606 इंसान को मापने के लिए परमेश्वर उसकी प्रकृति का इस्तेमाल करता है

1

पौलुस जीवन खोजता था, पर उसे अपना सार पता न था।

न वो विनम्र था, न ही आज्ञाकारी,

न जानता था कि वो कैसे ईश्वर का विरोध करता था।

और इसलिए पौलुस नहीं गुज़रा

विस्तृत अनुभव से, न किया सत्य का अभ्यास उसने।

पतरस था काफी अलग।

पतरस जानता था अपनी कमज़ोरियाँ, दोष और भ्रष्टता।

इसलिए उसके पास अपना स्वभाव बदलने के लिए अभ्यास का पथ था।

हों बस सिद्धांत, वास्तविकता नहीं, ऐसा इंसान नहीं था।

इंसान दूसरों को उनके योगदान के अनुसार मापे।

पर इंसान को ईश्वर उसकी प्रकृति से मापे।

इंसान दूसरों को उनके योगदान के अनुसार मापे।

पर इंसान को ईश्वर उसकी प्रकृति से मापे।

2

जो बदल जाते, वे बचाए गए, नए लोग हैं,

वे सत्य खोजने के योग्य हैं,

न बदलने वाले स्वाभाविक रूप से पुराने हैं।

वे वो हैं जो बचाए नहीं गए।

ईश्वर उनसे घृणा करे, उन्हें अस्वीकार करे।

चाहे जितना भी बड़ा काम हो उनका,

ईश्वर न बदलने वालों को याद न रखेगा।

इंसान दूसरों को उनके योगदान के अनुसार मापे।

पर इंसान को ईश्वर उसकी प्रकृति से मापे।

इंसान दूसरों को उनके योगदान के अनुसार मापे।

पर इंसान को ईश्वर उसकी प्रकृति से मापे।

3

जो तुम खोजते, उसमें अगर सत्य नहीं,

अगर तुम हो पौलुस की तरह असभ्य,

अहंकारी, डींगे मारते बकवादी,

तो तुम हो नाकामयाब, पतित इंसान।

लेकिन अगर पतरस की तरह अभ्यास,

सच्चा बदलाव खोजते तुम, अहंकारी और ज़िद्दी नहीं,

कर्तव्य निभाने का प्रयास करते हो,

तो तुम ईश्वर के प्राणी हो जो विजय पा सके।

इंसान दूसरों को उनके योगदान के अनुसार मापे।

पर इंसान को ईश्वर उसकी प्रकृति से मापे।

इंसान दूसरों को उनके योगदान के अनुसार मापे।

पर इंसान को ईश्वर उसकी प्रकृति से मापे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सफलता या विफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है' से रूपांतरित

पिछला: 605 परमेश्वर द्वारा प्राप्त किया जाना तुम्हारी अपनी कोशिश पर निर्भर है

अगला: 607 परमेश्वर की सेवा के लिए न्यूनतम आवश्यकता

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें