175 ऊँचे हरे खेतों में सभा

1

हर दिन हम पुलिस को चकमा देते हैं; सभा के लिए कोई जगह सुरक्षित नहीं है।

सीसीपी की खोजी नजरों से बचने के लिए, हम विशाल हरे खेतों में चोरी-छिपे सभा करते हैं।

परमेश्वर के वचनों के अंशों को टॉर्च की धुंधली रोशनी में पढ़ते हैं।

हम उसके वचन फुसफुसाकर पढ़ते हैं, हर कोई अपना प्रकाश साझा करता है।

हम सत्य पर जितनी संगति करते हैं, उतने ही प्रबुद्ध होते जाते हैं, हमारी आस्था और शक्ति उतनी ही मजबूत होती जाती है।

मुश्किल हालात के बावजूद, परमेश्वर के हमारे साथ होने से, हमारा जोश कम नहीं होता और हम शांतचित्त महसूस करते हैं।

बड़े लाल अजगर के देश में, परमेश्वर में आस्था रखने से हम पर निरंतर गिरफ्तारी और जेल का खतरा मँडराता रहता है।

परमेश्वर के वचनों को खाने-पीने की खातिर इकट्ठा होने के लिए भी, हमें भगोड़ों की तरह बर्ताव करना पड़ता है।

परमेश्वर में आस्था रखना और उसकी आराधना करना, स्वर्ग का आदेश और धरती की अनुकंपा है; यह इंसान का कर्तव्य है।

परमेश्वर हमारे साथ है, अब हम न कायर हैं न डरते हैं।

हालाँकि आगे का रास्ता खतरनाक है, लेकिन हम संकल्पबद्ध हैं : हम मसीह का अनुसरण करेंगे और जीवन के सही मार्ग पर चलेंगे।

2

परमेश्वर में आस्था के उथल-पुथल भरे रास्ते के बारे में सोचकर, हम भाव-विभोर हो जाते हैं।

अगर परमेश्वर के वचन राह न दिखाते, तो आज हम यहाँ तक न पहुंच पाते।

अनेक सभाओं के दौरान हम पुलिस से घिर जाते थे।

हम परमेश्वर की सुरक्षा के कारण ही बचकर निकल पाते थे और उसकी सर्वशक्तिमत्ता और संप्रभुता के दर्शन करते थे।

बरसों तक हमने घर लौटने का साहस न किया, और जगह-जगह भटकते रहे।

जब कभी हम कमजोर पड़ते तो परमेश्वर के वचन हमें सहारा देते और हमें मजबूत बनाते।

ये अत्याचार और कठिनाइयाँ परमेश्वर की ही देन थीं, जो हमारी आस्था को मजबूत बनाने के लिए शैतान का इस्तेमाल करता है।

बड़े लाल अजगर की दुष्टता के सार को अपनी संपूर्णता में देखकर, परमेश्वर के लिए हमारा हार्दिक प्रेम और भी बढ़ जाता है।

हालाँकि हमें नहीं पता कि इस मुश्किल मार्ग पर अभी और कितना चलना है,

मगर परमेश्वर के वचनों के मार्गदर्शन में, हमारी आस्था सौ गुना मजबूत हुई है और हम निरंतर आगे बढ़ रहे हैं।

बड़ा लाल अजगर हमें कितनी भी भयंकर यातनाएँ दे, मगर हम अंत तक, बल्कि मौत तक मसीह का अनुसरण करेंगे।

पिछला: 174 परमेश्वर का अनुसरण बहुत बारीकी से करो

अगला: 176 निगरानी के साए में दिन

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें