87 परमेश्वर का प्रेम इंसानों के बीच है

1

दो हज़ार वर्ष पहले, महिमा में तुमने छोड़ा यहूदिया।

अब अंत के दिनों में, विनम्र और छिपे हुए,

तुम आए हो चीन में।

तुम प्रकट होते हो और काम करते हो, व्यक्त करते हो सत्य,

मानव जाति का न्याय और शुद्धिकरण करते हो।

तुम्हारे वचन दिखाते हैं तुम्हारी सर्वशक्तिमत्ता,

तुम्हारे वचनों ने प्राप्त की है विजय और

किया है पूर्ण लोगों का एक समूह।

तुमने चुकाई है हर कीमत,

मानव जाति के उद्धार के लिए तुमने दिया है सब कुछ।

2

तुम सर्वोच्च और सम्मानयोग्य हो, फिर भी तुम खुद को विनम्र बनाते हो, अपना काम करने को इंसान के रूप में प्रकट होते हो।

अभिमानी लोगों पर की जाती है विजय प्राप्त,

करते हैं वे तुम्हारे आगे समर्पण।

तुम्हारे वचनों के न्याय और ताड़ना

प्रकट करते हैं तुम्हारी धार्मिकता और पवित्रता।

महान शुद्धिकरण के ज़रिए

गहराई से दूषित मानव जाति होती है शुद्ध।

तुम्हारी ताड़ना और न्याय हैं

इंसान के लिए तुम्हारा प्रेम और आशीष।

3

काम करने के लिए देहधारी होकर,

तुम सहते हो बड़ा निरादर।

तुम सहते हो इंसान का तिरस्कार और ईश-निंदा,

तुम्हें किया है अस्वीकार इस युग ने।

तकलीफ़ों के कई सालों तक गुज़र कर,

तुम डटे रहे हो मानव जाति को बचाने के लिए,

अपने ख़ून, पसीने और आंसुओं के माध्यम से काम करते हुए,

इंसान के लौटने का इंतज़ार करते हुए।

तुम्हारी धार्मिकता और वफ़ादारी ने

विजय पाई है करोड़ों के दिलों पर।

4

तुम्हारी विनम्रता और तुम्हारे छिपे रहने को देखकर

भर जाते हैं हम प्रशंसा से।

तुम्हारी धार्मिकता और पवित्रता देखकर

हम भर जाते हैं भय और आज्ञाकारिता से।

तुम्हारे कर्मों की गवाही के लिए

इंसान के शब्द नहीं हैं पर्याप्त।

हमारा दिल में गहराई से बसा है आभार और प्रेम।

हमारी तुच्छ ताकत का एक-एक कतरा

वफ़ादारी से पूरा करेगा हमारा कर्तव्य।

पिछला: 86 सर्वशक्तिमान परमेश्वर मुझसे प्रेम करता है

अगला: 88 परमेश्वर का प्रेम सच्चा और असली है

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें