457 पवित्र आत्मा के कार्य से इंसान सक्रिय रूप से प्रगति करता है

1

पवित्र आत्मा इंसान के गुणों को काम में लाकर, उसका इस्तेमाल करे।

वो उसकी कमियों को भी दूर करे, उसकी कमज़ोरियों को मिटाए।

अगर तुम अपना दिल ईश्वर में लगाओ,

उसके आगे शांत रह पाओ, शांत रह पाओ,

तो तुम पवित्र आत्मा द्वारा इस्तेमाल के योग्य हो जाओगे।

तुम प्रबोधन पाओगे; तुम प्रकाशन पाओगे।

पवित्र आत्मा दूर कर देगा सारे दोष तुम्हारे।

पवित्र आत्मा जब प्रबुद्ध करे, तो न बनाए नकारात्मक कभी इंसान को,

बल्कि ले जाए उसे प्रगति की राह पर।

इंसान न जिये अपने निर्बल क्षणों के सहारे।

न रोके अपने जीवन-विकास को।

कोशिश करता वो पूरा करे ईश्वर के इरादों को।

ये साबित करे पा लिया उसने पवित्र आत्मा की मौजूदगी को।

जब ईश्वर को तुम अपना दिल दोगे, तो उच्च स्तर की गहराई में प्रवेश करोगे;

अपने दोषों, कमियों के बारे में बहुत-सारी समझ हासिल करोगे।

ईश्वर के इरादे पूरे करने के लिए और अधिक उत्सुक हो जाओगे।

तुम सक्रिय होकर अंदर प्रवेश करोगे। इस तरह तुम सही इंसान बन जाओगे।

2

जब दिल तुम्हारा शांत हो ईश्वर के आगे, तुम उसे खुश करते हो या नहीं,

पवित्र आत्मा की प्रशंसा पाते हो या नहीं, निर्भर है तुम्हारे सक्रिय प्रवेश पर।

ईश-कार्य इंसान को सक्रिय रूप से प्रवेश करने के योग्य बनाए,

ज्ञान दिलाकर उसे नकारात्मक पहलुओं से मुक्त कराये।

पवित्र आत्मा जब प्रबुद्ध करे, तो न बनाए नकारात्मक कभी इंसान को,

बल्कि ले जाए उसे प्रगति की राह पर।

इंसान न जिये अपने निर्बल क्षणों के सहारे।

न रोके अपने जीवन-विकास को।

कोशिश करता वो पूरा करे ईश्वर के इरादों को।

ये साबित करे पा लिया उसने पवित्र आत्मा की मौजूदगी को।

पवित्र आत्मा की मौजूदगी को, पवित्र आत्मा की मौजूदगी को।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के साथ सामान्य संबंध स्थापित करना बहुत महत्वपूर्ण है' से रूपांतरित

पिछला: 456 पवित्र आत्मा के कार्य को अपने प्रवेश में लेकर चलो

अगला: 458 जब पवित्र आत्मा मनुष्य पर कार्य करता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें