16 परमेश्वर का डेरा विश्व में प्रकट हुआ है

1

जब फिर से लौटेगा परमेश्वर,

विभाजित हो चुकी होगी सीमा देशों की,

तय की हैं जो उसकी सुलगती ज्वालाओं ने।

प्रकट होगा प्रखर सूर्य-सा, पवित्र-सा वो।

चलेगा वो देशों में, चला था यहोवा यहूदी कबीलों में जैसे।

करेगा वो अगुवाई इंसान की, उसके जीवन में एक बादल-स्तम्भ के साथ।

देखेगा इंसान महिमा परमेश्वर की,

क्योंकि प्रकट होता वो पवित्र धरती पर।

देखेगा इंसान धार्मिक दिवस परमेश्वर का,

महिमामय प्रकटन उसका

ये होगा तब जब परमेश्वर शासन करेगा धरती पर।

नमन करेगा इंसान,

परमेश्वर का डेरा उनके बीच स्थापित होगा,

कर रहा जो आज वो उस कार्य की चट्टान पर निर्मित होगा।

मलिनता की वेदी को ध्वस्त कर, परमेश्वर नई वेदी का निर्माण करेगा।

इंसान मंदिर में उसकी सेवा करेगा,

वेदी पर मेमनों, बछड़ों का जमघट होगा।

देखोगे वो दिन तुम जब परमेश्वर महान महिमा पाएगा,

जब मन्दिर को ढहा कर, वो नया मन्दिर बनाएगा।

तुम देखोगे प्रकट होते धरती पर डेरा उसका।

जैसा देखेगा इंसान उसे प्रकट होते, ये वैसा ही होगा।

2

ध्वस्त करके देशों को परमेश्वर, उनका नव-निर्माण करेगा।

बनाकर अपना मन्दिर वो अपनी वेदी स्थापित करेगा,

ताकि अर्पित करें, सेवा करें सब जन उसकी,

समर्पित करें ख़ुद को अन्यजाति देशों में उसके कार्य को।

याजकों के लिबास और मुकुट में सभी,

और अपने मध्य परमेश्वर की महिमा लिये,

परमेश्वर का प्रताप उन पर होगा, उनके साथ होगा,

आज की तरह के इस्राएली होंगे वो।

नमन करेगा इंसान,

परमेश्वर का डेरा उनके बीच स्थापित होगा,

कर रहा जो आज वो उस कार्य की चट्टान पर निर्मित होगा।

मलिनता की वेदी को ध्वस्त कर, परमेश्वर नई वेदी का निर्माण करेगा।

इंसान मंदिर में उसकी सेवा करेगा,

वेदी पर मेमनों, बछड़ों का जमघट होगा।

देखोगे वो दिन तुम जब परमेश्वर महान महिमा पाएगा,

जब मन्दिर को ढहा कर, वो नया मन्दिर बनाएगा।

तुम देखोगे प्रकट होते धरती पर डेरा उसका।

जैसा देखेगा इंसान उसे प्रकट होते, ये वैसा ही होगा।

3

जिस तरह किया है कार्य उसने इस्राएल में,

उसी तरह करेगा कार्य अन्यजाति देशों में परमेश्वर,

क्योंकि बढ़ाएगा इस्राएल के अपने कार्य को वो,

और फैलाएगा कार्य को अन्यजाति देशों में वो।

नमन करेगा इंसान,

परमेश्वर का डेरा उनके बीच स्थापित होगा,

कर रहा जो आज वो उस कार्य की चट्टान पर निर्मित होगा।

मलिनता की वेदी को ध्वस्त कर, परमेश्वर नई वेदी का निर्माण करेगा।

इंसान मंदिर में उसकी सेवा करेगा,

वेदी पर मेमनों, बछड़ों का जमघट होगा।

देखोगे वो दिन तुम जब परमेश्वर महान महिमा पाएगा,

जब मन्दिर को ढहा कर, वो नया मन्दिर बनाएगा।

तुम देखोगे प्रकट होते धरती पर डेरा उसका।

जैसा देखेगा इंसान उसे प्रकट होते, ये वैसा ही होगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सुसमाचार को फैलाने का कार्य मनुष्य को बचाने का कार्य भी है' से रूपांतरित

पिछला: 15 परमेश्वर है लौटा जीत के साथ

अगला: 17 परमेश्वर के प्रकटन की महत्ता

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें