252 परमेश्वर के प्रकटन की खोज के लिए तुम्हें राष्ट्रीयता और जातीयता की धारणाओं को तोड़ना होगा

1

अपनी राष्ट्रीयता से, बाहर निकलो तुम ख़ुद से पार जाओ तुम।

बाहर निकलो तुम अपने बंधनों से निकलो ईश-कार्य देखो जीव की नज़र से।

सीमा में न बांधोगे ईश्वर के पदचिह्नों को तुम।

खोजने को ईश-प्रकटन राष्ट्र और इंसानी नस्ल के विचार त्यागो तुम।

विचार त्यागो तुम ताकि उन्हीं में न बँधो तुम, ईश्वर-प्रकटन का स्वागत करो तुम।

वरना, अंधकार में रहकर ईश-स्वीकृति न पाओगे।

खोजो ईश्वर-प्रकटन ! खोजो ईश्वर-प्रकटन !

2

इसे नामुमकिन समझें बहुत से लोग—किसी ख़ास देश में, ईश्वर प्रकट होगा।

ईश-कार्य के मायने कितने गहरे, ईश-प्रकटन कितना ज़रूरी

इंसान की धारणा, सोच कैसे पाए थाह उसकी?

खोजने को ईश-प्रकटन राष्ट्र और इंसानी नस्ल के विचार त्यागो तुम।

विचार त्यागो तुम ताकि उन्हीं में न बँधो तुम,

ईश्वर-प्रकटन का स्वागत करो तुम।

वरना, अंधकार में रहकर ईश-स्वीकृति न पाओगे।

खोजो ईश्वर-प्रकटन ! खोजो ईश्वर-प्रकटन !

3

किसी देश की संपत्ति नहीं, वो मानवजाति का ईश्वर है।

वो योजना से काम करे, कोई रूप, देश उसमें बाधा न बने।

शायद ये रूप न सोचा तुमने, या तुम्हारा रवैया इसे नकारना है,

या ईश्वर प्रकट हो जहाँ, सबसे ज़्यादा ठुकराए लोग होते वहाँ।

पर ईश्वर बुद्धिमान है।

महान सामर्थ्य, सत्य, अपने स्वभाव से उसने,

पा लिया वो समूह जो उससे एक मन है,

उसी को वो पूर्ण बनाएगा जो जीत लिए गए हैं, मुसीबत और

इम्तहान सहे जिन्होंने, जो अंत तक करें अनुसरण उसका।

खोजने को ईश-प्रकटन राष्ट्र और इंसानी नस्ल के विचार त्यागो तुम।

विचार त्यागो तुम ताकि उन्हीं में न बँधो तुम, ईश्वर-प्रकटन का स्वागत करो तुम।

वरना, अंधकार में रहकर ईश-स्वीकृति न पाओगे।

खोजो ईश्वर-प्रकटन ! खोजो ईश्वर-प्रकटन ! खोजो ईश्वर-प्रकटन !

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के प्रकटन ने एक नए युग का सूत्रपात किया है' से रूपांतरित

पिछला: 251 ईश्वर के प्रकटन को परिसीमित करने के लिए कल्पना पर भरोसा न करो

अगला: 253 परमेश्वर संपूर्ण सृष्टि का प्रभु है

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें