766 ईश्वर से प्रेम करने वालों का आदर्श-वाक्य

आज भी लोग नहीं जानते, ईश्वर अंत के दिनों में क्या है करता,

क्यों वो इंसान के साथ खड़ा होके देह में इतनी शर्मिंदगी सहे;

दुख के बावजूद साथ बना रहे।

1

इंसान न जाने ईश्वर के लक्ष्य, उसकी योजना के उद्देश्य।

वो जो प्रवेश मांगे, इंसान उसके प्रति उदासीन रहे।

ये देहधारी परमेश्वर के काम के लिए एक बड़ी चुनौती है।

इंसान बने बाधा, न समझे अच्छे से।

सभी भाई-बहन अपनी शक्ति में जो भी है करें,

अपना पूरा अस्तित्व ईश्वर के स्वर्गिक इरादों पर अर्पित करें।

तुम पवित्र सेवक बनो, ईश्वर के भेजे वादों का आनंद लो,

जिससे ईश्वर का हृदय शांति से आराम कर सके।

2

इस तरह ईश्वर इंसान पर किए जा रहे अपने काम,

अपने इरादों के बारे में बताएगा, जिससे तुम वफादार सेवक बनो।

अय्यूब की तरह तुम मर भले जाओ, पर ईश्वर को नहीं नकारोगे।

ईश्वर का विश्वासपात्र बनने को पतरस की तरह अपना सब-कुछ दोगे।

सभी भाई-बहन अपनी शक्ति में जो भी है करें,

अपना पूरा अस्तित्व ईश्वर के स्वर्गिक इरादों पर अर्पित करें।

तुम पवित्र सेवक बनो, ईश्वर के भेजे वादों का आनंद लो,

जिससे ईश्वर का हृदय शांति से आराम कर सके।

"परमपिता परमेश्वर की इच्छा पूरी करना" ही

ईश्वर को चाहने वालों का आदर्श-वाक्य हो।

ये इंसान के प्रवेश का मार्गदर्शक हो, उसके कार्यों को दिशा दिखाए।

इंसान का यही संकल्प होना चाहिए।

3

धरती पर ईश-कार्य पूरा करने में ईश्वर का सहयोग करना, इंसान का फ़र्ज़ है।

जिस दिन ईश-कार्य पूरा हो जाएगा, इंसान उसे विदाई देगा; वो स्वर्ग लौट जाएगा।

क्या इंसान को ये फ़र्ज़ निभाना नहीं चाहिए?

सभी भाई-बहन अपनी शक्ति में जो भी है करें,

अपना पूरा अस्तित्व ईश्वर के स्वर्गिक इरादों पर अर्पित करें।

तुम पवित्र सेवक बनो, ईश्वर के भेजे वादों का आनंद लो,

जिससे ईश्वर का हृदय शांति से आराम कर सके।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'कार्य और प्रवेश (6)' से रूपांतरित

पिछला: 765 परमेश्वर की सुंदरता को जानना है तो उसके कार्य का अनुभव करो

अगला: 767 परमेश्वर में विश्वास करना लेकिन उसे प्रेम नहीं करना एक व्यर्थ जीवन है

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें