271 परमेश्वर बचाता है उन्हें जो उसकी आराधना करते और बुराई से दूर रहते हैं

1

नूह के समय में, इंसान भटक गया था,

बेहद भ्रष्ट होकर, परमेश्वर की आशीष से वंचित हो गया था,

परमेश्वर की देखभाल से वंचित, उसकी प्रतिज्ञाओं को खो चुका था।

परमेश्वर की रोशनी के बग़ैर, अंधकार में जी रहा था,

वो प्रकृति से दुराचारी हो गया था,

वो घिनौनी भ्रष्टता के वशीभूत हो गया था।

सिर्फ़ नूह बुराई से दूर रहा और परमेश्वर की आराधना की,

इसलिये परमेश्वर की वाणी को वो सुन पाया,

परमेश्वर के निर्देशों को सुन पाया,

परमेश्वर के हुक्म के मुताबिक़ नाव बना पाया।

हर तरह के, हर क़िस्म, ढंग और विशेषता के

जीवित प्राणियों को उसने इकट्ठा किया।

हो गई जब हर तैयारी पूरी,

तो परमेश्वर ने शुरू की अपनी विनाशलीला, अपनी विनाशलीला।

2

इंसान इतना गिर गया था,

वो फिर परमेश्वर की नेक प्रतिज्ञाओं को ग्रहण नहीं कर पाया।

वो परमेश्वर का चेहरा देखने के बिल्कुल काबिल न था,

न ही उसकी वाणी सुनने के काबिल था।

क्योंकि त्याग दिया था उसने परमेश्वर को,

दर-किनार कर दिया था उसने जो दिया था।

छोड़ दिया था, और भुला दिया था उसने परमेश्वर की सारी सीख को।

3

इतनी ज़्यादा थी इंसान की भटकन और उसका दुराचार।

खो दी थी उसने अपनी सारी तर्क-बुद्धि और इंसानियत।

इतनी व्यापक और अधम थी दुष्टता उसकी,

लगातार वो मौत के क़रीब आता गया।

दूर होता गया वो परमेश्वर के मार्ग से,

इस तरह वो परमेश्वर की सज़ा और कोप का भागी बना।

सिर्फ़ नूह बुराई से दूर रहा और परमेश्वर की आराधना की,

इसलिये परमेश्वर की वाणी को वो सुन पाया,

परमेश्वर के निर्देशों को सुन पाया,

परमेश्वर के हुक्म के मुताबिक़ नाव बना पाया।

हर तरह के, हर क़िस्म, ढंग और विशेषता के

जीवित प्राणियों को उसने इकट्ठा किया।

हो गई जब हर तैयारी पूरी,

तो परमेश्वर ने शुरू की अपनी विनाशलीला, अपनी विनाशलीला।

सिर्फ़ नूह और उसका कुटुम्ब ज़िंदा बचा,

सिर्फ़ नूह और उसके कुटुम्ब के सात लोग ज़िंदा बचे।

क्योंकि सिर्फ़ नूह बुराई से दूर रहा और यहोवा की आराधना की,

और यहोवा की आराधना की।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर संपूर्ण मानवजाति के भाग्य का नियंता है' से रूपांतरित

पिछला: 270 परमेश्वर उनकी तलाश कर रहा है जो उसके प्रकटन के प्यासे हैं

अगला: 272 दुनिया में इंसान का अंत लाता ईश्वर

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें