850 परमेश्वर की वास्तविकता और सुंदरता

1

प्रभु परमेश्वर ने आदम और हव्वा के वास्ते,

चमड़े के लबादे बनाए और पहना दिए उन्हें।

इस तस्वीर से परमेश्वर, आदम और हव्वा के,

मां-बाप के किरदार में नज़र आता है। आह... आह... आह...

2

परमेश्वर ने आदम और हव्वा को बनाया, उन्हें अपना साथी

और परिवार बनाया, ख़्याल रखा और पूरी की ज़रूरतें उनकी।

परमेश्वर, आदम और हव्वा के, मां-बाप के किरदार में नज़र आता है।

इस काम में, परमेश्वर जो करता है।

वो कितना ऊँचा है, या उसकी परम महत्ता,

इंसान देख नहीं पाता है, देख नहीं पाता है।

वो रहस्यों में छिपा है, ना ये देख पाता है,

ना उसका रोष और प्रताप देख पाता है।

उसका प्रेम, विनय, फ़र्ज़ और फ़िक्रमंदी,

इंसान के लिए है, महज़ इतना देख पाता है।

3

परमेश्वर ने आदम और हव्वा से वैसा ही बर्ताव किया,

जिस तरह मां-बाप अपने बच्चों से करते हैं,

उनकी देखभाल करते हैं, उन्हें सच्चा प्यार करते हैं।

इतना असल और सच्चा कि उसे, छुआ जा सकता है, देखा जा सकता है।

परमेश्वर ने नहीं रखा अपना ओहदा ऊंचा,

ख़ुद अपने हाथों से बनाया उसने लिबास इंसान का।

इतनी सादगी है इस बात में कि ज़िक्र भी ज़रूरी नहीं,

मगर जो परमेश्वर के अनुयायी हैं,

जिनके ख़्याल पहले परमेश्वर के बारे में साफ़ नहीं थे,

वो देख पाएंगे कि, परमेश्वर कितना सच्चा है,

कितना प्यारा है, कितना खरा, कितना विनीत है,

कितना सच्चा है, कितना प्यारा है, कितना खरा, कितना विनीत है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I' से रूपांतरित

पिछला: 849 परमेश्वर के वादे उनके लिए जो पूर्ण किए जा चुके हैं

अगला: 851 कितना अहम है प्यार परमेश्वर का इंसान के लिये

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें