्पित हूँ।

मैं तुझसे प्रेम करने को संकल्पित हूँ।

1

मेरी आत्मा की आँखें खोल तू,

अपने आत्मा से मेरे दिल को छू ले तू,

ताकि जो कुछ नकारात्मक है, दूर कर दूँ,

ताकि कोई चीज़ या इंसान बने न बाधा,

ताकि अपना दिल तेरे सामने खोल दूँ,

ख़ुद को तेरे आगे समर्पित कर दूँ।

तू जैसे चाहे मेरा इम्तहान ले,

मैं खुद को पूरी तरह तेरे हवाले करूं।

न भविष्य की चिंता मुझे,

न मौत का डर मुझे।

तुझे प्रेम करने वाले दिल से,

जीवन का मार्ग खोजूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे प्रेम करूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे हासिल करूँ।

आराम न करूँ, जब तक पा न लूँ तुझे,

मैं तुझसे प्रेम करने को संकल्पित हूँ।

2

हे ईश्वर, सबकुछ है तेरे हाथों में।

मेरी नियति, मेरा जीवन तेरे वश में।

मैं तेरे अनुसरण का संकल्प लेती हूँ,

पक्का इरादा मेरा तुझसे प्रेम करूं।

चाहे तू मुझे करने दे

या न करने दे तुझसे प्यार,

या कैसी भी बाधा डाले शैतान,

है पक्का इरादा सचमुच तुझसे प्रेम करूं।

न भविष्य की चिंता मुझे,

न मौत का डर मुझे।

तुझे प्रेम करने वाले दिल से,

जीवन का मार्ग खोजूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे प्रेम करूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे हासिल करूँ।

आराम न करूँ, जब तक पा न लूँ तुझे,

मैं तुझसे प्रेम करने को संकल्पित हूँ।

3

मैं तेरे अनुसरण को तैयार हूँ।

तू छोड़ दे मुझे भले,

पर तेरे पीछे आना चाहूँ।

तू चाहे न चाहे मुझे, मैं तुझे चाहूँ,

अंत में तुझे मैं ज़रूर पा लूँ।

मैं दिल दूँ तुझे, तू चाहे जो कर,

अनुसरण करूँ तेरा आजीवन।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे प्रेम करूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे हासिल करूँ।

आराम न करूँ, जब तक पा न लूँ तुझे,

मैं तुझसे प्रेम करने को संकल्पित हूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे प्रेम करूँ।

चाहे कुछ हो, मैं तुझे हासिल करूँ।

आराम न करूँ, जब तक पा न लूँ तुझे,

मैं तुझसे प्रेम करने को संकल्पित हूँ।

पिछला: 257 परमेश्वर के हृदय को अभी तक सुकून नहीं मिला है

अगला: 259 मैं हूँ बस एक अदना सृजित प्राणी

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें