484 परमेश्वर में सच्चा विश्वास उसके वचनों का अभ्यास और अनुभव है

1

ईश-वचनों के व्यावहारिक अनुभव से ही

इंसान को मिले सत्य और ज़िंदगी।

केवल इससे ही इंसान समझ सके

सामान्य मानवता क्या है।

इससे ही इंसान समझ सके क्या है सार्थक जीवन,

क्या है सच्चा सृजित प्राणी होना,

ईश्वर की आज्ञा मानना,

कैसे उसे ईश्वर की परवाह करनी चाहिए,

कैसे सृजित प्राणी का कर्तव्य निभाना

और कैसे एक असली इंसान बनना चाहिए।


2

ईश-वचनों के व्यावहारिक अनुभव से ही

सच्ची आस्था और आराधना समझी जा सके।

इससे ही इंसान जाने कौन है शासक

स्वर्ग, पृथ्वी और सभी चीज़ों का।

इससे ही इंसान समझे कि सभी चीज़ों का मालिक

कैसे सब पर शासन करे,

कैसे अपनी सृष्टि की अगुआई करे, पोषण दे।

इससे ही इंसान देखे कि कैसे वो अस्तित्व में रहे,

कैसे वो खुद को अभिव्यक्त करे, काम करे।


ईश-वचनों के असल अनुभव के बिना

इंसान को उनका और सत्य का ज्ञान नहीं होता है।


3

ऐसा इंसान बस जिंदा लाश है, बस एक ढांचा है,

उसे सृष्टिकर्ता का कोई ज्ञान नहीं।

ईश्वर की नज़रों में, ऐसे इंसान ने

उस पर कभी विश्वास नहीं किया,

उसने कभी उसका अनुसरण नहीं किया है।

ईश्वर न समझे उसे अनुयायी, न समझे उसे विश्वासी,

न समझे उसे एक सच्चा सृजित प्राणी।


—वचन, खंड 2, परमेश्वर को जानने के बारे में, प्रस्तावना से रूपांतरित

पिछला: 483 चाहे बड़ा हो या छोटा, सबकुछ मायने रखता है जब परमेश्वर की राह का पालन कर रहे हो

अगला: 485 परमेश्वर के कार्य का अनुभव उसके वचनों से अविभाज्य है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें