279 तेरे द्वारा सृजित, मैं हूँ तेरी

I

कई उतार-चढ़ावों और अनगिन बदलावों से होकर।

मैं चलती हूँ तेरे पीछे-पीछे, बारिश में पूरी तरह भीगकर।

खतरे और मुश्किलें हैं भट्टी, सच्चे प्यार और उत्साह की।

प्यार में पागल दिल मेरा, बहुत चाहता है तुझे, तुझे।

कितनी ही बार कटु सर्दी बन गयी सुंदर बसंत?

कड़वा फिर मीठा, चखा सब एक-एक कर।

पतझड़ बीत गया, अब स्वागत करती मैं बसंती बहारों का।

अनिश्चितताएं एक योद्धा के जीवन की, तेरे दिल को मैं जानती हूँ।

जब विनम्रता से आया तू इस दुनिया में, कष्ट सहा तूने।

बारिश तूफ़ान झेले तूने, पर किसी को तरस ना आया।

कईयों ने ठुकराया तुझे, दुखदायी इतना कि शब्दों में बयाँ न हो सके।

फिर भी तेरे दिल की इच्छा तेरे वचनों से झलकती है।

जीवन के तेरे वचन मेरे दिल को सींचते हैं,

अंतरतम गहराई से।

अच्छा बनकर दिल मेरा, तुझे चाहता है।

कब होगा मेरा दिल एक तेरे दिल के साथ?

तेरे द्वारा सृजित, तेरी हूँ मैं।

विश्वास तोड़ना होगा एक अनादि पाप।

तेरे चोट खाए दिल के आँसू पोछूँगी मैं।

तेरे दिल की इच्छा पूरी करने, अपना दिल देती हूँ मैं।


II

जब तू चला गया, तो कठिन है जानना तू कब वापस आएगा,

तू कब वापस आएगा।

मौत जैसी चुभती है ये जुदाई, दुःख भरे आँसू झरते हैं।

इंतजार करती, जाना नहीं चाहती, मेरे दिल के टुकड़े हज़ार हुए हैं।

पलकें बिछाए, तेरी वापसी के लिए तड़प रही हूँ मैं।

सूनी है आत्मा मेरी इतनी कि छिप नहीं सकती मैं।

घुटने टेकती हूँ जब, महसूस होता है मलाल बेधता है आत्मा मेरी।

दूर हैं बहुत, लेकिन दोस्त हैं नज़दीकी।

छोटा-सा चढ़ावा रखती हूँ तेरे सामने।

जब हम मिलते हैं, तू मुझ पर मुस्कुराता है।

पिछला: 278 अपना मार्ग हमें स्वयं चुनना है

अगला: 280 तुम सच्चा जीवन हो मेरा

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें